0

‘The Forty Rules of Love’ अंधेरे में भटके लोगों को रोशनी दिखाती है ‘एलिफ शफाक’ की किताब

गुरुवार,अक्टूबर 21, 2021
the forty rules of love
0
1
कर्ण साहित्यकारों का एक चहेता पात्र है। मराठी के प्रतिष्ठित उपन्यासकार शिवाजी सावंत का 'मृत्युंजय' कर्ण को केन्द्र में रखकर लिखा गया चरित्र-प्रधान उपन्यास है।
1
2
इस लेख में हम चर्चा करेंगे, स्टीव जॉब्स की बायोग्राफी "Steve Jobs" पर। यह अमेरिकी बिजनेस मैग्नेट और एप्पल इंक के संस्थापक स्टीव जॉब्स की अधिकृत बायोग्राफी है। इसे जॉब्स के अनुरोध पर CNN और TIME के पूर्व कार्यकारी वॉल्टर इसाकसन द्वारा लिखा गया था, ...
2
3
हम बात कर रहे हैं Sun Tzu, The Art of War (सन त्ज़ु, द आर्ट ऑफ़ वार) की, यह किताब सन त्ज़ु के द्वारा लिखी गई थी। यह किताब उस जमाने की सेना के युद्ध पद्धति और सैन्य तौर-तरीकों पर आधारित है, लेकिन यह किताब आज भी उतनी ही प्रासंगिक है जितनी 2500 साल ...
3
4
यदि आप खुद को किसी भी स्तर पर कमजोर मानते हैं तो आपको निक वुजिसिस ( Nick Vujicic ) की कहानी को जानने के बाद एक बार फिर से सोचना होगा। यह व्यक्ति पूरी दुनिया के लिए एक प्रेरक उदाहरण है कि शारीरिक कमजोरी कुछ नहीं होती है। यदि व्यक्ति मन से मजबूत हो तो ...
4
4
5
यह कहानी है चार्ल्स डार्विन की। जी हां, कभी इन्हें खयालों में खोया रहने वाला, आलसी, बेहद साधारण और औसत बुद्धि का व्यक्ति माना जाता था। डार्विन के पिता का और उनको सिखाने वालों का तो यही मानना था कि यह लड़का कुछ खास नहीं कर पाएगा।
5
6
जापानियों के लिए इकिगाई का मतलब है जीवन की सार्थकता। वे अपनी उम्र में यह खोजने की कोशि‍श करते हैं कि अपने जीवन को सार्थक कैसे बनाएं। इसके लिए वे क्‍या करते हैं।
6
7
आचार्य चाणक्य को ही कौटिल्य, विष्णु गुप्त और वात्सायन कहते हैं। उनका जीवन बहुत ही कठिन और रहस्यों से भरा हुआ है। चाणक्य के जीवन को जानसे से यह पता चलता है कि कैसे एक अनाथ बालक अपने दम पर मगथ साम्राज्य ही नहीं संपूर्ण भारत का अप्रत्यक्ष रूप से शासक ...
7
8
यह कहानी है फोर्ड कंपनी के मालिक हेनरी फोर्ड की, जिन्हें 5 वर्ष की उम्र में पढ़ाई के लिए एक गांव से ढाई किलोमीटर दूर पैदल ही दूसरे कस्बे के स्कूल जाना पड़ता था। पिता की इच्छा थी कि हेनरी एक अच्‍छा किसान बने लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था। 11 वर्ष ...
8
8
9

