हरीश रावत बोले- हरक मेरे दोषी हैं ही नहीं तो माफी कैसी?

एन. पांडेय| पुनः संशोधित शनिवार, 23 अक्टूबर 2021 (21:57 IST)
देहरादून। के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कैबिनेट मंत्री की माफी मांगे जाने के बाद प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि हरक मेरे दोषी हैं ही नहीं तो माफी कैसी? हरीश रावत के अनुसार, वे मेरे छोटे भाई हैं, मैंने तो उन्हें बहुत पुचकारा था लेकिन दिक्कत यह रही कि मेरे पास देने के लिए हरे-हरे नोट नहीं थे। इसलिए कुछ बल्द और बकरियां फिर भी चली ही गईं।
हरीश रावत के अनुसार, वे सब मेरे नहीं उत्तराखंड की जनता और लोकतंत्र के अपराधी हैं।इसलिए एक बार जनता से ही कह दें कि आइंदा ऐसा नहीं करेंगे। बागियों के में वापस आने पर उनके द्वारा लगाए वीटो के बाबद उन्होंने कहा कि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को यह तय करना है कि पार्टी में किसको लेना है और किसको नहीं।

हरीश रावत ने आज अल्मोड़ा में प्रेस वार्ता कर आगामी में कांग्रेस की राज्य में जीत का दावा किया।हरीश रावत ने कहा कि आपदा के बाद उत्तराखंड विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस तैयारियों में जुटी हुई है।अब तक 32 विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस परिवर्तन यात्रा कर चुकी है।अब कांग्रेस प्रदेश के सभी 70 विधानसभा सीटों पर फिर परिवर्तन यात्रा करेगी।

रावत ने कहा कि विधानसभा में जीतने वाले युवा और महिला उम्मीदवारों को टिकट दिए जाएंगे।हरीश के अनुसार, कांग्रेस अब पूर्व सैनिकों, दलितों, महिलाओं और युवाओं के सम्मेलन भी आयोजित करेगी।

इस मौके पर हरीश रावत के साथ मौजूद कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने एक बार फिर कहा कि कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल और बीजेपी के अन्य विधायक लगातार कांग्रेस के संपर्क में हैं। मुश्किल समय में कांग्रेस का साथ देने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं के हितों को देखते हुए कांग्रेस इनको लेने के मुद्दे पर अंतिम निर्णय लेगी।



और भी पढ़ें :