पुलिस के लिए पहेली बनीं चार युवतियां

पुनः संशोधित मंगलवार, 2 जून 2015 (22:58 IST)
- संजय जैन
झाबुआ। जिला मुख्यालय के पास एक गांव से मंगलवार सुबह पकड़ी गईं चार युवतियां स्थानीय कोतवाली थाना के लिए पहेली बनी हुई हैं। रात तक उनसे जारी पूछताछ में उनकी हकीकत पता नहीं चल पाई थी।


जिले में कई दिनों से बच्चे पकड़ने की गैंग सक्रिय होने की चर्चा है। लगातार बच्चे गायब होने की सूचना भी पुलिस को मिल रही है। इसी के चलते ग्रामीणों की सूचना पर मंगलवार सुबह कोतवाली पुलिस ने ग्राम खरडू छोटी में संदिग्ध रूप से घूम रही चार युवतियों को पकड़ा।

पूछताछ के दौरान युवतियों ने अपने आपको कभी राजस्थान के पाली क्षेत्र का तो कभी नेपाल का निवासी होना बताया। लेकिन रात तक जारी पूछताछ में वे अपने सही निवास का ठोस प्रमाण नहीं दे पाई थीं और न ही उनके बताए अनुसार उनके परिवार के लोग वहां पहुंचे थे।

पुलिस को हुई शंका : पुलिस ने इन चारों संदिग्ध युवतियों को पकड़ने के बाद पूछताछ के लिए एसडीओपी रचना भदौरिया के समक्ष पेश किया। पूछताछ में युवतियों ने अपने आपको निर्दोष बताते हुए कहा कि वे राजस्थान के पाली क्षेत्र की हैं और इस क्षेत्र में मैजिक-बुक बेचने के लिए आईं हुईं हैं। वे इसी से अपने परिवार का पालन-पोषण करती हैं। उनके ग्रुप के कुल 9 सदस्य में रह रहे हैं।

पुलिस को इन युवतियों के पास से एक सूची भी मिली, जिसमें क्षेत्र के लोगों से 500, 1000 और 2000 रुपए की राशि लेना दर्शाया गया है। इस सूची के बारे में पुलिस के पूछने पर उन्होंने बताया कि वे नेपाल की निवासी और भूकंप पीड़ित हैं तथा लोगों से मदद के रूप में रुपए और कपड़े ले रही हैं। इस प्रकार दोहरी बात पर पुलिस को संदेह है कि इन युवतियों का वास्तविक काम कुछ और ही हो सकता है। फिलहाल उनसे पूछताछ जारी है।



और भी पढ़ें :