बाली उमर में पहला प्यार


WD|
इधर दीप्ती का एकतरफा आकर्षण भी अपनी कहानी गढ़ रहा था। शहर में एक छोटा सा मेला लगा हुआ था। पारूल का प्रोग्राम तो नहीं बन पाया लेकिन दीप्ति और रिया अपनी सायकल से मेला देखने निकले ही थे कि कुछ दूर आगे जाकर निशांत दिखाई दिया जो अपनी सायकल से कहीं जा रहा था। रिया के मन में लड्डू फूट रहे थे, दीप्ति को यह बताने के लिए कि यही है वह लड़का, जो उसे छत से देखता है। रिया ने आगे निकल चुकी दीप्ति को आवाज लगाई और खुशी से फूली न समाते हुए कहा- दीप्ति यही है वो ....। दीप्ति भी बेहद उत्साहित थी निशांत के देखकर। वह भी रिया को यही बताना चाहती थी- कि यही है वह, जिसे कॉलेज में दीप्ति पसंद करती है । 
गुड्डे-गुडि़याेें और कपड़े तो होते थे एक जैसे  प्यार में यही इत्तफाक हुआ > मोहब्बत भी हुई तो एक ही शख्स से उनको  >  
कहानी में ना मोड़ आ चुका था। दोनों हैरान भी थी और हंसी भी नहीं रूक रह थी। हालांकि निशांत का झुकाव रिया की तरह था ,इसीलिए दीप्ति ने ध्यान हटाना ही उचित समझा और अपनी दोस्ती निभाई। अब दीप्ति ने ही निशांत का नाम पता करके रिया को बताया। बस फिर क्या था, नाम और सरनेम जानकर तो टेलीफोन डिक्शनरी में से नंबर ढूंढने का प्रयास किया गया। 5 से 6 रांग नबर लगाने के बाद निशांत के घर का असली नंबर भी मिल गया था। लेकिन उसने कभी फोन नहीं उठाया।  
 
  भटकते पहुंची जो उसके दर पर 
दरवाजा खुला मिला, पर वो नहीं मिला 

 
एक शाम रिया अपनी सहेली पारूल के घर पर खि‍ड़की से बाहर झांक रही थी, शाम करीब पौने 5 बजे का समय था। तभी उसे दूर से निशांत की कद काठी का कोई धुंधला-सा अक्स आता हुआ दिखा। जैसे-जैसे वह नजदीक आ रहा था, रिया के दिल की धड़कनें बढ़ रही थी। रिया ने जल्दी से पारूल ओर दीप्ती को आवाज लगाई..... अरे जल्दी आओ न,  निकल जाएगा वह।
 
हाय वो अचानक सामने आकर, नजर का मिलना
यूं लगा जैसे हम हम न रहे, कतल हो गए 
 
 



और भी पढ़ें :