बंदरगाह विकास के लिए 1 लाख करोड़ की जरूरत : मोदी

मुंबई| पुनः संशोधित गुरुवार, 14 अप्रैल 2016 (14:59 IST)
हमें फॉलो करें
मुंबई। देश की 7,500 किलोमीटर लंबे समुद्री तट को 'आर्थिक वृद्धि का इंजन' बनाने की जरूरत पर बल देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि भारत के लिए 1 लाख करोड़ रुपए के निवेश जुटाना चाहता है। प्रधानमंत्री ने वैश्विक निवेशकों को इस कार्य में निवेश का न्योता दिया।
 
मोदी ने यहां (एमआईएस) का उद्घाटन करते हुए कहा कि भारत में आने का यह सबसे अच्छा समय समय है और सामुद्रिक मार्ग से आना और भी अच्छा है। देश में यह इस तरह का पहला सम्मेलन है।
 
प्रधानमंत्री ने 'एमआईएस 2016' के उद्घाटन के बाद कहा कि हमारा लक्ष्य 2025 तक अपने बंदरगाहों की क्षमता मौजूदा 140 करोड़ टन से बढ़ाकर 300 करोड़ टन की है। हम इसके लिए 1 लाख करोड़ रुपए का निवेश जुटाना चाहते हैं। 
 
मोदी के मुताबिक भारत की आयात-निर्यात कारोबार की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए 5 नए बंदरगाह जोड़ने की योजना बनाई गई है, जो तेजी से वृद्धि दर्ज करती भारतीय अर्थव्यवस्था में बढ़ोतरी के अनुरूप है। भारत के कई तटीय राज्यों में नए बंदरगाह बनाए जा रहे हैं।
 
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारतीय जहाजरानी क्षेत्र लंबी यात्रा के लिए तैयार है और निवेशकों से कहा कि वे इस सुहाने सफर और शानदार जगह से न चूकें। 
 
मोदी ने निवेशकों से कहा कि भारत में सामुद्रिक मार्ग के जरिए आने का यह और भी बेहतर समय है। एक बार यहां जाएं तो मैं आपको आश्वस्त करना हूं कि मैं व्यक्तिगत तौर पर आपका ध्यान रखूंगा कि आप सुरक्षित और संतुष्ट रहें। (भाषा)



और भी पढ़ें :