Life पर महान लोगों के 5 interesting Quotes

बुधवार,सितम्बर 22, 2021
जीवन जीने, चलते रहने और जिंदा रहने का नाम है। जीवन संबंधी ऐसी बहुत सारी बातें है जो आपको जीने के लिए प्रेरित करती है, परंतु सबसे बड़ी बात तो यह है कि आप हमेशा खुश और हंसते रहें। यही एक गुण है जो जीवन को सफल बना देता है।
9
10
भारत में सॉफ्टवेयर उद्योग की बात होते ही एन.आर नारायण मूर्ति और उनकी कंपनी इंफोसिस का जिक्र स्वत: ही हो जाता है। उनका जन्म 20 अगस्त 1946 को कर्नाटक के मैसूर में हुआ था। वह बचपन से ही प्रतिभाशाली छात्र थे। नारायण मूर्ति के पिता एक स्कूल अध्यापक थे।
10
11
डेविड गोगिंस ने अपने अनोखे अनुभव पर एक किताब लिखी है Can't Hurt Me: Master Your Mind and Defy the Odds” जो मोटिवेशनल और सेल्फ हेल्प जॉनर में बेस्ट सेलर रही है।
11
12
उस बच्चे का जन्म एक ऐसे परिवार में हुआ था जो आर्थिक रूप से ज्यादा सक्षम नहीं था, परंतु वो सभी फुटबॉल प्रेमी थे। उसी की वजह से उनके बच्चे में भी फुटबॉल के प्रति प्रेम जागृत हुआ। वह बच्चा जब 10 साल का हुआ तो स्थानीय फुटबॉल क्लब में खेलने लगा था। उसकी ...
12
13
यह कहानी है उस 8 वर्षीय बालक की जिसकी टांगें स्कूल में हुए एक हादसे में बुरी तरह से जल गईं थी। डॉक्टरों ने कहा कि अब यह जिंदगी में कभी चल नहीं पाएगा, क्योंकि उसके पैरों का सारा मांस जल चुका था। माता-पिता निराश हो गए। पूरे परिवार के लिए यह एक झटका
13
14
सबकी बातों में इंदौर था, पुराने मोहल्ले की पुरानी गलियां थीं, तीस सालों में इनमें से किसी से मुलाकात नहीं हुई थी लेकिन बातों का सिलसिला जब चल पड़ा तो ग्रुप कॉल भी होने लगीं और गूगल मीट भी। बातों-बातों में ही एक दिन भुवन सरवटे ने कहा कुछ अलग करना है।
14
15
इंस्पिरेशन (Inspiration) की हमारी सीरीज में इस बार जानिए 5 ऐसे क्वोट्स (Quotes) जो आपके भीतर जीवन जीने के साहस का संचार करते हैं। यह थॉट्स हमें सोचने पर मजबूर करते हैं।
15
16
यह कहानी है उस बालक की जिसने दुनिया को विज्ञान का एक नया सिद्धांत दिया। इनकी कहानी को पढ़कर ऐसा लगता है कि यह कैसे संभव हो सकता है कि जो बच्चा इतने संघर्ष में जिया वह कैसे एक महान वैज्ञानिक बन गया?
16
17
हर साल 5 सितंबर को ‘शिक्षक दिवस’ मनाया जाता है। यह दिवस पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाते हैं। आओ जानते हैं 10 महान विचारकों के शिक्षा और शिक्षक पर विचार।
17
18
कहीं कोई एक बात, एक शब्द, एक सलाह, एक समझाइश हमें याद रह जाती है और उसी के साथ याद रह जाते हैं कोई एक ऐसे टीचर जिन्होंने हमें संभाला था,.... इन विचारों को पढ़कर आपको भी कोई टीचर याद आते हैं तो हमें जरूर बताएं... उनकी वह बात जो आप आज तक नहीं भूल ...
18
19
प्रोफेसर और दार्शनिक जे. कृष्णमूर्ति का जन्म 1895 में आंध्रप्रदेश के मदनापाली में मध्‍यवर्ग परिवार में हुआ। कृष्णमूर्ति ने बड़ी ही फुर्ती और जीवटता से लगातार दुनिया के अनेकों भागों में भ्रमण किया और लोगों को शिक्षा दी और लोगों से शिक्षा ली। उन्होंने ...
19