0

कविता : संजा के मीठे बोल

सोमवार,सितम्बर 27, 2021
0
1
बीच सड़क पर थूक दिया तो, नगर पालिका वाले आ गए। दादाजी को बिठा कार में, तुरत फुरत थाने पहुंचा गए।
1
2
पूरब के पर्वत पर किसने, बिठा दिया सूरज का गोला। 'बड़ी भोर में बांग लगाना,' किसने यह मुर्गे से बोला।
2
3
डांट रहे थे बच्चाजी को, मिस्टर टीचरराम। पढ़ने में तुम बहुत गधे हो, नालायक, नाकाम।
3
4
एक दिन घर पर गाय आ गई। बोली हमको चाय पिलाओ। दूध दिया है, तुमको मैंने,चाय पिलाकर कर्ज चुकाओ।
4
4
5
पुस्तक और किताबें महंगी। जूते और जुराबें महंगी। शाला के परिधान कीमती। शिक्षा का सामान कीमती
5
6
हाथ बढ़ाकर मक्खी दीदी, पीस रही थी चक्की। तभी कहीं से आया मच्छर,जो था पूरा झक्की।
6
7
सुर्रा सत्तू सुर्रा सत्तू, सुर्रम सूडा ताल, नहीं जमा इंदौर तो दद्दू, पहुंच गए भोपाल।
7
8
ताधिक ताधिक ता ता धिन्ना। हाथी दादा चूसो गन्ना। फिर थोड़े से केले खाना। केले खाकर मेले जाना।
8
8
9
मौज-मटरगस्ती करने में सारा समय गंवाया, माता-पिता ने समझाया था, पर मैं समझ न पाया।
9
10
किरणों के गमछे से, सबके सब पूंछने हैं। सूरज पर कोहरे के, दाग लगे जितने हैं।
10
11
अब जहां देखो वहां छाया अंधेरा, धूप कब की जा चुकी। रोशनी के लेख सूरज लिख रहा
11
12
मम्मी पापा से कहिएगा, वोट डालने जाएं जी, घर में यूं ही पड़े-पड़े वे, व्यर्थ न समय गवाएं जी।
12
13
पेड़ पत्ते डालियों का मुस्कराना गुनगुनाना, रूप धर बहुरूपिया का फिर सजा मौसम सुहाना।
13
14
सूर्योदय से पहले उठकर, निपटे नित्य क्रिया। सदा निरोगी काया जिसकी, जीवन वही जिया।। उदाहरण कोई बन जाए, वह उद्योग करें।। आओ योग करें। आओ योग करें।।
14
15
चि‍ड़िया चहक-चहक कहती, सुबह-शाम मैं गगन में रहती
15
16
बहुत लुभाता है गर्मी में, अगर कहीं हो बड़ का पेड़। निकट बुलाता पास बिठाता, ठंडी छाया वाला पेड़।
16
17
मार-मार कर लगा नचाने, पर भालू न नाचा। जड़ा मदारी ने गुस्से में, उसके गाल तमाचा।
17
18
दो के एकम दो होते हैं, दो के दूनी चार। काम शुरू करने से पहले, करना सोच विचार।
18
19
बड़ा हो गया फिर भी रेल की सीटी बजते, मन डोल-डोल जाता, रेलगाड़ी देखना अपनापन-सा लगता
19