0

कन्या संक्रांति पर आती है विश्‍वकर्मा जयंती, जानिए 5 रोचक बातें

शनिवार,सितम्बर 17, 2022
0
1
गरुड़ भगवान विष्णु का वाहन हैं। भगवान गरुड़ को विनायक, गरुत्मत्, तार्क्ष्य, वैनतेय, नागान्तक, विष्णुरथ, खगेश्वर, सुपर्ण और पन्नगाशन नाम से भी जाना जाता है। गरुड़ हिन्दू धर्म के साथ ही बौद्ध धर्म में भी महत्वपूर्ण पक्षी माना गया है। बौद्ध ग्रंथों के ...
1
2
Adi shankaracharya jayanti 2022: 6 मई 2022 शुक्रवार को आदि शंकराचार्यजी की जयंती मनाई जाएगी। महर्षि दयानंद सरस्वती जी ने अपनी पुस्तक सत्यार्थ प्रकाश में लिखा है कि आदि शंकराचार्यजी का काल लगभग 2200 वर्ष पूर्व का है। दयानंद सरस्वती जी 138 साल पहले ...
2
3
भगवान विष्णु के छठे आवेश अवतार परशुराम की जयंती वैशाख शुक्ल तृतीया को आती है। इस बार यह जयंती 3 मई 2022 को मनाई जाएगी। भगवान परशुराम की गणना सप्त चिरंजीवी महापुरुषों में की जाती है। यानी वे आज भी सशरीर धरती पर हैं। आओ जानते हैं उनकी जीवन कथा।
3
4
छत्रपपति शिवाजी महाराज की जयंती (Chhatrapati Shivaji Maharaj Jayanti): तुलजा भवानी के उपासक, समर्थ रामदास के शिष्य और भारत के वीर सपूतों में से एक छत्रपति शिवाजी महाराज का जन्म सन्‌ 19 फरवरी 1630 में मराठा परिवार में हुआ। कुछ लोग 1627 में उनका जन्म ...
4
4
5
करीब 58 दिनों तक मृत्यु शैया पर लेटे रहने के बाद जब सूर्य उत्तरायण हो गया तब माघ माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को भीष्म पितामह ने अपने शरीर को छोड़ा था, इसीलिए यह दिन उनका निर्वाण दिवस है। आओ जानते हैं भीष्म पितामह के बारे में 10 रोचक तथ्य।
5
6
भगवान विष्णु के मुख्यत: 24 अवतार हुए हैं। हर युग के हिसाब से उन्होंने अलग अलग रूप धारण करके धरती पर मानवों का उद्धार किया है। त्रिदेवों में उन्हें पालनार कहा जाता है। आओ जानते हैं कि किस युग में कौनसा अवतार हुआ।
6
7
Names of 24 Gurus of Dattatreya: भगवान दत्तात्रेय का कौन, कैसे गुरु हो सकता है जबकि वे खुद ही गुरुओं के गुरु आदिगुरु हैं। दत्तात्रेय को शैव, नाथ और शक्ति संप्रदाय का आदिगुरु कहा जाता है। आओ जानते हैं कि उनके 24 गुरु कौन हैं और उन गुरुओं का क्या है ...
7
8
प्रतिवर्ष मार्गशीर्ष माह की पूर्णिमा को भगवान दत्तात्रेय की जयंती मनाई जाती है। भगवान दत्तात्रेय को गुरु परंपरा का आदि गुरु माना जाता है। इस बार उनकी जयंती 18 दिसंबर 2021 को मनाई जाती है। आओ जानते हैं उनके बारे में 15 रोचक जानकारी।
8
8
9
23 नवंबर पुट्टपर्थी के सत्य साईं बाबा के जन्मदिन पर विशेष। शिरडी के साईं बाबा करीब 16 साल की उम्र में शिरडी में आए थे। उन्होंने 15 अक्टूबर दशहरे के दिन 1918 में समाधि ले ली थी। समाधि लेने के बाद शिरडी में यह चर्चा चल पड़ी की बाबा 8 साल बाद पुन: जन्म ...
