World Menstruation Hygiene Day 28 मई को, क्या है साल 2021 की थीम

मासिक धर्म प्राकृतिक प्रक्रिया है। एक उम्र के बाद हर महिला को इस दौर से गुजरना होता है। यह एक तरह से साइकिल है जो 12 मास होती है। 28 दिन बाद महिलाओं का पीरियड आता है और 5 दिन तक रहता है। इस तरह यह साइकिल संचालित होती है। हर साल 28 मई को पांचवे महीने में मनाया जाता है। 28 मई को दिन इसलिए मनाया जाता है क्योंकि पीरियड्स भी 28 दिन के बाद आता है और 5 दिन तक रहता है।

इस दिन को मनाने की शुरूआत जर्मन के एनजीओ वाॅश यूनाइटेड ने 2014 में की थी। इस दिन को मनाने का उद्देश्य महिलाओं और लड़कियों को इसके प्रति जागरूक करना। इन 5 दिनों में उन्हें साफ सफाई और सुरक्षा की दृष्टि से जागरूक करना।

हालांकि आज भी कई महिलाएं और लड़कियां इसे छुपाकर रखती है और इस विषय पर बात करने में झिझकती है। आज वर्ल्ड मेंस्ट्रुअल हाइजीन डे पर कुछ सावधानियों के बारे में बता रहे हैं जिसका उन्हें विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए।

1.आज भी कई महिलाएं और लड़कियां गांव/शहर में कपड़े का इस्तेमाल करती हैं। जिन्हें थोड़े वक्त बाद धो कर सुखा देती है लेकिन आज भी छुपाकर सुखाना या किसी कोने में डाल देना जहां कोई देख नहीं सकें। इस चक्कर में हवा और धूप नहीं मिल पाते हैं और कपड़े में संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है इससे महिला/लड़कियों को गंभीर बीमारी भी हो सकती है।

2.कपड़े के बजाए पैड का इस्तेमाल करना बेहद अच्छा है लेकिन लंबे समय तक एक ही पैड को लगाकर रखना किसी खतरे से कम नहीं है। वेजाइना में संक्रमण का खतरा भी हो सकता है इसलिए 6 घंटे बाद पैड जरूर बदल लें।

3.पीरियड्स के दौरान महिलाएं और लड़कियां अपने प्राइवेट पार्ट का खास ध्यान रखें। समय-समय पर उन्हें साफ करते रहें। साबुन का इस्तेमाल नहीं करें। इस जगह को आप गुनगुने गर्म पानी से साफ कर सकते हैं। अंगों पर ब्लड लग जाने से उन्हें तुरंत साफ करें। इससे किसी प्रकार की गंध नहीं आएगी।

4.कुछ महिलाएं और लड़कियां जिन्हें पीरियड्स के दौरान अधिक समस्या उत्पन्न होती है, अधिक ब्लीडिंग होती है ऐसे में वह 2 पैड का इस्तेमाल करती है लेकिन यह सही तरीका नहीं है। 2 पैड का इस्तेमाल करने से गर्मी अधिक बढ़ेगी, बैक्टीरिया जल्दी और अधिक पनप सकते हैं। इसलिए 1 ही पैड का इस्तेमाल करें।

5.गीले पैड का इस्तेमाल लंबे वक्त तक करने से जांघों में रैशेज भी हो सकते हैं। इससे बचाव के लिए आप बोरोप्लस का इस्तेमाल कर सकते हैं। कुछ ही देर में आराम मिल जाएगा। साथ ही इस्तेमाल पैड को कही भी खुले में नहीं फेंके। वह सभी के लिए खतरा है इसलिए पेपर में लपेटकर पाॅलीथिन में पैक करके कूड़ेदान में फेंके।

हर साल इस दिन की एक विशेष थीम होती है। जिसके तहत जागरूक करने का प्रयास किया जाता है। साल 2021 की थीम है ‘‘मासिक धर्म में स्वच्छता और स्वास्थ्य में कार्रवाई और निवेश‘‘।






और भी पढ़ें :