DZOR नाम से ऐप बनाकर महिलाओं को किया आत्मनिर्भर, अहमदाबाद के मैकेनिकल इंजीनियर की सफलता की कहानी

पुनः संशोधित सोमवार, 16 मई 2022 (20:48 IST)
हमें फॉलो करें
वृशिका भावसार

कोरोनाकाल के बाद ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाएं अपने स्टार्टअप को जन-जन तक पहुंचाने का प्रयास कर रही हैं। मेलों, त्योहारों, प्रदशर्नियों के द्वारा ग्रामीण महिलाओं द्वारा बनाए गए उत्पादों को बेचा जा रहा है और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास किया जा रहा है। प्रतिस्पर्धा बढ़ने पर शहर की हजारों महिलाएं अपना सामान बेचने के लिए सही मंच की तलाश में रहती हैं। के एक युवक अनुशील सुतारिया ने इन महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के साथ-साथ अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए ऑनलाइन शॉपिंग के लिए एक एप्लीकेशन बनाई है। उन्होंने पिछले 5 महीनों में ही कमीशन से 5 लाख रुपए से ज्यादा की कमाई की है। इस एप्लीकेशन को 2 हजार से अधिक लोग डाउनलोड कर चुके हैं।

जनवरी 2022 में एक आवेदन तैयार किया : शहर में रहने वाली ज्यादातर महिलाएं मध्यम वर्ग की हैं, जो पैसे के अभाव में शोरूम नहीं खरीद सकतीं। वे यह भी नहीं जानते कि प्रौद्योगिकी के माध्यम से अपने उत्पाद को लोगों तक कैसे पहुंचाया जाए। नतीजतन, अद्भुत उत्पाद लोगों तक नहीं पहुंचते हैं और ऐसी महिलाएं लाभ कमाने से दूर हैं, इसके विपरीत, उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है। अहमदाबाद के युवा अनुशील सुतारिया ने विशेष रूप से शहरी क्षेत्रों की बहनों के लिए जनवरी 2022 में एक एप्लीकेशन बनाई है, जिसके माध्यम से शहरी महिलाएं आत्मनिर्भर हो रही हैं।
मां को संकट में देखा था : अनुशील सुतारिया एक हैं, लेकिन उन्होंने अपनी मां की दुर्दशा देखी, जो 20 साल से अधिक समय से बुटीक चला रही हैं। उत्कृष्ट वस्तुओं के बावजूद, दुकानों, प्रदर्शनियों और अन्य आउटलेट्स पर देर से प्रतिक्रिया मिली। कई बार तो किराया भी नहीं निकलता। ऐसे हालात को याद करते हुए अनुशील ने वेबदुनिया को बताया कि मैकेनिकल इंजीनियर होने के बावजूद मैंने आईटी की फ़ील्ड पसंद किया। इंटरनेट माध्यम और अन्य विशेषज्ञों से आईटी प्रशिक्षण लेकर एक एप्लीकेशन विकसित किया। इसका मुख्य उद्देश्य शहरी महिलाओं द्वारा बनाए गए उत्पाद की मार्केटिंग करना है।
बाजार में नया है एप्लीकेशन : अनुशील आगे कहते हैं- ''अहमदाबाद शहर से शुरू होकर देश के अलग-अलग राज्यों की बहनों ने मेरे बनाई हुई DZOR में अपना माल बिक्री के लिए रखा है। शहरी महिलाओं द्वारा बनाए गए उत्पादों को उपभोक्ताओं तक पहुंचाना ही मेरा लक्ष्य हैं। DZOR से देश के विभिन्न राज्यों की 250 से अधिक महिलाएं अपने उत्पाद बेच रही हैं। यह एप्लीकेशन अभी
बाजार में नया है। फिर भी इसे एक हजार से ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं। अनुशील सुतारिया का यह स्टार्टअप शहर की महिलाओं के लिए वरदान साबित हो रहा है।

5 लाख रुपए का निवेश : अनुशील आगे कहते हैं कि इस ऐप को बनाने का विचार तब आया जब मेरी मां 20 साल से अधिक समय से बुटीक चला रही थीं। हमने शहर में एक सर्वेक्षण किया। इसमें पता चला कि हजारों बुटीक थे। फिर मेरे मन में यह ख्याल आया कि इस प्रतियोगिता में एक बुटीक कैसे चल सकता है। मैंने शहरी महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक मंच स्थापित करने के बारे में सोचा। बस उसके बाद मैंने 5 लाख रुपए के निवेश से DZOR नाम से एक एप्लीकेशन बनाई। इस ऐप की कोई मार्केटिंग नहीं की है, लेकिन शुरुआत है इसलिए करीब 250 महिलाएं इस पर अपने उत्पाद बेच रही हैं।
मूल उत्पाद खरीदे जा सकते हैं : इस ऐप के जरिए अनुशील सुतारिया कमीशन कमा रहा है। अनुशील सुतारिया का कहना है कि कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक के लोग अपने स्थानीय उत्पाद बनाने वाले लोगों से असली उत्पाद खरीद सकते हैं। उनके पास डुप्लीकेट माल की समस्या नहीं है। इसका मतलब है कि अहमदाबाद में बैठे लोग लखनऊ के चिकनकारी उत्पाद को सीधे खरीद सकते हैं। ऐप स्थानीय लोगों के लिए अपॉइंटमेंट बुक करने का रास्ता भी खोलता है। जो लोग केवल अपॉइंटमेंट पर काम करते हैं वे भी अपने ग्राहकों के साथ अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हैं। इस ऐप में मुख्य रूप से महिलाएं अपने उत्पाद बेच रही हैं।
स्थानीय सड़कों : अनुशील का कहना है कि ऐप की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह शहर में स्थानीय सड़कों पर काम करने वाले दर्जी को भी कवर करता है, क्योंकि लोग इनके बारे में बहुत कम जानते हैं कि शहर में दर्जी कहां बैठे हैं। इन दर्जी को ऐप में मैप द्वारा खोजा जा सकता है। एक और बात यह है कि ऐप में आने वाले यूजर्स उन लोगों को भी आमंत्रित कर सकते हैं जो यूनिक प्रोडक्ट बना रहे हैं।



और भी पढ़ें :