क्‍या भारत में Omicron से उन 12 करोड़ लोगों को खतरा है जिन्‍होंने नहीं लिया ‘सेकंड डोज’?

Last Updated: शनिवार, 4 दिसंबर 2021 (12:07 IST)
हमें फॉलो करें
अब कोरोना के सबसे तेज माने जाने वाले वैरिएंट ओमिक्रॉन ने भारत में दस्‍तक दे दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने 2 दिसंबर को कर्नाटक में दो ओमिक्रॉन केस पाए जाने की पुष्टि भी कर दी है। ऐसे में सवाल उठता है कि क्‍या भारत में इस म्‍यूटेशन से कोई खतरा है या नहीं।

दरअसल, विशेषज्ञों का कहना है कि भारत में बडी आबादी ने टीका लगवा लिया है, लेकिन करीब 12 करोड़ ऐसे लोग हैं, जिन्‍होंने वैक्‍सीन का दूसरा डोज नहीं लिया है। क्‍या इन्‍हें कोई खतरा हो सकता है।

दरअसल, इसे डेल्टा वैरिएंट से भी ज्यादा खतरे वाला म्यूटेशन कहा जा रहा है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) पहले ही इसे वैरिएंट ऑफ कंसर्न घोषित कर चुका है।

24 नवंबर को साउथ अफ्रीका में पहला केस मिलने के बाद से एक हफ्ते के अंदर ही भारत, अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस समेत दुनिया के 29 देशों में ओमिक्रॉन के केस मिल चुके हैं।

ओमिक्रोन को दुनिया में तबाही मचा चुके डेल्टा से भी ज्यादा खतरनाक बताया जा रहा है, क्योंकि ओमिक्रॉन में अब तक 50 म्यूटेशन हो चुके हैं।

असल में, ओमिक्रॉन के केस उन लोगों में भी पाए गए हैं जो पूरी तरह वैक्सीनेटेड थे। ऐसे में यह भारत जैसे विशाल देश के लिए चिंता की बात हो सकती है। भारत में अब तक कुल 1 अरब 25 करोड़ से अधिक कोरोना की डोज लगाई गई हैं।

इनमें से 79 करोड़ से अधिक लोगों को कोरोना की सिंगल डोज लग चुकी हैं, जबकि 46 करोड़ से अधिक लोगों को ही कोरोना की दोनों डोज लगी हैं।

चिंता की बात इसलिए है कि भारत की अब तक 32 फीसदी आबादी को ही पूरी तरह से वैक्सीनेटेड किया गया है। लेकिन रिपोर्ट के मुताबि‍क भारत में करीब 12 करोड़ लोग ऐसे भी हैं, जिन्होंने दूसरी डोज की तारीख निकल जाने के बावजूद भी टीका नहीं लगवाया है। ऐसे लोगों की लापरवाही भी ओमिक्रॉन जैसे कोरोना के नए वैरिएंट के फैलने पर खतरनाक साबित हो सकती है।

यह भी कहा जा रहा है कि तेज म्यूटेशन की वजह से ओमिक्रॉन पर वैक्सीन का असर नहीं होगा, अगर इस बात में जरा भी दम है ऐसे में भारत की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

किसे हैं सबसे ज्‍यादा खतरा?
कोरोना के अन्य वैरिएंट की तरह ही ओमिक्रॉन से भी सबसे अधिक संक्रमण का खतरा उन लोगों को हैं, जिन्होंने अब तक कोरोना वैक्सीन की एक भी डोज नहीं लगवाई है। ध्यान देने वाली बात ये है कि ओमिक्रॉन अगर वैक्सीनेटेड लोगों को हो सकता है तो ऐसे लोग जिन्होंने कोरोना की सिंगल डोज ली है या अभी तक एक भी डोज नहीं ली है उन्हें इससे संक्रमित होने का खतरा कई गुना अधिक है। ऐसे में वैक्‍सीन के दोनों डोज लेना बेहद जरूरी है। इससे कम से कम खतरा होने की बात कही जा रही है।



और भी पढ़ें :