बिहार में बनेगी महागठबंधन सरकार, नीतीश कुमार ने 164 विधायकों का समर्थन पत्र सौंपा, बोले- BJP ने JDU खत्म करने की साजिश रची

Last Updated: मंगलवार, 9 अगस्त 2022 (19:58 IST)
हमें फॉलो करें
पटना। news : में पिछले लगातार तीन दिनों से जारी सियासी भूचाल आज लगभग थम गया।
मुख्यमंत्री ने मंगलवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अपनी पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) का सम्बन्ध तोड़ने की विधिवत घोषणा की है। इसके बाद वे राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नीत महागठबंधन के साथ मिलकर सरकार बनाएंगे। नीतीश कुमार ने राज्यपाल को इस्तीफा देते हुए नई सरकार का दावा पेश किया। 64 विधायकों का समर्थन पत्र भी सौंपा।

मुख्यमंत्री आवास पर राष्ट्रीय जनता दल, लेफ्ट पार्टी और कांग्रेस गठबंधन के विधायकों की बैठक हुई। इसमें नीतीश कुमार को महागठबंधन के विधायक दल का नेता चुना गया।
बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के बीच नीतीश कुमार ने बीजेपी का साथ छोड़ते हुए लालू की राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के साथ हाथ मिला लिया है। नीतीश कुमार ने भाजपा पर जेडीयू को खत्म करने का आरोप लगाया। आरजेडी से बिहार के उपमुख्यमंत्री बनेंगे। स्पीकर पर आरजेडी का ही होगा। बीजेपी ने नीतीश के साथ छोड़ने पर कहा कि उन्होंने बिहार की जनता को धोखा दिया है।

हम ने भी छोड़ी भाजपा : हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) ने भी भाजपा से अपना नाता तोड़ लिया। पूर्व मुख्यमंत्री एवं हम के संरक्षक जीतनराम मांझी ने मंगलवार को यहां कहा कि उनकी पार्टी राजग को छोड़कर बिना किसी शर्त के नीतीश कुमार के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार को अपना समर्थन देगी। नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। अब जल्द ही महागठबंधन में शामिल होकर सरकार बनाएंगे। इस महागठबंधन में राष्ट्रीय जनता दल (राजद), जदयू, कांग्रेस और वामपंथी दलो के अलावा श्री जीतन राम मांझी की पार्टी हम भी होगी।
जनता कभी माफ नहीं करेगी : भाजपा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनकी पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से नाता तोड़ने को बहुत बड़ा धोखा करार दिया और कहा कि प्रदेश की जनता इसे कभी माफ नहीं करेगी। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद संजय जायसवाल ने पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं मंत्री मंगल पांडेय समेत कई अन्य मंत्रियों की उपस्थिति में मंगलवार को यहां प्रदेश मुख्यालय में कहा कि वर्ष 2020 के चुनाव में राजग के तहत हम सभी ने मिलकर चुनाव लड़ा था, जो बहुमत था वह राजग में भाजपा और जनता दल यूनाइटेड को मिला था।

जायसवाल ने कहा कि भाजपा के 74 सीट जीतने में कामयाब रहने के बावजूद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने जो वादा किया था उसका पालन किया गया और श्री कुमार को मुख्यमंत्री बनाया गया। जो कुछ भी हुआ है, वह बिहार की जनता के साथ और भाजपा के साथ धोखा है। यह उस जनादेश के साथ भी धोखा है। यह न सिर्फ भाजपा बल्कि बिहार की जनता से भी धोखा है। बिहार की जनता इसे कतई बर्दाश्त नहीं करेगी।



और भी पढ़ें :