केदारनाथ में बर्फबारी से तापमान में भारी गिरावट, लेकिन श्रद्धालुओं के उत्साह में नहीं आई कमी

एन. पांडेय| Last Updated: गुरुवार, 28 अक्टूबर 2021 (00:27 IST)
केदारनाथ। उत्तराखंड के चारों धामों में बुधवार को बर्फबारी हो रही है। इस कारण चारों धामों के औलोकिक सौन्दर्य में वृद्धि हो गई है। बर्फ पड़ने के बावजूद आज कुल 14,136 दर्शनार्थियों ने चारों धामों के दर्शन किए।केदारनाथ धाम में पिछले रविवार सायं को हुई बर्फबारी के बाद बुधवार को फिर बर्फ पड़नी शुरू हो गई। हालांकि केदारनाथ में केदार के कपाट बंद होने से पहले दूसरी बार बर्फ पड़ रही है।इस दूसरे दौर की बर्फबारी से मंदिर में ठंड में भारी इजाफा हो गया है।इसके बावजूद श्रद्धालुओं के उत्साह में कोई कमी नहीं दिखाई दे रही है।
केदारनाथ धाम में आज सायं चार बजे तक 6775 तीर्थयात्री दर्शनों को पहुंचे।बदरीनाथ धाम में 5835, गंगोत्री धाम में 830 और यमुनोत्री धाम में 696 श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। केदारनाथ धाम में बर्फबारी होने से भक्तजन बर्फबारी के बीच लाइन में लगकर बाबा के दर्शन कर रहे हैं।

केदारनाथ धाम के मंदिर परिसर की हालांकि यह दूसरी बर्फबारी है जबकि अक्टूबर महीने में अभी तक धाम के आसपास तीन बार बर्फ गिर चुकी है।बर्फबारी के बाद धाम के तापमान में भारी गिरावट आई है।बर्फबारी के चलते धाम में चल रहे द्वितीय चरण के पुनर्निर्माण कार्य भी प्रभावित होने लगे हैं।केदारनाथ के कपाट बंद होने में नौ दिन का ही समय शेष बचा हुआ है।

अगले माह 6 नवंबर को केदारनाथ धाम के कपाट बंद होने हैं, लेकिन कपाट बंद होने से पहले केदारनाथ पहुंच रहे भक्तों की प्रकृति की अनुपम सौगात बर्फबारी देखने की मनोकामना केदारनाथ पूरी करते दिख रहे हैं। हालांकि केदार धाम में अमूमन अक्टूबर महीने में कम ही बर्फबारी होती थी, लेकिन इस बार अक्टूबर महीने में अभी तक धाम में तीन बार बर्फ गिर चुकी है।बर्फबारी से केदार धाम का आलौकिक नजारा देखते ही बन रहा है।

में सबसे पहले गंगोत्री धाम के कपाट 5 नवंबर को बंद होंगे। 6 नवंबर को यमुनोत्री और केदारनाथ धाम के कपाट बंद किए जाएंगे, वहीं भगवान बदरी विशाल के कपाट 20 नवंबर को शीतकाल के लिए बंद किए जाएंगे।



और भी पढ़ें :