0

चाणक्य की बातें : युवाओं को 5 गलतियां कभी नहीं करना चाहिए

मंगलवार,जुलाई 5, 2022
0
1
आषाढ़ शुक्ल सप्तमी को भगवान सूर्य के वरूण रूप की पूजा करने की भी पंरपरा है। इसे सूर्य सप्तमी व्रत भी कहा जाता है। सप्तमी तिथि पर सूर्योदय से पहले उठकर भगवान सूर्य को जल चढ़ाकर विशेष पूजा करनी चाहिए।
1
2
कैसे अवतरित हुई थी मां ताप्ती, जानिए ताप्ती नदी की कथा इस वर्ष ताप्ती जयंती 6 जुलाई, बुधवार को मनाई जा रही है। प्रतिवर्ष ताप्ती जन्मोत्सव आषाढ़ शुक्ल सप्तमी को मनाया जाता है। यह देश की प्रमुख नदियों में से एक है। आइए पढ़ें पुराणों में ताप्तीजी की ...
2
3
इस बार हरिशयनी (देवशयनी) एकादशी 10 जुलाई 2022, दिन रविवार को मनाई जा रही है। धार्मिक महत्व के अनसार देवशयनी एकादशी के साथ ही 4 महीने के लिए भगवान श्री विष्णु शयनगार में चले जाते हैं
3
4
Difference between Shiva Purana and Vishnu Purana : हिन्दू धर्म के अनुसार दो तरह के ग्रंथ है श्रुति और स्मृति। श्रुति के अंतर्गत वेद आते हैं और स्मृति के अंतर्गत पुराण। पुराणों की संख्या कुल 18 है जिनमें से अधिकतर वेदव्यासजी ने लिखे हैं। उन्हीं में ...
4
4
5
"ॐ जय शिव ओंकारा" की आरती आप शिव जी मानते आए हैं लेकिन सच तो है कि यह केवल शिवजी की आरती नहीं है बल्कि ब्रह्मा विष्णु महेश तीनों की आरती है ...
5
6
पौराणिक मान्यतानुसार आषाढ़ माह में वर्षा के कारण जल में जीव-जंतुओं की उत्पत्ति अधिक बढ़ जाती है, अत: इस माह स्वच्छ जल ही पीना चाहिए तथा इसकी स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना चाहिए,
6
7
Gupt Navratri 2022 30 जून से 8 जुलाई तक गुप्त नवरात्रि पर्व मनाया जा रहा है। साधारण व्यक्ति भी गुप्त नवरात्रि में मां दुर्गा की आराधना करते हैं। माना जाता है कि इस दौरान मां की पूजा करने से जीवन के सभी संकटों का नाश होता है। तथा घर में सुख-समृद्धि ...
7
8
Jagannath Rath yatra 2022: ओड़ीसा के पुरी में निकलने वाली विश्‍व प्रसिद्ध जगन्नाथ यात्रा इस बार 1 जुलाई दिन शुक्रवार से शुरू हो रही है। यह हिन्दू कैलेंडर के अनुसार प्रतिवर्ष आषाढ़ माह की द्वितीया तिथि को निकलती है। इस यात्रा में शामिल होने के लिए ...
8
8
9
पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर भारत के चार पवित्र धामों में से एक है। यह मंदिर करीब 800 वर्ष से भी अधिक समय से विद्यमान है। प्रतिवर्ष आषाढ़ माह में ओडीसा के समुद्र के किनारे बसे पुरी शहर में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा का आयोजन होता है। इस विश्‍व प्रसिद्ध ...
9
10
Baba Amarnath Yatra started : अमरनाथ यात्रा प्रारंभ हो गई है जो कि 11 अगस्त तक चलेगी। जिन्होंने यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन करवा रखा है उन्हें ही यात्रा में जाने की अनुमति होगी। अमरनाथ यात्रा के लिए 3.25 लाख तीर्थयात्री अब तक रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। ...
10
11
Halharini Amavasya: आषाढ़ माह की अमावस्या यानी हलहारिणी अमावस्या कब है? 28 या 29 जून 2022 को। साथ ही जानिए अमावस्या के शुभ मुहूर्त और इस अमावस्या का महत्व।
11
12
ज्योतिष में राहु काल को अशुभ माना जाता है। अत: इस काल में शुभ कार्य नहीं किए जाते है। यहां आपके लिए प्रस्तुत है सप्ताह के दिनों पर आधारित राहुकाल का समय, जिसके देखकर आप अपना दैनिक कार्य कर सकते हैं।
12
13
Chanakya Niti : आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में कई बातों पर अपना मत रखा है। उनकी कई बातें आज भी प्रासंगिक है। हालांकि कुछ बातों को लोग अब नहीं मानते हैं, लेकिन नीति क्या कहती है यह जानना जरूरी है। आचार्य चाणक्य ने, सेहत, धन, राजनीति, शासन, ...
13
14
वर्ष 2022 में चातुर्मास, चौमासा (Chaturmas 2022) का शुभारंभ 10 जुलाई से हो रहा है तथा 4 नवंबर 2022 को इसकी समाप्ति होगी। चातुर्मास का समय भगवान के पूजन-आराधना और साधना का समय माना जाता है, chaturmas 2022 start date
14
15
ज्योतिष शास्‍त्र में हरा रंग और किन्नर (Kinnar) दोनों ही बुध ग्रह से संबंधित माने गए हैं। बुध ग्रह का ज्योतिष में एक खास स्‍थान हैं और इसे शुभ बनाने की सलाह दी जाती है। अत: बुधवार के दिन किन्नरों को हरे रंग (green cloth) के कपड़ों का दान शुभ फलदायी ...
15
16
आषाढ़ मास चल रहा है। इस माह में सूर्य पूजन का विशेष महत्व है। इस महीने में सूर्य आराधना से ना सिर्फ अक्षय पुण्य मिलता है बल्कि सेहत के भी लाभ मिलते हैं। सुबह के समय जब हम सूर्य को जल चढ़ाते हैं तो सूर्य से निकलने वाली किरणें हमें हेल्‍थ बेनिफिट्स देती ...
16
17
आपने अक्सर यह सुना होगा कि घर की रसोई में मां अन्नपूर्णा की वह तस्वीर लगानी चाहिए जिसमें वे भोलेनाथ को भिक्षा दे रही हैं। आइए जानते हैं क्या है कहानी, क्यों लगाना चाहिए भगवान शिव और दान करती मां अन्नपूर्णा की खास तस्वीर....
17
18
इस वर्ष आषाढ़ी पूर्णिमा (Ashadhi Purnima 2022) 13 जुलाई 2022, बुधवार के दिन मनाई जाएगी। शास्त्रों के अनुसार आषाढ़ मास की पूर्णिमा को आषाढ़ी पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा कहा जाता है। Ashadhi Purnima 2022 Date
18
19
आषाढ़ मास 15 जून 2022, बुधवार से प्रारंभ हो गया है और 13 जुलाई, गुरु पूर्णिमा तक रहेगा। इस दिन महीने में भगवान शंकर व भगवान विष्णु की पूजा का विशेष महत्व है। जानिए इस लेख में खास बातें...
19