ऑस्ट्रेलिया के हीरो रहे पंत इंग्लैंड में साबित हो रहे हैं जीरो, पर कोहली का है साथ

पुनः संशोधित मंगलवार, 31 अगस्त 2021 (22:06 IST)
लीड्स:इस साल की शुरुआत में से बड़ा क्रिकेट स्टार भारतीय फैंस के लिए नहीं था। उन्होंने सिडनी में खेले तीसरे टेस्ट में 91 की पारी खेली थी, यह टेस्ट भारत ड्रॉ करवा पाया था। इसके बाद ब्रिस्बेन में पंत ने 89 रनों की नाबाद मैच जिताऊ पारी खेली थी। इन दो पारियों की बदौलत ही पंत को आईसीसी प्लेयर ऑफ द मंथ (जनवरी 2021) का पुरुस्कार मिला था।

ऐसा लगा था कि वह SENA (South Africa, England, Newzealand, Australia) देशों के लिए भारत की खोज खत्म हो गई है लेकिन दौरे पर उनके खराब फॉर्म से टीम मैनेजमेंट चिंता में है।

हालांकि भारतीय कप्तान विराट कोहली ने विकेटकीपर ऋषभ पंत का समर्थन करते हुए कहा कि टीम प्रबंधन इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की बची हुई श्रृंखला में बल्लेबाजी के लिये उन्हें पूरा मौका देगा।

इंग्लैंड के खिलाफ मौजूदा श्रृंखला के तीनों मैचों में खेलने वाले 23 साल के पंत का बल्ला अब तक नहीं चला है। वह नाटिघंम में 25, लार्ड्स में 37 और 22 रन तथा लीड्स में 2 और 1 रन ही बना सके हैं जिससे उन्होंने कुल 84 रन बनाये हैं।

कोहली ने कहा, ‘‘जैसा कि मैंने कहा कि एक हार से मैं इसका आकलन नहीं कर सकता या फिर बतौर कप्तान मैं इसका विश्लेषण करना शुरू नहीं कर सकता। निश्चित रूप से प्रबंधन भी इसका विश्लेषण शुरू नहीं करेगा क्योंकि हम टीम के तौर पर विफल नहीं हो रहे हैं। ’’

उन्होंने पंत के निचले मध्यक्रम में रन नहीं जुटाने से हो रही परेशानी के बारे में पूछे गये सवाल पर कहा, ‘‘ हम लगातार नहीं हार रहे हैं, जब मैं ऐसा कहता हूं तो मेरा मतलब यही है। हम निश्चित रूप से इस मैच में बतौर टीम हारे और हम इसकी जिम्मेदारी लेते हैं। ’’

भारत को तीसरे टेस्ट में इंग्लैंड से पारी और 76 रन की हार का सामना करना पड़ा जिसमें दूसरी पारी में समेटने में तेज गेंदबाज ओली रॉबिन्सन ने 65 रन देकर पांच विकेट झटके।

उन्होंने कहा, ‘‘चेतेश्वर पुजारा के बारे में भी इसी तरह की जा रही थी, जो दूसरी पारी के बाद शायद गायब हुई दिखती हैं, इसलिये हम ऋषभ को अपना खेल खेलने के लिये पूरा मौका देना चाहते हैं और चाहते हैं कि वह परिस्थितियों को समझे और जिम्मेदारी ले जैसा कि बल्लेबाजी क्रम में हर किसी से उम्मीद की जाती है। ’’

कोहली के अनुसार क्रिकेटरों को हमेशा रनों की संख्या के आधार पर नहीं आंका जा सकता।उन्होंने कहा, ‘‘आप लोगों को हमेशा संख्या के आधार पर नहीं आंक सकते कि वे सफल हो रहे हैं या विफल हो रहे हैं, आप इस तरह टीम नहीं बनाते। ’’

कोहली ने कहा, ‘‘इस श्रृंखला में अब भी समय है। दो और टेस्ट मैचों के बाद हम देख सकते हैं और आकलन करेंगे कि हम इन इन विभागों में सही नहीं थे लेकिन अभी इसका समय नहीं है। ’’पुजारा ने तीसरे मैच से पहले रन नहीं बनाये थे, उन्होंने 91 रन की पारी खेली, हालांकि टीम हार गयी।

कोहली ने कहा, ‘‘हम बहुत खुश हैं जिस तरह से पुजारा ने इस पारी में बल्लेबाजी की। बाहर जो कुछ भी बोला जा रहा है, हम उसकी परवाह नहीं करते। हम जानते हैं कि वह अच्छा खेल रहा था और यह सिर्फ समय की बात है कि वह फिर से लय कब हासिल कर लेगा। ’

वैसे तो विराट कोहली का खुद का फॉर्म खराब चल रहा है। भला हो वह तीसरे टेस्ट की दूसरी पारी में 55 रन बना पाए जिससे चौथे और पांचवे टेस्ट के लिए उनको आत्मविश्वास आएगा। चौथे टेस्ट में जाने से पहले भारत के लिए बस दो ही सकारत्मक चीज हुई है वह है पुजारा और कोहली का फॉर्म में वापस आना।



और भी पढ़ें :