कर्नाटक के 10 बेस्ट टूरिज्म स्पॉट

om beach karnataka
अनिरुद्ध जोशी| Last Updated: गुरुवार, 9 सितम्बर 2021 (17:31 IST)
Photo curtsy : karnataka Tourism Department
कर्नाटक भारत का दक्षिणी राज्य है। कर्नाटक में देखने लायक सैकड़ों टूरिज्म स्पॉट है। आओ जानते हैं यहां के 10 बेहतरीन पर्यटन स्थल जहां पर आपको जरूर घूमने जाना चाहिए।

1. : कूर्ग एक हिल स्टेशन है। यह प्रकृति प्रेमियों का स्वर्ग है। यहां चाय के बागानों के साथ ही खूबसूरत पहाड़ियां और नदियों को देखा जा सकता है।

2. हम्पी : हम्पी मध्यकालीन हिन्दू राज्य विजयनगर साम्राज्य की राजधानी था। भारत के कर्नाटक राज्य में स्थित यह नगर यूनेस्को द्वारा 'विश्व विरासत स्थलों' की सूची में भी शामिल है। यहां दुनिया के सबसे बेहतरीन और विशालकाय मंदिर बने थे, जो अब खंडहर में बदल चुके हैं। यह माना जाता है कि एक समय में हम्पी रोम से भी समृद्ध नगर था। यहां मंदिरों की खूबसूरत शृंखला है, इसलिए इसे मंदिरों का शहर भी कहा जाता है। यहां पर विजयनगर साम्राज्य के 500 प्राचीन स्मारक, सुंदर मंदिर, हलचल वाले स्ट्रीट मार्केट, गढ़ और कई प्राकृतिक स्थल स्थित हैं।
3. बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान : एक समय यह मैसूर राज्य के महाराजा की निजी आरक्षित शिकारगाह थी। उन्होंने यहां के कई शेर और चीतों का शिकार करने उनके अस्तित्व को मुश्‍किल में डाल दिया। इस अभयारण्य में बाघ, तेंदुआ, हाथी, गौर, भालू, ढोल, सांबर, चीतल, काकड़, भारतीय चित्त‍ीदार मूषक, मृग तथा लोरिस पाए जाते हैं। उनके अलावा मृग हिरण, स्लॉथ बीयर, गौर, मगरमच्छ, चीतल, जंगली सूअर, अजगर, ओस्प्रे, मृग, हाइना और भौंकने वाले हिरण भी पाये जाते हैं है। इसमें लगभग 70 बाघ और 3000 से अधिक एशियाई हाथी हैं। यहां पक्षियों की 200 से अधिक प्रजातियां निवास करती हैं। इस अभयारण्य को पशु-पक्षियों के प्रे‍मी के लिए स्वर्ग कहा जाता है।

4. देवबाग : अरब सागर के तट पर स्थित देवबाग अपने सुंदर नीले पानी, सुंदर पहाड़ों, कैसुरिनास के पेड़ों के लिए प्रसिद्ध है। देवबाग में पूरे साल मौसम शानदार रहता है। यह शहर अपने समुद्र तट, सूर्यास्त और सूर्योदय, समुद्री भोजन के लिए भी जाना जाता है। देवबाघ तट एक ऐसे द्वीप के किनारे स्थित है जहां करवार तट से तेज चलने वाली नावों द्वारा पहुंचा जा सकता है। यह गोवा के दक्षिण भाग से करीब 2 किलोमीटर दूर है।
5. मुरुदेश्‍वर : मुरुदेश्‍वर समुद्री तट विशालकाय मंदिरों और सपनों के पर्यटक गंतव्‍य स्थल के लिए जाना जाता है। यहां भगवान के साक्षात्त दर्शन किए जा सकते हैं। सचमुच ही भगवान शिव की विशालकाय मूर्ति को देखना ऐसा ही लगता है कि वे स्वयं यहां हैं।

