जड़ेजा के बाद गेंदबाजों ने लगाए शॉट्स, पहली पारी के आधार पर भारत ने इंग्लैंड पर ली 95 रनों की बढ़त

Last Updated: शुक्रवार, 6 अगस्त 2021 (22:52 IST)
सलामी बल्लेबाज केएल राहुल और आलराउंडर रविंद्र जडेजा की दमदार अर्धशतकीय पारियों की मदद से ने के खिलाफ पहले टेस्ट क्रिकेट मैच के तीसरे दिन शुक्रवार को यहां पहली पारी में 95 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल की।

भारतीय टीम ने अपनी पहली पारी में 278 रन बनाये। अपनी पहली पारी में 183 रन बनाने वाले इंग्लैंड ने चाय के विश्राम के थोड़ी देर बाद ही खेल में बारिश ने व्यवधान डाला और खराब रोशनी के कारण उसे रोकना पड़ा।

इंग्लैंड ने 9 ओवर में बिना किसी नुकसान के 25 रन बनाये हैं। इस तरह भारत की बढ़त अब 70 रन की रह गयी है। चाय के विश्राम के समय रोरी बर्न्स 11 और डॉम सिब्ले 9
रन पर खेल रहे थे।

राहुल ने समझदारी से बल्लेबाजी की और 214 गेंदों पर 84 रन बनाये जिसमें 12 चौके शामिल हैं। जडेजा ने अपने बल्लेबाजी कौशल का फिर से अच्छा नजारा पेश किया तथा 86 गेंदों पर आठ चौकों और एक छक्के की मदद से 56 रन बनाये। इन दोनों ने छठे विकेट के लिये 60 रन की साझेदारी की।
भारत के अंतिम तीन बल्लेबाजों ने 48 महत्वपूर्ण रन जोड़े जिनमें ने 28 रन का योगदान दिया जिसमें तीन चौके और एक छक्का शामिल है। अपना दूसरा टेस्ट खेल रहे तेज गेंदबाज ओली रॉबिन्सन (85 रन देकर पांच) ने बुमराह को आउट करके अपने करियर में पहली बार पारी में पांच विकेट लिये। अनुभवी जेम्स एंडरसन ने 54 रन देकर चार विकेट हासिल किये।
भारत ने सुबह चार विकेट पर 125 रन से आगे खेलना शुरू किया और बारिश से प्रभावित पहले सत्र में ऋषभ पंत (20 गेंदों पर 25 रन) का विकेट खोकर 66 रन जोड़े। बारिश के कारण पहले 95 मिनट में केवल 11 गेंदें ही डाली जा सकीं।

खेल फिर से शुरू होने पर पंत ने रॉबिन्सन के बाउंसर पर नीचे झुकने के बजाय उस पर बल्ले का बल लगाकर विकेटकीपर के ऊपर से छह रन के लिये भेजा लेकिन अगली गेंद की अतिरिक्त उछाल पर वह गच्चा खाकर शार्ट कवर पर आसान कैच दे बैठे।
राहुल ने संभलकर बल्लेबाजी की लेकिन जडेजा अपने नैसर्गिक अंदाज में खेले। उन्होंने इस बीच टेस्ट क्रिकेट में 2000 रन पूरे किये और इस तरह से 200 विकेट और 2000 रन का ‘डबल’ भी पूरा किया। जडेजा के नाम पर 221 विकेट दर्ज हैं। वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले दुनिया के 21वें और भारत के पांचवें आलराउंडर हैं।

राहुल पूरी मजबूती के साथ शतक की तरफ बढ़ रहे थे। एंडरसन पर लगाया गया उनका किताबी कवर ड्राइव दर्शनीय था लेकिन इसी ओवर में कोण लेती गेंद पर विकेटकीपर जोस बटलर को कैच दे बैठे। एंडरसन का यह टेस्ट मैचों में 620वां विकेट और इस तरह वह अनिल कुंबले को पीछे छोड़कर सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों में तीसरे नंबर पर काबिज हो गये।
अपने बल्लेबाजी कौशल के कारण टीम में शामिल किये शार्दुल ठाकुर (शून्य) को भी एंडरसन ने विकेट के पीछे कैच कराया। इसी गेंदबाज के अगले ओवर में जडेजा ने पहले चौका और फिर लांग लेग पर छक्का लगाया। उन्होंने रॉबिन्सन की गेंद चार रन के लिये भेजकर अपना 16वां टेस्ट अर्धशतक पूरा किया। जडेजा ने हालांकि इसी ओवर की आखिरी गेंद हवा में लहराकर मिड ऑफ पर कैच दिया।

बुमराह, मोहम्मद शमी (13) और मोहम्मद सिराज (नाबाद सात) ने इंग्लैंड के गेंदबाजों को राहत नहीं लेने दी। बुमराह ने सैम करेन की लगातार गेंदों पर दो चौके और एक छक्का लगाया। इंग्लैंड ने तुरंत ही नयी गेंद ली लेकिन तब भी बुमराह और सिराज आखिरी विकेट के लिये 33 रन जोड़ने में सफल रहे।



और भी पढ़ें :