उपकप्तान राहुल कोच राहुल के हुए मुरीद, 'जैसे खेलते थे वैसे ही कोचिंग करते हैं'

पुनः संशोधित मंगलवार, 16 नवंबर 2021 (18:49 IST)
हमें फॉलो करें
जयपुर: भारत के नए मुख्य कोच राहुल द्रविड़ अपने साथ एक ऐसी संस्कृति लेकर आएंगे जिसमें खिलाड़ी टीम को अपने से ऊपर रखते हैं। यह भारत के नए उप-कप्तान का विचार है, जो उसी राज्य की टीम कर्नाटक के लिए खेलते हैं, जिसका द्रविड़ ने प्रतिनिधित्व किया था, और उन्हें तब से जानते हैं जब से वह विभिन्न आयु वर्ग के क्रिकेट में खेल रहे थे।

राहुल ने जयपुर में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ भारत के पहले टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच से दो दिन पहले एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "मैं बहुत भाग्यशाली रहा हूं कि मैं उन्हें बहुत लंबे समय से जानता हूं। ज़ाहिर तौर पर एक युवा खिलाड़ी के रूप में मैंने उनके दिमाग़ पढ़ने की कोशिश की जिसके बाद मैंने खेल को बेहतर ढंग से समझा और उनसे बात करने के बाद बल्लेबाज़ी की कला को बेहतर ढंग से समझा। वह बहुत दयालु हैं और वह हम सभी के लिए मददगार रहे हैं।"
उन्होंने कहा,"ज़ाहिर है कि जब से उन्होंने खेलना बंद किया है, वह कोचिंग में अलग-अलग टीमों से जुड़े और देशभर के लड़कों की मदद कर रहे हैं, इसलिए इस सेट-अप के साथ उनका हमसे जुड़ना, हमारे लिए उनसे सीखने का अवसर है। हम सभी जानते हैं कि द्रविड़ का भारतीय क्रिकेट में कितना बड़ा नाम है और उन्होंने हमारे देश के लिए किस तरह की चीज़ें की हैं, इसलिए यह हम सभी के लिए उनसे सीखने और क्रिकेटरों के रूप में बेहतर होने का एक शानदार अवसर होगा। खेल को बेहतर ढंग से समझने का समय और उनके दृष्टिकोण से खेल को समझने का समय।"
राहुल ने कहा,"जब कोचिंग की बात आती है, तो मैंने द्रविड़ के अंडर भारत ए सेट-अप में कुछ मैच खेले हैं और हमने यहां आने से ठीक पहले एक छोटी सी बातचीत की है। वह ऐसे हैं जो टीम कल्चर बनाना पसंद करते हैं और ऐसा माहौल जहां पर लोग क्रिकेटरों के रूप में बेहतर होने की कोशिश कर रहे हों। जब वह खेल रहे थे तो वह हमेशा एक टीम मैन रहे है और वह इस तरह की संस्कृति को यहां भी लाना चाहते हैं, जहां हर कोई टीम को व्यक्तिगत लक्ष्यों से आगे रखता है।"
न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ सीरीज़ भी रोहित शर्मा के लिए भारत के पूर्णकालिक टी20 अंतर्राष्ट्रीय कप्तान के रूप में पहली सीरीज़ होगी। राहुल ने कहा कि रोहित पहले से ही एक सिद्ध लीडर थे, जिन्होंने मुंबई इंडियंस को पांच आईपीएल ख़िताब दिलाए थे और उन्हें लगता है कि वह अपनी भूमिका में काफ़ी रणनीति कौशल के साथ सामरिक कौशल के साथ-साथ धीरज भी लाएंगे।
रोहित की कप्तानी को लेकर राहुल ने कहा, "रोहित के कप्तान होने में कोई नई बात नहीं है। जहां तक मुझे याद है कि वह मुंबई इंडियंस के कप्तान रहे हैं और उनके आंकड़े हर किसी के देखने के लिए हैं। उन्हें खेल की बहुत अच्छी समझ है और वह रणनीतिल रूप से वास्तव में बहुत अच्छे हैं और यही कारण है कि वह उस तरह की चीज़ें हासिल करने में सक्षम है जो उनके पास एक लीडर के रूप में है।"
उन्होंने कहा,"हम सभी को रोहित की बल्लेबाज़ी देखने में मज़ा आता है और हम सभी को उन्हें ड्रेसिंग रूम में रखने में मज़ा आता है, वह एक शानदार व्यक्ति हैं, इसलिए मुझे यकीन है कि वह उत्साहित हैं और टीम में हम सभी रोहित के अंदर खेलने के लिए उत्साहित हैं और वह ड्रेसिंग रूम में बेहद धीरज लाएंगे।"

उपकप्तान ने कहा,"अगले कुछ हफ़्ते या अगले कुछ दिन रोमांचक होंगे, यह समझने के लिए कि उनके पास किस तरह के लक्ष्य हैं और किस तरह की खेल संस्कृति है और मुझसे यह सवाल पहले पूछा गया था कि हम किस तरह के टेम्पलेट में खेलना चाहते हैं। अगले कुछ दिनों में हम उससे जितना अधिक बात करेंगे, मैं इसे बेहतर ढंग से समझ पाऊंगा और हो सकता है कि अगली बार जब मेरी यह बातचीत हो तो मैं आपको वह उत्तर दे सकूं। यह भारतीय क्रिकेट में एक बड़ा बदलाव है, इसलिए हम सभी इसके लिए उत्सुक हैं और वास्तव में इसे लेकर उत्साहित हैं।"
राहुल ने उप-कप्तान के रूप में अपनी भूमिका पर कहा कि वह खिलाड़ियों के लिए एक सुरक्षित टीम वातावरण बनाने के लिए बाक़ी नेतृत्वकर्ताओं के साथ काम करने की कोशिश करेंगे।उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि यह एक सामूहिक प्रयास है। टीम खेल में जो कुछ भी होता है, यह हमेशा एक सामूहिक निर्णय होता है और नेतृत्व समूह यह सुनिश्चित करने में वास्तव में महत्वपूर्ण हो जाता है कि हर कोई सहज महसूस कर रहा है, हर कोई अपनी भूमिका के बारे में स्पष्ट है, हर कोई टीम में सुरक्षित महसूस कर रहा है और मुझे लगता है कि उस तरह का वातावरण बनाना हम सभी के लिए एक रोमांचक चुनौती है और हम वास्तव में इसके लिए तैयार हैं।"(वार्ता)



और भी पढ़ें :