0

कन्या संक्रांति पर आती है विश्‍वकर्मा जयंती, जानिए 5 रोचक बातें

शनिवार,सितम्बर 17, 2022
0
1
कहते हैं कि जब भी कोई व्यक्ति मर रहा हो तो उसे गीता के 2रे और 7वें अध्याय का पाठ सुनाना चाहिए। इससे उस व्यक्ति में आत्मबल की प्राप्ति होती है और वह निडर हो जाता है। गीता में पितृ और आत्मा के बारे में कई सारी बता बताई गई है। आओ जानते हैं प्रमुख 10 ...
1
2
Mandir Masjid vivad : कहते हैं कि सम्राट पुलकेशिन द्वितीय, सम्राट हर्षवर्धन और राजा दाहिर के साम्राज्य के पतन के बाद भारत में विदेशी आक्रांताओं का हमला बढ़ गया था। इन लुटरे और आक्रांताओं ने उत्तर भारत को लगभग खंडहर बना दिया था। इस दौरान भारत के ...
2
3
Gyanvapimasjid : पुरातत्व विभाग ने ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे कार्य पूरा कर लिया है और अब इसका फैसला हो रहा है। काशी विश्‍वनाथ मंदिर के इहितास से जुड़ा हुआ है ज्ञानवापी मस्जिद का इतिहास। आओ जानते हैं कि क्या है ज्ञानवापी मस्जिद के विवाद का इतिहास और ...
3
4
ब्रह्मास्त्र नाम से एक फिल्म हाल ही में रीलिज हुई है, जिसमें रणबीर कपूर और आलिया भट्ट ने मुख्‍य किरदार निभाया है। ब्रह्मास्त्र का जिक्र हिन्दू पौराणिक ग्रंथों में मिलता है। खासकर रामायण, महाभारत और अहिर्बुध्न्य संहिता में इसका उल्लेख किया गया है। ...
4
4
5
गरुड़ भगवान विष्णु का वाहन हैं। एक बार गरुड़ ने भगवान विष्णु से, प्राणियों की मृत्यु, यमलोक यात्रा, नरक-योनियों तथा सद्गति के बारे में अनेक गूढ़ और रहस्ययुक्त प्रश्न पूछे। उन्हीं प्रश्नों का भगवान विष्णु ने सविस्तार उत्तर दिया। इन प्रश्न और उत्तर की ...
5
6
भारत के उत्तराखंड में 9 सितंबर को हिमालय दिवस मनाया जाता है। प्रदेश में हिमालय दिवस मनाने की शुरुआत वर्ष 2010 में हुई थी। हिमालय दिवस मानने का उद्देश्य हिमालय के संवरक्षण के साथ ही यहां की संस्कृति और इतिहास को दर्शाना भी है। स बार मुख्य कार्यक्रम ...
6
7
सभी हिन्दू मंदिरों में बड़ी या छोटी घंटियां लगाई जाती है। मंदिर में प्रवेश करते वक्त घंटी बताते हुए प्रवेश किया जाता है। कई लोग मंदिर से बाहर निकलते समय भी बजाते हैं जो कि उचित नहीं है। घंटी के कई प्रकार हैं, जैसे 1.गरूड़ घंटी, 2.द्वार घंटी, 3.हाथ ...
7
8
Story of Radha: द्वारिका, जगन्नाथ सहित सारे धाम भले ही श्रीकृष्ण के हों लेकिन ब्रजधाम तो श्री राधारानी का ही धाम है, उसमें भी वृंदावन में तो राधाजी साक्षात विराजमान हैं। श्रीराधा जी का जिक्र विष्णु, पद्म पुराण और ब्रह्मवैवर्त पुराण में मिलता है। ...
8
8
9
भारतीय नौसेना में स्वदेश निर्मित विमानवाहक पोत ‘आईएनएस विक्रांत' शामिल हो गया है। वहीं भारतीय नौसेना ने अपने झंडे से गुलामी के प्रतीक लाल क्रॉस को हटा कर अब नया निशान लगाया है, जो कि छत्रपति शिवाजी महाराज की मुहर से लिया गया है। छत्रपति शिवाजी ...
