कुंआरी लड़कियां भी रखती हैं करवा चौथ का व्रत, इन 4 कारणों से, जानिए कैसे रखती हैं ये व्रत

essay on karva chauth
Last Updated: शनिवार, 23 अक्टूबर 2021 (12:10 IST)
: 24 अक्टूबर 2021 रविवार को करवा चौथ का व्रत रखा जाएगा। यह हिन्दू माह कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को रखा जाता है। विशेष तौर पर यह व्रत विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए रखती हैं। परंतु मान्यता के अनुसार कुछ जगहों पर इस व्रत को कुंआरी लड़कियां भी 4 कारणों से रखती हैं। आओ जानते हैं वे 4 कारण।

कई लोगों के मन में सवाल होगा कि कुंआरी लड़कियां व्रत रख सकती है क्या ( ), हालांकि इसका जवाब है कि कई जगहों पर कुंवारी लड़कियों को यह व्रत रखते हुए देखा गया है।
1. पहला मनोवांछित पति की प्राप्ति के लिए।
2. दूसरा मंगनी हो गई है तो मंगेतर के लिए।

3. तीसरा यदि किसी के साथ प्रेम के रिश्ते में है तो उसके लिए।

4. चौथा अपने भावी पति के लिए।
karva chauth muhurat
यदि कुंआरी लड़किया व्रत रख सकती है वे किस तरह व्रत रखती हैं? ( ) यह सवाल भी कई लोगों के मन मैं होगा। आओ जानते हैं कि वह किस तरह से व्रत रखती हैं।

- कहते हैं कि अविवाहित लड़कियां यदि यह व्रत रखती हैं तो उन्हें करवा माता का आशीर्वाद मिलता है और सेहत में भी सुधार होता है।

- इस दिन कुंआरी लड़कियां निर्जल की जगह निराहार व्रत रख सकती हैं।
- इस दिन कुंवारी लड़कियां चांद को न देखकर तारों को देखकर अपना व्रत खोलती हैं। तारे देखने के लिए छलनी का इस्तेमाल नहीं करना होता है, क्योंकि उन्हें छलनी में किसी की सूरत भी नहीं देखनी होती है।
- इस दिन ये अविवाहित लड़कियां चांद की जगह तारों को अर्घ्य देती हैं।



और भी पढ़ें :