हैदराबाद ऑनर किलिंग पर भड़के मोदी के मंत्री, बोले- कहां है टुकड़े-टुकड़े गैंग?

पुनः संशोधित शनिवार, 7 मई 2022 (00:38 IST)
हमें फॉलो करें
पटना। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने हैदराबाद में कथित रूप से झूठी शान के लिए हुई हत्या को ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ के मुंह पर तमाचा करार दिया।

गौरतलब है कि तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में स्कूटर से जा रहे 25 वर्षीय युवक की उसके पत्नी के रिश्तेदारों ने रास्ते में रोककर दिन-दहाड़े लोहे के सरिया से पीट कर हत्या कर दी। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि टुकड़े-टुकड़े गैंग ने एक दलित के बेटे की हत्या पर चुप्पी साध रखी है। उसका गुनाह सिर्फ एक मुस्लिम लड़की से प्यार करना था। लेकिन अगर इसका उल्टा हो जाता तो गैंग अपराधियों के पीछे पड़ जाता।
केंद्रीय मंत्री ने बिहार में सांप्रदायिक शांति के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के दावे पर भी अप्रसन्नता जताई। उन्होंने कहा कि हमें अब शांति की परिभाषा पर फिर से विचार करना चाहिए। मेरे लोकसभा क्षेत्र बेगूसराय में हिंदुओं पर अत्याचार किया गया है। इसी तरह की घटनाएं और भी हुई हैं।

गिरिराज ने पूजा स्थलों में लाउडस्पीकर के उपयोग पर प्रतिबंध की पुरजोर वकालत की, जिसे नीतीश ने हाल ही में धार्मिक प्रथाओं में हस्तक्षेप बताते हुए अस्वीकार कर दिया था।
उन्होंने कहा कि हमें पड़ोसी उत्तर प्रदेश के योगी (मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ) मॉडल से सीखना चाहिए। लाउडस्पीकरों पर कार्रवाई की गई है और कोई भी यह दावा नहीं कर सकता कि इसे किसी विशेष धर्म के लोगों के खिलाफ लक्षित किया गया था।

इस बीच, भाजपा नेता ने हिन्दुओं को सहिष्णु बताते हुए कहा कि चींटियों को चीनी खिलाते हैं, सांपों और पेड़ों को क्रमशः दूध और पानी देते हैं। मुहर्रम के दौरान कभी भी ताजिया जुलूस में पत्थर फेंकने के लिए नहीं जाने जाते हैं।
उन्होंने कहा कि मुहर्रम के दौरान क्या होता है और केवल हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए क्या सामना करना पड़ता है। हमारे पूर्वजों ने धर्म के आधार पर देश का बंटवारा किया। लेकिन अब हिंदुओं को उनकी ही जमीन पर उनके धार्मिक अधिकारों से वंचित किया जा रहा है।

जनसंख्या नियंत्रण कानून की आवश्यकता पर जोर देते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि देश के लिए सीमित संसाधनों के साथ इतने सारे लोगों की जरूरतों को पूरा करना संभव नहीं है। (भाषा)



और भी पढ़ें :