डे नाइट टेस्ट के तीसरे दिन भारत की पकड़ मजबूत, 143 रनों पर ऑस्ट्रेलिया के 4 विकेट गिराए

Last Updated: शनिवार, 2 अक्टूबर 2021 (21:17 IST)
हमें फॉलो करें
गोल्ड कोस्ट: आस्ट्रेलिया ने शनिवार को यहां के खिलाफ बारिश से प्रभावित एकमात्र दिन-रात्रि महिला क्रिकेट टेस्ट के तीसरे दिन स्टंप तक पहली पारी में चार विकेट पर 143 रन बना लिये।भारत ने पहली पारी आठ विकेट पर 377 रन पर घोषित की थी जिससे आस्ट्रेलियाई टीम 234 रन से पीछे चल रही है।एलिस पैरी 27 और एशले गार्डनर 13 रन बनाकर खेल रही हैं।भारतीय गेंदबाज झूलन गोस्वामी और पूजा वस्त्राकर ने दो दो विकेट झटके।

अनुभवी तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी (27/2) ने बेहतरीन गेंदबाजी कर ऑस्ट्रेलिया के दो विकेट झटक लिए थे जिससे एक समय उसका स्कोर दो विकेट पर 63 रन था। इससे दिन का खेल समाप्त होने तक ऑस्ट्रेलियाई टीम भारत से 234 रन से पिछड़ रही थी। गोस्वामी के अलावा पूजा वस्त्रकार ने 31 रन देकर ऑस्ट्रेलिया को दो झटके दिए।भारतीय टीम ने 145 ओवर में आठ विकेट पर 377 रन पर पहली पारी घोषित की थी।

मिताली राज की टीम भाग्यशाली रही कि अंपायर ने ऑस्ट्रेलियाई कप्तान मेग लैनिंग (38) को गलत आउट दे दिया और यह गेंद वस्त्रकार की थी। मिताली राज की टीम भाग्यशाली रही कि अंपायर ने ऑस्ट्रेलियाई कप्तान मेग लैनिंग (38) को गलत आउट दे दिया और यह गेंद वस्त्रकार की थी। हालांकि लैनिंग के आउट होने से डीआरएस नहीं होने पर सवाल उठाए जा रहे हैं जिसे मैच का हिस्सा होना था लेकिन आयोजक योजना के अनुसार नहीं चल सके।

दिन-रात्रि के मैच के दौरान थोड़ी ओस भी थी लेकिन इससे भारतीय गेंदबाजों को ज्यादा मदद नहीं मिली, पर उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई पारी में ज्यादातर समय कसी गेंदबाजी जारी रखी। तहलिया मैकग्रा (28) वस्त्रकार की शॉर्ट गेंद को ऊंचा खेल बैठीं जो प्वाइंट पर सीधे स्मृति मंधाना के हाथों में गई, इससे मेजबान टीम का स्कोर चार विकेट पर 119 रन हो गया।
इसके बाद गोस्वामी को फिर गेंदबाजी पर लगाया गया और उनके लिए दो स्लिप लगाई, पर एलिस पैरी और एशले गार्डनर स्टंप तक डटी रहीं। पैरी 27 और गार्डनर 13 रन बनाकर खेल रही हैं। भारत ने पारी घोषित करने का फैसला सही समय पर लिया क्योंकि दूधिया रोशनी के कारण गुलाबी गेंद से के दूसरे सत्र में बल्लेबाजी सबसे मुश्किल होती है।

ऑस्ट्रेलिया को पहला झटका बेथ मूनी के रूप में लगा जिन्हें गोस्वामी ने बोल्ड किया। लेकिन एलिसा हीली (29) और कप्तान लैनिंग ने कुछ आकर्षक शॉट लगाकर पारी आगे बढ़ाई। हालांकि चाय ब्रेक से कुछ देर पहले गोस्वामी ने अपनी शानदार गेंदबाजी से मेजबान टीम को दूसरा झटका दिया। 38 साल की भारतीय तेज गेंदबाज की गेंद एलिसा हीली के बल्ले को चूमती हुई विकेटकीपर तानिया भाटिया के हाथों में समा गई।

इससे पहले भारत के लिए दीप्ति शर्मा ने 66 रन की पारी खेली और टीम के लिये दूसरी सर्वश्रेष्ठ स्कोरर रहीं। शुक्रवार को सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना ने खेल के इस प्रारूप में अपना पहला शतक जड़ा था। भारत ने डिनर तक सात विकेट पर 359 रन बना लिए थे। टीम ने कैरारा ओवल में पांच विकेट पर 276 रन के स्कोर से खेलना शुरू किया।
दूसरे दिन बारिश और बिजली गरजने से खेल जल्दी खत्म हो गया था जिससे तीसरे दिन का पहला सत्र लंबा रहा जिसमें भारत ने 83 रन बनाकर तानिया भाटिया और वस्त्रकार के विकेट गंवाए। तानिया ने 75 गेंद में 22 रन बनाये जबकि वस्त्रकार केवल 13 रन ही बना सकीं। तानिया के आउट होने से दीप्ति और उनके बीच छठे विकेट के लिये 45 रन की साझेदारी का अंत हुआ।

भारतीय टीम ने तेजी से रन जुटाने के बजाय धीमी गति से रन बनाए जिससे ऐसा लग रहा है कि दोनों टीमें नतीजे के बजाय ड्रॉ से संतुष्ट रहना चाहेंगी क्योंकि खराब मौसम के कारण मैच का काफी खेल खराब हो गया। तानिया और दीप्ति ने इस 45 रन की साझेदारी के लिए 28 से ज्यादा ओवर तक बल्लेबाजी की।

स्टेला कैंपबेल ने तानिया का विकेट झटका जो उनका पहला टेस्ट विकेट भी था। यह कैच विकेट के पीछे एलिसा हीली ने लपका। भारतीय टीम ने हालांकि ज्यादा विकेट नहीं गंवाये लेकिन बल्लेबाजों ने सपाट दिख रही पिच पर ढीली गेंदों का फायदा नहीं उठाया। दीप्ति ने 12 रन से दिन की शुरुआत की थी, उन्होंने 148 गेंद में पांच चौकों की मदद से अपना दूसरा टेस्ट अर्धशतक पूरा किया।



और भी पढ़ें :