9
10
Sahastrabahu jayanti 2021 : सहस्रार्जुन जयंती कार्तिक शुक्ल पक्ष की सप्तमी को मनाई जाती है। सहस्रार्जुन एक हैहयवंशी राजा थे। आओ जानते हैं कि कौन थे सहस्रार्जुन और क्यों मनाई जाती है उनकी जयंती। इस बार यह जयंती ( Sahasrarjun jayanti 2021 ) 11 नवंबर ...
10
11
पीरों के पीर रामापीर, बाबाओं के बाबा रामदेव बाबा (1352-1385) को सभी भक्त बाबारी कहते हैं। जहां भारत ने परमाणु विस्फोट किया था, वे वहां के शासक थे। हिन्दू उन्हें रामदेवजी और मुस्लिम उन्हें रामसा पीर कहते हैं। भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की दूज को राजस्थान ...
11
12
भगवान श्रीकृष्‍ण के बड़े भाई बलरामजी को ही बलदाऊ कहते हैं। भाद्रपद के कृष्‍ण पक्ष की षष्ठी को उनकी जयंती मनाई जाती है जिसे हलछठ भी कतहे हैं। इस बार यह पर्व 28 अगस्त 2021 शनिवार को रहेगा। आओ जानते हैं बलदाऊजी के संबंध में 20 रोचक जानकारियां।
12
13
भगवान भैरव का एक रूप है काल भैरव। शिव पुराण में भैरव को महादेव शंकर का पूर्ण रूप बताया गया है। भगवान शंकर के अवतारों में भैरव का अपना एक विशिष्ट महत्व है। ब्रह्मवैवत पुराण के प्रकृति खंडान्तर्गत दुर्गोपाख्यान में आठ पूज्य निर्दिष्ट हैं- महाभैरव, ...
13
14
राजा जनक के काल में ऋषि याज्ञवल्क्य नाम के एक महान ऋषि थे। आओ जानते हैं इन महान ऋषि के बारे में 7 रोचक बातें।
14
15
23 जुलाई को व्रत की पूर्णिमा प्रारंभ होगी और 24 जुलाई को गुरु पूर्णिमा रहेगी। पूर्णिमा के दिन व्यास पूजा होती है अर्थात महाभारत के लेखक वेद व्यासजी की पूजा। इसी दिन से आषाढ़ माह समाप्त हो जाएगा। भगवान वेद व्यास एक अलौकिक शक्तिसंपन्न महापुरुष थे। आओ ...
15
16
भारतीय राज्य केरल में शबरीमाला में अयप्पा स्वामी का प्रसिद्ध मंदिर है, जहां विश्‍वभर से लोग अयप्पा स्वामी के दर्शन करने के लिए आते हैं। आओ जानते हैं स्वामी अयप्मा की 20 विशेष बातें।
16
17
महाराष्ट्र की संत परापंरा में तुकाराम को संत शिरोमणि कहा जाता है। संत नामदेव, संत ज्ञानेश्वर, संत एकनाथ, संत सेन महाराज, संत जानाबाई, संत बहिणाबाई आदि नामों के साथ ही संत तुकाराम का नाम भी लिया जाता है। वारंकरी संप्रदाय में कई संत हुए हैं।
17
18
द्वापर के बाद भगवान कृष्ण पुरी में निवास करने लगे और बन गए जग के नाथ अर्थात जगन्नाथ। पुरी का जगन्नाथ धाम चार धामों में से एक है। यहां भगवान जगन्नाथ बड़े भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा के साथ विराजते हैं। आओ जानते हैं बलभद्र और सुभद्रा के बारे में कुछ
18
19
पुराणों अनुसार ब्रह्मा जी के मानस पुत्र:- मन से मारिचि, नेत्र से अत्रि, मुख से अंगिरस, कान से पुलस्त्य, नाभि से पुलह, हाथ से कृतु, त्वचा से भृगु, प्राण से वशिष्ठ, अंगुष्ठ से दक्ष, छाया से कंदर्भ, गोद से नारद, इच्छा से सनक, सनन्दन, सनातन, सनतकुमार, ...
19