न्यायाधीशों के खिलाफ अपमानजनक पोस्ट डालने के मामले में 5 लोग गिरफ्तार

पुनः संशोधित रविवार, 8 अगस्त 2021 (19:09 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने और के न्यायाधीशों के खिलाफ सोशल मीडिया पर मानहानिकारक सामग्री डालने के मामले में 5 लोगों को किया है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी।
अधिकारियों ने बताया कि इस मामले में वाईएसआर कांग्रेस के लोकसभा सदस्य नंदीगाम सुरेश और इसी पार्टी के एक और नेता अमांची कृष्ण मोहन की भूमिका जांच के दायरे में है और एजेंसी ने किसी बड़े षड्यंत्र का खुलासा करने के प्रयास में दोनों से पूछताछ की है।

प्रवक्ता आरसी जोशी ने कहा, किसी बड़ी साजिश का पता लगाने के लिए सीबीआई ने एक सांसद, एक पूर्व विधायक समेत कुछ लोगों से पूछताछ की है और कुछ अन्य लोगों की भूमिका की भी जांच कर रही है, जिनके नाम प्राथमिकी में नहीं हैं।

एजेंसी ने शनिवार को आंध प्रदेश से दो लोगों-पत्तापू आदर्श और एल सांबा शिवा रेड्डी को गिरफ्तार किया था। अधिकारियों ने बताया कि इससे पहले सीबीआई ने 28 जुलाई को धामी रेड्डी कोंडा रेड्डी और पामुला सुधीर को गिरफ्तार किया था, वहीं कुवैत निवासी लिंगारेड्डी राजशेखर रेड्डी को नौ जुलाई को भारत पहुंचने पर गिरफ्तार किया गया था।

एक अधिकारी ने कहा, एजेंसी उसकी गतिविधियों पर नजर रख रही थी। वह जैसे ही भारत पहुंचा, अधिकारियों ने उसे अपनी हिरासत में ले लिया। सीबीआई ने न्यायाधीशों के खिलाफ डालने के मामले में 16 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इसी मामले में एजेंसी ने गिरफ्तारियां की हैं।
ALSO READ:

समुद्री सुरक्षा पर UNSC की हाईलेवल डिबेट की अध्यक्षता करेंगे PM मोदी
आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय ने एजेंसी को मामले की जांच करने तथा सीलबंद लिफाफे में उसे रिपोर्ट जमा करने को कहा था। जोशी ने कहा, आरोप है कि आरोपियों ने जानबूझकर न्यायपालिका को निशाना बनाते हुए न्यायाधीशों तथा न्यायपालिका के खिलाफ सोशल मीडिया पर अपमानजनक पोस्ट डाले। आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के कुछ फैसलों के बाद ऐसा किया गया।(भाषा)



और भी पढ़ें :