9
10
प्रतिवर्ष वर्ष जन्माष्टमी के 15 दिन बाद यानी भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को राधा अष्टमी का पर्व मनाया जाता।‌ इस दिन राधा का जन्म हुआ था। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 3 और 4 सितंबर को अष्टमी तिथि रहेगी। 3 सितंबर को राधाष्टमी का उत्सव मनाया ...
10
11
Lingayat sect : कर्नाटक में लिंगायत संप्रदाय को लेकर राजनीति होती रही है। यह भी एक विवादित तथ्य है कि समय के साथ लिंगायतों ने खुद को बदला भी है, क्योंकि यह समुदाय लंबे समय से अलग धार्मिक समूह और धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा देने की मांग करता रहा है। ...
11
12
भगवान गणेशजी की कथा अनंत है। चारों युगों में उनका वर्णन मिलता है। उन्हें भी हनुमानजी जैसी वरदानी शक्तियां प्राप्त हैं। पुराणों में उनके 64 अवतारों का वर्णन मिलता है। भगवान गणेशजी के जीवन से यूं तो कई प्रसंग जुड़े हैं लेकिन यहां प्रस्तुत है कुछ खास ...
12
13
प्रातिवर्ष भाद्रपद की सप्तमी को महालक्ष्मी को विराजमान करके अष्टमी के दिन पूजा होती है। भारत में कई जगहों पर यह पर्व 8 दिन तो कई स्थानों पर 16 दिनों तक मनाया जाता है। इस मान से 3 सितंबर को यह व्रत प्रारंभ होकर इस व्रत का समापन 17 ‍सितंबर 2022 को ...
13
14
हिन्दू धर्म और ज्योतिष के अनुसार सूर्यास्त के बाद कुछ ऐसे कार्य होते हैं जिन्हें नहीं करना चाहिए। उन्हें करने से घर में रोग, शोक और संकट पैदा होते हैं और साथ ही देवी लक्ष्मी रूठ जाती है। आओ जानते हैं उन्हीं कार्यों में से 10 ऐसे कार्य जिन्हें भूलकर ...
14
15
कई लोग घर पर नियमित पूजा और आरती करते हैं। पूजाघर के कुछ नियम होते हैं जिनका पालन करना चाहिए। जैसे की घर का मंदिर किसी दिशा में बनाए या पूजा की थाली किस दिशा में रखें। किस तरह पूजा करें और कौन कौनसी पूजा सामग्री का उपयोग करें। उसी तरह घर के मंदिर ...
15
16
रविवार की दिशा पूर्व है किंतु गुरुवार की दिशा ईशान है। ईशान में ही देवताओं का स्थान माना गया है। यात्रा में इस वार की दिशा पश्चिम, उत्तर और ईशान ही मानी गई है। इस दिन पूर्व, दक्षिण और नैऋत्य दिशा में यात्रा त्याज्य है। गुरुवार की प्रकृति क्षिप्र है। ...
16
17
हिन्दू धर्म में गुरुवार के बाद रविवार के सबसे उत्तम दिन माना जाता है। रविवार को लगभग सभी लोगों की छुट्टी रहती है। इस दिन लोग शॉपिंग करते हैं और घुमने-फिरने जाते हैं। कई लोग इस दिन सोते रहते हैं और अपनी थकान भी मिटाते हैं। परंतु रविवार का खासा महत्व ...
17
18
अश्‍वमेध या अश्वमेघ यज्ञ के बारे में कई तरह की भ्रांतियां फैली हुई हैं। आखिर जानते हैं कि यह यज्ञ क्या होता है और क्यों इसके अश्‍व अर्थात घोड़े को छोड़ा जाता है राज्य की सीमाओं के बाहर। यहां प्रस्तुत है अश्वमेघ यज्ञ के बारे में संक्षिप्त और सामान्य ...
18
19
Nidhivan ka rahasya: वृंदावन में निधिवन नाम से एक जगह है जहां पर श्रीकृष्ण का प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर और वन के बारे में कई तरह की जनश्रुति प्रचलित है। कहते हैं कि यहां पर श्रीकृष्‍ण रोज आते हैं और रात में रासलीला करने के बाद यहीं पर शयन करते हैं ...
19