कश्मीर में दोगुनी हुईं घुसपैठ की कोशिशें

नई दिल्ली| पुनः संशोधित मंगलवार, 18 जुलाई 2017 (18:21 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। सरकार ने मंगलवार को स्वीकार किया कि जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा से पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष आतंकवादियों की की कोशिशों में दोगुनी से भी ज्यादा वृद्धि हुई है।

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज गंगाराम अहीर ने लोकसभा में एक लिखित प्रश्न के उत्तर में बताया कि 2016 के शुरुआती छह माह जनवरी से जून के दौरान पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से लगती नियंत्रण रेखा (एलओसी) से घुसपैठ के 19 प्रयास हुए थे जबकि 2017 के शुरुआती छह माह में ऐसी 42 कोशिशें की गईं। अहीर ने स्वीकार किया कि कुछ ऐसी घटनाएं हुई हैं जिनमें आतंकवादियों ने एलओसी पर बाड़ को काटकर घुसपैठ की कोशिश की है।

उन्होंने बताया कि सेना ने प्रौद्योगिकी और मानव संसाधन के इस्तेमाल से एलओसी पर घुसपैठ रोधी सशक्त रणनीति अपना रखी है।

बाड़ के आगे नई टुकड़ियों की तैनाती और अंदरूनी क्षेत्र में निगरानी उपकरणों के प्रभावकारी इस्तेमाल से आतंकवादियों का पता लगाने और उन्हें रोकने की क्षमता में वृद्धि हुई है।
घुसपैठ की कोशिश नाकाम, दो आतंकी ढेर : कश्मीर के बांदीपोरा जिले में सुरक्षा बलों ने मंगलवार सुबह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की ओर से घुसपैठ की एक और कोशिश को नाकाम करते हुए दो आतंकवादियों को मार गिराया। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया कि नियंत्रण रेखा पर तैनात जवानों ने गुरेज सेक्टर में पीओके की ओर से आतंकवादियों के एक समूह को अंधेरे का लाभ उठाकर भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश करते देखा और जवाबी कार्रवाई में दो आतंकवादियों को मार गिराया। (वार्ता)



और भी पढ़ें :