रूठे मानसून को मनाने के लिए प्रार्थना

भोपाल (वार्ता)| वार्ता|
हमें फॉलो करें
इसे प्रार्थना या दुआओं का असर कहें कि रूठे मानसून को मनाने के लिए मध्यप्रदेश में पूजा-पाठ और का दौर शुरू होने पर की शुरुआत के साथ मानसून ने भी अपनी आमद दर्ज करा दी है।


धार्मिक नगरी उज्जैन के ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर में वर्षा की कामना के साथ गुरुवार को अतिरुद्राभिषेक आरंभ हुआ जिसमें मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी पत्नी साधनासिंह के साथ शामिल हुए। राज्य में कई अन्य स्थानों पर भी पूजा पाठ और यज्ञ आदि का सिलसिला शुरू हुआ है।

राजधानी भोपाल में आज अच्छी बारिश की दुआ के साथ हजारों मुस्लिम धर्मावलंबियों ने ईदगाह में विशेष नमाज 'इस्तस्का' अदा की। इस दौरान तपती दोपहरी में सैकड़ों मुस्लिम भाइयों ने नंगे पैर ईदगाह आकर नमाज अदा की। विशेष नमाज मुफ्ती ए आजम हजरत मौलाना अब्दुल रज्जाक ने अदा करवाई।

इससे पूर्व खास तकरीर करते हुए हजरत मौलाना काजी अमीरउल्ला खान ने कहा कि इस्लाम में इस नमाज का बड़ा महत्व है। पैगम्बर हजरत मोहम्मद साहब ने यह नमाज मैदाने गमामा में पढ़ी थी।


उन्होंने कहा कि बारिश न होने की वजह इंसान के पाप और गलत काम है। उन्होंने लोगों को पाप से दूर रहने की सलाह देते हुए कहा कि अगर इससे तौबा नहीं की तो वह दिन दूर नहीं जब कयामत सामने होगी।
पूजा और इबादत के इस दौर के बीच कल से राज्य के अनेक हिस्सों में बारिश की शुरुआत हुई है। मौसम विभाग ने भी इस बात की पुष्टि कर दी है कि राज्य में मानसून ने दस्तक दे दी है।



और भी पढ़ें :