‘रिवॉल्वर रानी’ के साथ ‘लिव इन रिलेशन’ में रहता था ये ‘गैंगस्टर’, ऐसे असफल हो गई कनाडा भागने की ‘प्‍लानिंग’

kala jathedi
Last Updated: रविवार, 8 अगस्त 2021 (14:34 IST)
मोस्ट वांटेड गैंगस्टर काला जठेड़ी ने पुलिस पूछताछ में कई बड़े खुलासे किए हैं। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने सख्‍ती के साथ गैंगस्टर काला जठेड़ी से कई राज उगलवाए हैं। इसमें यह भी खुलासा हुआ है कि वो रिवाल्‍वर रानी के साथ लिव इन में रहता था और जल्‍दी ही कनाडा भागने वाला था, लेकिन वे भागते उसके पहले ही उनकी प्‍लानिंग हो गई फेल।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के मुताबिक गैंगस्टर काला जठेड़ी ने बताया कि राजस्थान की लेडी डॉन अनुराधा चौधरी उर्फ रिवाल्वर रानी ने गैंगेस्टर काला जठेड़ी से हरिद्वार में शादी की थी और शादी के बाद दोनों कनाडा में शिफ्ट होने का प्लान बना रहे थे।

काला जठेड़ी गैंग में नए शूटर्स की भर्ती कर कनाडा से इंटरनेशनल क्रिमिनल अलाइंस चलाने की साजिश तैयार कर रहे थे। दिल्‍ली पुलिस के मुताबिक, गैंग के पांच शूटर्स स्पेशल सेल की रडार पर हैं जो कि महज कुछ महीनों में दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और उत्तर-प्रदेश में दर्जनों वारदातों को अंजाम दे चुके हैं। जो नए शार्प शूटर जठेड़ी गैंग से जोड़े गए थे, उनमें मंजीत राठी, मनप्रीत गोलू, राजू मोटा, दीपक, और बच्ची नाम के अपराधी शामिल हैं।

पुलिस के मुताबिक, लेडी डॉन अनुराधा चौधरी उर्फ रिवाल्वर रानी को गैंग में शामिल करने का कारण भी पूछताछ में सामने आया है। अनुराधा नेपाल में अपने गुर्गे से काला जठेड़ी और अपना नेपाल का पासपोर्ट बनवाने की कोशिश में थी, ताकि नेपाल से कनाडा फरार हो सके, क्योंकि हिंदुस्तान में काला जेठेडी को पुलिस ढूंढ रही थी

लेडी डॉन अनुराधा ने दिल्‍ली पुलिस को बताया कि दोनों करीब ढाई साल से एक दूसरे को जानते हैं। लॉकडाउन से पहले फरवरी में दोनों ने हरिद्वार के एक मंदिर में शादी की थी। दोनों की मुलाकात लॉरेन्स विश्नोई ने करवाई थी। शादी के पहले दोनों लिव इन में रह रहे थे। पुलिस के अनुसार अनुराधा के कहने पर दोनों शादी के बाद से ही कनाडा फरार होने की फिराक में लगे थे, वहां इनके साथी गोल्‍डी बरार ने दोनों के रहने का पूरा इंतजाम किया हुआ था।

पुलिस के अनुसार, लेडी डॉन अनुराधा काला जठेड़ी गैंग के तमाम ऑपरेशन की मास्टरमाइंड थी। अनुराधा ने ही नए गुर्गों को दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा और पंजाब की जिम्मेदारी सौंपी थी। जबकि राजस्थान नेटवर्क की जिम्मेदारी मारे गए गैंगेस्टर आनंदपाल के गुर्गे संभाल रहे थे। गैंग का दिमाग कही जाने वाली अनुराधा का प्लान कनाडा में बेठकर शराब बंदी वाले राज्यों में शराब की तस्करी, कारोबारियों से विदेश में बैठकर उगाही और अपने विरोधी गैंग का सफाया करना था।



और भी पढ़ें :