नूपुर शर्मा मामले में 117 लोगों की CJI को चिट्ठी, सुप्रीम कोर्ट ने लांघी लक्ष्मण रेखा

Last Updated: मंगलवार, 5 जुलाई 2022 (13:09 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा पर द्वारा की गई टिप्पणी पर जारी बवाल थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। केरल हाईकोर्ट के पूर्व जज जस्टिस रवींद्रन ने भारत के मुख्य न्यायधीश को खुला पत्र लिख कर इसकी शिकायत की है।

केरल हाईकोर्ट के पूर्व जज जस्टिस पीएन रवींद्रन ने मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिख कर कहा है कि इस टिप्पणी से सुप्रीम कोर्ट ने लक्ष्मण रेखा लांघ दी है। इस पत्र पर न्यायपालिका, नौकरशाही और सेना के 117 पूर्व अधिकारियों और जजों के दस्तखत हैं।

केरल हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस रवींद्रन के पत्र में 15 रिटायर्ड जज, 77 रिटायर्ड नौकरशाह, 25 रिटायर्ड आर्मी अधिकारियों ने हस्ताक्षर कर, उनके स्टेटमेंट का समर्थन किया है। रविंद्रन की चिट्ठी में 11 पाइंट्स में अपनी बात रखी गई है।

उल्लेखनीय है कि नूपुर शर्मा ने अपने खिलाफ देश के अलग-अलग राज्यों में दर्ज सभी मामलों की सुनवाई एक साथ दिल्ली में करने संबंधी याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर की थी। इस मामले में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस जेबी पारदीवाल की पीठ ने मौखिक टिप्पणी करते हुए कहा था की उनका बयान देश भर में आग लगाने के लिए जिम्मेदार है।



और भी पढ़ें :