एयर एंबुलेंस से दिल्ली पहुंचे लालू यादव, AIIMS में होगा आगे का इलाज

पुनः संशोधित गुरुवार, 7 जुलाई 2022 (00:10 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। पटना के में भर्ती पूर्व मुख्यमंत्री व राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव (74) को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली के (AIIMS) लाया जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री के पुत्र तेजस्वी यादव ने बुधवार को यह जानकारी दी।
यादव ने बताया कि अपने घर में गिरने की वजह से प्रसाद के कंधे समेत तीन जगह फ्रैक्चर हो गया है और उनका शरीर ‘जाम’ हो गया है और वह ज्यादा हिलढुल नहीं पा रहे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रसाद को सोमवार को तबीयत बिगड़ने के बाद एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इससे 24 घंटे से भी कम वक्त पहले वह घर पर गिर पड़े थे और चोटिल हो गए थे।

सूत्रों ने बताया कि प्रसाद रास्ते में हैं और दिल्ली स्थित में उन्हें देर रात भर्ती कराया जा सकता है। इससे पहले दिन में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प्रसाद की कुशलक्षेम जानने के लिए पटना के अस्पताल पहुंचे और उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली।

प्रसाद की पत्नी एवं पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी बुधवार को दिल्ली पहुंच गईं। उन्होंने कहा, उनकी (प्रसाद) की सेहत अब थोड़ी बेहतर है। राजद कार्यकर्ताओं और प्रसाद के समर्थकों को दिए संदेश में राबड़ी देवी ने कहा, चिंता मत कीजिए, उनका इलाज किया जा रहा है और वह स्वस्थ हो जाएंगे। सब उनके लिए प्रार्थना करें कि वह जल्द स्वस्थ हों।

यहां अपनी मां के साथ बातचीत करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा, हम उन्हें दिल्ली के एम्स ला रहे हैं क्योंकि यहां बेहतर इलाज हो सकता है और डॉक्टर उनके मेडिकल इतिहास से परिचित हैं। बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता ने कहा, वह गिर गए थे जिसके बाद उन्हें तीन जगह फ्रैक्चर हुआ है। उनके गिरने के बाद जटिलाएं बढ़ गईं क्योंकि शरीर जाम हो गया है और वह ज्यादा हिलढुल नहीं पा रहे हैं।

यादव ने कहा, लालू जी को यहां लाया जाएगा और डॉक्टरों की टीम तय करेगी कि उन्हें किस वार्ड में रखना है। सभी जांच और अल्ट्रासाउंड भी किया जाएगा। चारा घोटाला मामलों में जमानत पर रिहा लालू ने पिछले महीने झारखंड उच्च न्यायालय से गुर्दा प्रत्यारोपण के लिए विदेश, खासकर सिंगापुर जाने की इजाज़त ली थी।

यह पूछे जाने पर कि क्या सिंगापुर जाना संभव होगा, तो यादव ने कहा कि अगर दो-चार हफ्ते में वह अंतरराष्ट्रीय यात्रा कर सकते हैं तो हम उन्हें सिंगापुर ले जा सकते हैं।(भाषा)



और भी पढ़ें :