धन्यवाद, मेरे दोस्त नरेन्द्र... सचिन तेंदुलकर और अमिताभ जैसी फीलिंग आ रही है

पुनः संशोधित शुक्रवार, 22 अप्रैल 2022 (18:17 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके ब्रिटिश समकक्ष बोरिस जॉनसन के बीच मधुर संबंध की स्पष्ट झलक शुक्रवार को मीडिया कार्यक्रम के दौरान देखने को मिली, जब ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने मोदी को 'खास दोस्त' बताया और भारतीय प्रधानमंत्री को उनके पहले नाम (नरेंद्र) से कई बार पुकारा।

जॉनसन ने भारत, खासकर गुजरात, में हुए स्वागत की भी प्रशंसा की और कहा कि वह कुछ हद तक सचिन तेंदुलकर की तरह महसूस कर रहे थे और उनका चेहरा अमिताभ बच्चन की तरह सर्वव्यापी था।
मोदी के साथ ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘धन्यवाद, मेरे दोस्त नरेन्द्र। ‘खास दोस्त’ वह मुहावरा है, जिसे मैं हिन्दी में इस्तेमाल करना चाहूंगा। भारत में हमारे दो दिन शानदार रहे हैं।’
जॉनसन ने कहा कि कल मैं पहला कंजरवेटिव प्रधानमंत्री हो गया, जिसने गुजरात की यात्रा की है, जो निश्चित तौर पर ‘नरेन्द्र’ का जन्म स्थान है, लेकिन जैसा आपने अभी कहा कि (यह) ब्रिटिश भारतीयों में से करीब आधे का पैतृक घर भी है। और मेरा अद्भुत स्वागत किया गया, बिल्कुल अद्भुत।’

उन्होंने कहा कि मुझे कुछ-कुछ सचिन तेंदुलकर जैसा महसूस हुआ और अमिताभ बच्चन की तरह मेरा चेहरा सर्वव्यापी था। हर जगह मैं दिख रहा था और यह बहुत ही अभिभूत करने वाला था।’ उन्होंने कहा कि इस सुबह हमारी शानदार बातचीत हुई और इससे हमारे संबंध मजबूत हुए हैं। जॉनसन ने कहा कि चुनौतीपूर्ण समय में यह बहुत ही महत्वपूर्ण है कि हम ‘खास दोस्त’ नजदीक आए।
उन्होंने कहा कि मेरा मानना ​​​​है कि सबसे पुराने लोकतंत्रों और सबसे बड़े लोकतंत्रों में से एक- ब्रिटेन और भारत- के बीच साझेदारी निश्चित रूप से हमारे समय की सबसे महत्वपूर्ण साझेदारी है। जॉनसन अपनी दो-दिवसीय भारत पर यात्रा पर बृहस्पतिवार को अहमदाबाद पहुंचे थे और वहां वह प्रसिद्ध साबरमती आश्रम गए तथा उद्योगपति गौतम अडानी से भी मुलाकात की।
Koo App
WATCH: and British PM Boris Johnson meet at Hyderabad House in Delhi - Prasar Bharati News Services (@pbns_india) 22 Apr 2022
तेजी से हो रहे भू-राजनीतिक उथल-पुथल की पृष्ठभूमि में प्रधानमंत्री मोदी और उनके ब्रिटिश समकक्ष जॉनसन नए और विस्तारित भारत-ब्रिटेन रक्षा साझेदारी पर सहमत हुए हैं तथा इस साल के अंत तक महत्वाकांक्षी मुक्त व्यापार समझौता (एफटीए) करने का संकल्प लिया है।



और भी पढ़ें :