मध्यप्रदेश में अजान बनाम हनुमान चलीसा विवाद की एंट्री, महाकाल मंदिर के लाउडस्पीकर की आवाज बढ़ाने की उठी मांग

Author विकास सिंह| Last Updated: गुरुवार, 28 अप्रैल 2022 (16:04 IST)
हमें फॉलो करें
भोपाल। महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर पर अजान और हनुमान चालीसा को लेकर चल रहा विवाद अब में भी जोर पकड़ने लगा है। इंदौर में प्राचीन खेड़पति हनुमान मंदिर में अजान के समय लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा का पाठ करने से अब नया विवाद खड़ा हो गया है। खेड़पति हनुमान मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ करने के साथ इंदौर में हिंदू संगठनों ने चेतावनी दी है कि शहर के मंदिरों में लाउडस्पीकर लगाए जाएंगे जब-जब अजान होगी तब-तब हनुमान चालीसा और रामधुन करेंगे। हिंदू संगठनों ने मस्जिदों पर लगे लाउडस्पीकर हटाने के लिए प्रशासन को चेतावनी भी दी है।

भी पहुंचा लाउडस्पीकर विवाद-वहीं अब विश्व प्रसिद्ध महाकाल मंदिर तक पहुंच गया है। उज्जैन के स्वस्तिकपीठ के स्वस्तिकपीठाधीश्वर और अखाड़ा परिषद के पूर्व महामंत्री डॉ अवधेशपुरी महाराज ने आरोप लगाया है कि विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर के शिखर के ऊपर लगे लाउडस्पीकर की आवाज काफी कम है जिसके चलते महाकाल मंदिर के नजदीक जाने पर भी अजान की आवाज तो आती है लेकिन महाकाल की भस्मआरती की नहीं।
उन्होंने मांग की है कि महाकाल मंदिर प्रशासन तत्काल मंदिर के उपर लगे लाउडस्पीकर की आवाज बढ़ाए जिससे आसपास के क्षेत्र में एक धार्मिक वातावरण निर्मित हो सके। अवधेशपुरी महाराज कहते हैं कि महाकाल की नगरी में देश-विदेश श्रद्धालु शिव की भक्ति के लिए आते है लेकिन अजान की आवाज से उनकी धार्मिक भावना विकृत होती है। उन्होंने कहा कि या तो महाकाल मंदिर के क्षेत्र में मस्जिदों के लाउडस्पीकर भी बंद कर देने चाहिए अन्यथा महाकाल के ऊपर लगने वाले लाउडस्पीकर को तेज करे जिससे कि दूर-दूर से आए हुए भक्तगण बाहर से ही भस्म आरती एवं अन्य आरती व भजन कीर्तन का आनंद ले सकें ।

लाउडस्पीकर पर सियासत भी लाउड-इंदौर में लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा के पाठ करने पर सूबे के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि बचपन से हम 24-24 घण्टे रामायण पढ़ते आ रहे हैं। हनुमान चालीसा का पाठ करने में सनसनी जैसा कुछ नहीं है और सनसनी फैलाना नहीं चाहिए। सभी को धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार है, बशर्ते दूसरे की स्वतंत्रता का हनन न हो।
वहीं कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कांग्रेस को राम और हनुमान जी से आपत्ति है। हिंदू धर्म के कार्यक्रम पर कांग्रेस के पेट में दर्द होता है। कांग्रेस तुष्टिकरण की राजनीति को आगे बढ़ना चाहती है। कांग्रेस ये चाहती है ये कि इटली की सभ्यता को लागू किया जाए। वहीं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती और बजरंग दल के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष जय भान सिंह पवैया मध्यप्रदेश में भी उत्तर प्रदेश की तर्ज पर लाउडस्पीकर पर प्रतिबंध लगाने की मांग कर चुके हैं। वहीं इंदौर में हनुमान चालीसा के पाठ करने पर कांग्रेस ने भाजपा को निशाने पर लेते हुए कहा कि जनता का ध्यान भटकाने और अराजकता फैलाने के लिए इस तरह का काम कर रही है।



और भी पढ़ें :