प्‍यार की ऐसी कहानी नहीं सुनी होगी, जिसमें एक प्रेमी हो गया ‘आधा-आधा’ दोनों

gender
Last Updated: शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2022 (17:05 IST)
हमें फॉलो करें
हिंदी सिनेमा का एक बेहद पापुलर गाना है, प्‍यार का दर्द है मीठा, मीठा, प्‍यारा, प्‍यारा।

ये गाना तो रोमांटि‍सि‍ज्‍म को दर्शाता हुआ एक खूबसूरत गाना है, लेकिन अगर हम आपको बताएं कि कोई प्‍यार में ही आधा-आधा हो जाए तो उसे क्‍या कहेंगे। आपको शायद समझ नहीं आया होगा कि हम किस आधे आधे की बात कर रहे हैं। आइए बताते हैं क्‍या है आधे आधे का मतलब, क्‍या है इसके पीछे की कहानी।

ये एक जवान युवक की कहानी है। उसने अपनी प्रेमिका के साथ रहने के लिए अपना जेंडर चेंज करवाने का फैसला किया।

जेंडर बदलने के लिए उसका ट्रीटमेंट चल रहा था। लेकिन उसके माता-पिता उसे लगातार समझा रहे थे, इस कोशि‍श के बीच उसका ट्रीटमेंट बीच में ही रोकना पड़ा। अब उस युवक की बॉडी में दो तरह के हॉर्मोन रह गए, लड़के और लड़की दोनों के हॉर्मोन।

कहानी भोपाल से वायरल हो रही है। 32 साल का यह युवक अपने मां बाप की इकलौती संतान है। पिता क्लास वन ऑफिसर से रिटायर्ड हो चुके हैं।

दिल्ली की मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करता है। वहां उसे अपनी कलीग से प्यार हो गया और उसने जेंडर बदलने का फैसला किया। पहले स्टेप में उसकी बॉडी में हॉर्मोनल चेंज आए।

इसके बाद वह लड़कियों जैसा व्यवहार करने लगा। अचानक आए बदलाव को देखकर घरवालों को शक हुआ, तफ्तीश की गई तो इसका खुलासा हुआ। उन्होंने भोपाल में दोनों की काउंसलिंग करवाई। युवक दिल्ली और महिला मध्यप्रदेश की रहने वाली है।

युवक के माता-पिता भोपाल की एडवोकेट सरिता राजानी के पास पहुंचे। उन्होंने बताया कि करीब डेढ़ महीने से उनके बेटे में काफी परिवर्तन दिखाई दे रहे हैं। वह अकेला रोता था। गुस्से में रहता है और बात-बात पर चिढ़ने लगता है।

काउंसलर एडवोकेट सरिता ने उनकी गुहार पर लड़के और महिला की काउंसलिंग की। इसके बाद काफी समझाइश के बाद युवक के जेंडर बदलने का इलाज बीच में रोक दिया गया है। यानी जेंडर बदलने की प्रक्र‍िया अधूरी ही रह गई। जिससे उसके शरीर में अब दोनों लिंग के हॉर्मोन हैं।

ये है प्‍यार की कहानी?
पूछताछ में युवक ने बताया कि उसके साथ 30 साल की एक महिला जॉब करती है। महिला के पति की दो साल पहले कोरोना के कारण मौत हो गई है। उसकी एक बेटी भी है। दोनों करीब 6 महीने पहले ही मिले। वह अपने घर नहीं जाना चाहती है। वह अकेले रहती है। यहीं से उनकी दोस्ती की शुरुआत हुई और प्यार हो गया।

युवक ने शादी करने का प्रस्ताव रखा, तो महिला ने मना कर दिया। उसने कहा कि उसका पति उसे बहुत प्यार करता था। वह उसका बहुत ख्याल रखता था। वह उसके अलावा किसी और को पति के रूप में नहीं देख सकती। इसके बाद युवक ने लड़की बनने का फैसला लिया। इसलि‍ए साथ रहने के लिए उसने युवती बनने का फैसला लिया था।

महिला ने जो बताया उससे सामने आया कि लड़का उसे दीवानों की तरह प्यार करता है। वह अपने निर्णय को लेकर किसी की सुनने को तैयार नहीं है। वह मेरी बात ही नहीं सुन रहा है। मैं अपने पति को ही पति के रूप में मानती हूं, जिनकी दो साल पहले कोरोना से मौत हो गई है।



और भी पढ़ें :