हेलीकॉप्टर हादसे के बाद भी जीवित थे CDS जनरल रावत, धीमी आवाज में बताया था अपना नाम

Last Updated: गुरुवार, 9 दिसंबर 2021 (12:31 IST)
सीडीएस तमिलनाडु के कुन्नूर में हुए हेलीकॉप्टर क्रेश के बाद जिंदा थे और वे अपना बता पाने में पूर्णतया सक्षम थे। इस बात का दावा एक शख्स ने किया है, जो सबसे पहले चॉपर के बिखरे पड़े मलबे के पास पहुंचा था।
ALSO READ:

वायरल हुआ CDS जनरल रावत के हेलिकॉप्टर क्रेश से पहले का वीडियो

बचाव टीम में शामिल एनसी मुरली नाम के इस बचावकर्मी ने बताया कि हमने सीडीएस जनरल रावत सहित 2 लोगों को जिंदा बचाया है। रावत ने धीमी आवाज में अपना नाम बताया था और उनकी मौत अस्पताल ले जाने वक्त रास्ते में ही हो गई थी तथा हम जिंदा बचाए गए दूसरे शख्स की पहचान नहीं कर सके।


बचावकर्मी ने बताया कि जनरल रावत के शरीर के निचले हिस्से बुरी तरह से जल गए थे। इसके बाद एक बेडशीट में लपेटकर उन्हें एम्बुलेंस में ले जाया गया था। मुरली ने बताया कि चॉपर के मलबे की आग को बुझाने के लिए फायर सर्विस इंजन की वहां तक ले जाने की सड़क नहीं थी और घरों और नदियों के पानी लाकर आग बुझाने का प्रयास किया गया और यह ऑपरेशन काफी मुश्किल था।
आसपास में पेड़ होने से भी बचाव कार्यों में काफी दिक्कत आई। जिस जगह चॉपर हादसे का शिकार हुआ, वहां से करीब 100 मीटर की दूसरी पर काटेरी गांव है। यहां की ग्रामीण महिला पोथन पोन्नम ने क्रेश से पहले उसके गुजरने की आवाज सुनी थी।



और भी पढ़ें :