दूसरे छोर पर जो रूट ने बल्ले को पकड़ा नहीं फिर भी रहा खड़ा, बात जादू की है या फिर कुछ और? (Video)

दूसरे छोर पर खड़े होकर भी जो रूट ने दिखाया जादू, बिना सहारे के बल्ला खड़ा रहा

Last Updated: मंगलवार, 7 जून 2022 (16:26 IST)
हमें फॉलो करें
कप्तानी छोड़ने के बाद अपने पहले ही टेस्ट में शतक लगाने वाले ने ना केवल शतक जड़ा बल्कि 10 हजार रन का आँकड़ा भी पार किया। न्यूजीलैंड के खिलाफ लॉर्ड्स टेस्ट में रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड बनाने वाले जो रूट सिर्फ इस वजह से ही सुर्खियों में नहीं आए।

दरअसल न्यूजीलैंड द्वारा 277 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए एक वीडियो क्लिप में दूसरे छोर पर खड़े जो रूट का बल्ला जमीन पर सीधे खड़ा हुआ था और वह भी बिना जो रूट के सहारे से।इस वीडियो को देखकर सभी भौंचक्के हो गए थे।
हालांकि इसका एक कारण यह हो सकता है कि जो रूट के बैट का निचला हिस्सा काफी चौड़ा होगा जिसके कारण रूट का बल्ला जमीन पर सीधे खड़ा हो पाया।

रूट ने शतक जमाकर बनाए कई रिकॉर्ड

पूर्व कप्तान जो रूट के शतक और बेन फोक्स के साथ उनकी अटूट शतकीय साझेदारी से इंग्लैंड ने पहले क्रिकेट टेस्ट के चौथे दिन न्यूजीलैंड को पांच विकेट से हरा दिया।

5 साल में रिकॉर्ड 64 मैच में टीम की कमान संभालने के बाद अप्रैल में टेस्ट टीम की कप्तानी छोड़ने वाले रूट ने नाबाद 115 रन की पारी खेली। उन्होंने फोक्स (नाबाद 32) के साथ छठे विकेट के लिए उस समय 120 रन की अटूट साझेदारी की जब टीम 277 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 159 रन पर पांच विकेट गंवाने के बाद संकट में थी। किसी टेस्ट की चौथी पारी में यह रूट का पहला शतक है।रूट ने 170 गेंद की अपनी पारी में 12 चौके जड़े जबकि फोक्स ने 92 गेंद का सामना करते हुए तीन चौके मारे।

कुक की उम्र में ही रूट ने भी बनाए 10 हजार रन

अपनी पारी के दौरान रूट अपने पूर्ववर्ती कप्तान एलिस्टेयर कुक के बाद टेस्ट क्रिकेट में 10 हजार रन पूरे करने वाले इंग्लैंड के सिर्फ दूसरे बल्लेबाज बने। इन दोनों बल्लेबाजों ने ठीक 31 साल और 157 दिन की समान उम्र में टेस्ट क्रिकेट में 10 हजार रन के आंकड़े को छुआ।यह रूट का 26वां टेस्ट शतक है और उन्होंने वेस्टइंडीज के महान बल्लेबाज सर गारफील्ड सोबर्स की बराबरी कर ली।
इंग्लैंड ने दिन की शुरुआत पांच विकेट पर 216 रन से की। उसे 61 रन की और दरकार थी जबकि उसके पांच विकेट शेष थे।सुबह से ही आसमान में बादल छाए हुए थे और मैदान पर दूधिया रोशनी की गई थी। हालात बल्लेबाजी के अनुकूल नहीं थे और ऐसे में रूट और फोक्स ने जिम्मेदारी से बल्लेबाजी की।रूट ने नाबाद 77 रन से पारी को आगे बढ़ाया जबकि फोक्स ने एक छोर पर टिके रहने को तरजीह दी।

बाउंड्री लगाना आसान नहीं था और ऐसे में रूट ने स्ट्राइक रोटेट की। लक्ष्य जब 30 रन से कम रह गया तो उन्होंने टिम साउथी पर चौका जड़ा।रूट ने काइल जैमीसन पर सीधे चौके के साथ 90 रन के निजी स्कोर को पार किया। इसके बाद वह भाग्यशाली रहे जब जेमीसन की गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर चार रन के लिए चली गई।

न्यूजीलैंड को करिश्मे के लिए दूसरी नई गेंद की जरूरत थी लेकिन रूट ने इसकी नौबत नहीं आने दी। पारी के 77वें ओवर में रूट 98 रन बनाकर खेल रहे थे जबकि उनके टेस्ट करियर की रन संख्या 9,998 थी। उन्होंने साउथी पर मिड विकेट पर दो रन के साथ शतक और 10 हजार टेस्ट रन पूरे किए।रूट ने इसके बाद 79वें ओवर में साउथी पर तीन चौकों के साथ इंग्लैंड को जीत दिला दी।



और भी पढ़ें :