6. कुंचिकल और जोग फॉल्स : कुंचिकल जलप्रपात कर्नाटक के शिमोगा जिले में मस्थीकट्टे के पास निदगोडु गांव में स्थित है। इस झरने की ऊंचाई 455 मीटर (1493 फीट) है। यह भारत के सबसे ऊंचे झरनों में से एक है। कुंचिकल झरने को स्थानीय लोग कुंचिकल अब्बे के नाम से भी जानते है। वराही नदी के साथ बहने वाली अन्य कई नदियां मानसून के दौरान यहां के कई झरनों के संग मिल जाती है। इसलिए मानसून में हम कुंचिकल झरने के आसपास और कई छोटे झरने बहते देखते हैं। यहां का सबसे करीबी एयरपोर्ट बेंगलुरु है। कर्नाटक के ही शिमोगा में स्थित एक और बरकाना झरना 259 मीटर ऊंचा है। यह झरना भी सीता नदी के द्वार पश्चिमी घाट के पहाड़ों से ही नीचे गिरता है। इसी जिले में शरावती नदी द्वारा 253 मीटर की ऊंचाई पर एक झरना गिरता है जिससे जोग फॉल्स कहते हैं। जोग फॉल्स देश का दूसरा सबसे बड़ा झरना है।
Virupaksha Temple Hampi
7. मैंगलोर : यहां के शानदार समुद्र तटों पर घूमना और धूप सेंकना बहुत ही सुकून भरा अनुभव रहता है। यहां का सूर्यास्त का नजरा भी बहुत ही खूबसूरत रहता है। यहां पर आप समुद्री खाना और शिपयार्ड का दौरा करना मिस न करें। यहां पर विभिन्न मंदिर और चैपल में भी जरूर जाएं जो अपनी नायाब वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध हैं।

8. : यह स्थान ऐतिहासिक मंदिरों के साथ ही अपने शानदार समुद्री तटों के लिए भी मशहूर है। ऐसा माना जाता है कि गंगावली और अधनाशिनी नदियों पर बसे गोकर्ण का आकार गाय के कान जैसा है, इसलिए इसे गोकर्ण कहा जाता है। यहां का प्रसिद्ध मंदिर है महाबलेश्वर मंदिर। यहां प्राकृति नजारों से लबरेज ओम समुद्र तट से सूर्यास्त को देखें और पानी की सवारी, स्नॉर्कलिंग, और पैरासेलिंग जैसे पानी के खेल का लुफ्त उठाएं।
9. बादामी : उत्तरी कर्नाटक राज्य के दक्षिण-पश्चिमी में बादामी स्थित है, जहां पर जैन, हिंदू, और बौद्ध धर्म की गुफाएं हुई बनी है। इस नगर को प्राचीन समय में वातापी के नाम से जाना जाता था। यह अपने पाषाण शिल्पकला के मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है। यह चालुक्य राजाओं की पहली राजधानी थी।

10. दांडेली : यहां पर रोमांच है। जंगलों और वन्य जीवन से घिरा यह प्राकृतिक पहाड़ी इलाका एक साहसिक स्थान है। दांडेली साहसिक खेलों, रात्रि कैंप, प्रकृति की सैर, नौकायन और काली नदी में मछली पकड़ने के लिए जाना जाता है। काली नदी पर सफेद पानी राफ्टिंग का आनंद भी लिया जा सकता है।
इसके अलावा, मैसूर, बेलगाम, श्रवणबेलगोला, बेंगलुरु, बेलुर, बीदर, शिवनासमुद्रम फॉल्स, कारवार बीच, पट्टदकमल, ऐहोल, काबिनी, शिमोगा, चिकमंगलूर, गुलबर्गा, बीजापुर, उडुपी, कोयंबटूर, हुबली, बीआर हिल्स, इरपी फॉल्स, ब्रह्मागिरी जंगल, लक्ष्मणा तीर्थ, चिदंबरम मंदिर, चिकबल्लापुर, कोलार, शकलेशपुर आदि शानदार जगहों पर भी घूम सकते हो।



और भी पढ़ें :