नूतन वर्ष और विविध राशियाँ

क्या ला रहा है नया साल आपके लिए

ND

: कामकाज में प्रगति, व्यावसायिक उन्नति, शांति मिलेगी। आलस्य व अनियमितता बढ़ेगी। धार्मिक यात्राओं के योग, प्रतिस्पर्धा में सफलता, जीवन में संतोष रहेगा। जनवरी, फरवरी, मई, सितंबर व नवंबर प्रतिकूल रहेंगे, शेष माह अनुकूल व शुभ प्रभाव देंगे।

हनुमान जी व शिव की आराधना व बुजुर्गों का सान्निध्य लाभ देगा

वृषभ : कार्य परिवर्तन व नए कार्य प्रारंभ होंगे। प्रारंभ में बहुत परिश्रम करना होगा, मगर सफलता मिलेगी। प्रशंसा व सम्मान मिलेगा, पारिवारिक जीवन भी अनुकूल रहेगा। आर्थिक‍ स्थिति सामान्य, अनायास खर्च व समस्याएँ सिर उठा सकती हैं। वाद-विवाद से बचना चाहिए। संतान से शुभ समाचार मिलेंगे। जनवरी, फरवरी, मार्च, अप्रैल, सितंबर, अक्टूबर अच्छे फलदायक हैं। शेष महीनों में सावधानी रखें।

शिव व देवी की आराधना करें, राहु का दान करें

: पुरानी गलतियों पर पश्चाताप व असंतोष रहेगा। कार्य क्षेत्र में श्रम करना होगा। विवाद भी हो सकता है। कुछ कटु अनुभव भी हो सकते हैं। संयम रखना होगा। गुरु का नवम गोचर सहायता करेगा। धीरे-धीरे काम बनेंगे। नौकरी परिवर्तन का विचार त्यागें। अनायास खर्च को टालें। तनाव से निकलने का प्रयास करें। अप्रैल, जून, जुलाई, अक्टूबर व दिसंबर अनुकूल हैं। शेष महीनों में सावधानी रखें।

गणेश जी व गायत्री की आराधना करें। पक्षियों को भोजन दें।

ND
: मिला-जुला समय रहेगा। शांति, संयम, नियमितता व लगन से कार्य करना होगा। समझौतावादी रवैया रखें। स्वास्थ्‍य गड़बड़ा सकता है, ध्यान दें। परिवार में भी तनाव से बचें, अति साहस से बचें। रिस्क न लें, नया निवेश भी न करें। नौकरी में परिवर्तन, विवादों से बचें। छोटे-छोटे निर्णय भी सावधानी से लें। खर्च पर नियंत्रण रखें। जनवरी, फरवरी, मार्च, अप्रैल, जून व अगस्त अनुकूल रहेंगे। शेष महीनों में ‍विशेष ध्यान रखें।

शिवजी व विष्णु जी की आराधना करें, अन्न व वस्त्र दान करें

: स्वभाव में शांति, संयम व अनुशासन रखें। उत्साह बना रहेगा, नए अवसरों का लाभ लेना चाहिए। कर्ज से राहत मिलेगी, आमदनी बढ़ेगी। क्रोध से बचें। आदेशों की अवहेलना व बेकार ‍की जिद से नुकसान होगा। ज्ञान का उपयोग कर स्थितियों के अनुसार स्वयं को ढालें। जनवरी से मई तक सावधानी अपेक्षित, उसके बाद समय अनुकूल है।

सूर्य की आराधना व हनुमान जी का पूजन करें।

कन्या : वर्ष सामान्य है। संतोष रखें, शांति से कार्य करें। परिश्रम अधिक करना होगा। जिम्मेदारी बढ़ेगी। खर्च बढ़ेगा। व्यसनाधीनता, लोभ, लालच से बचें। नए काम व अवसर मिलेंगे, मगर कार्य मंद गति से ही होंगे। थकान व स्वास्थ्‍य में गड़बड़ी रहेगी। नौकरी में सावधानी से काम लेना होगा। जनवरी, मार्च, अप्रैल, अक्टूबर, नवंबर अनुकूल है। शेष माह में सावधानी रखें।

शनि का जाप, विष्णु पूजा व दान से राहत मिलेगी

ND
तुला : लाभदायक व उपलब्धिकारक समय रहेगा। ऊर्जावान बने रहेंगे। पुरस्कार व सम्मान के भी योग बनेंगे। स्वास्थ्‍य गड़बड़ा सकता है। रोजगार में प्रगति, लाभ व सहयोग बना रहेगा। परिवार में स्नेह व शांति रहेगी। गुप्त शत्रु भी बनेंगे, ध्यान रखें। वैचारिक व मानसिक संतोष बढ़ेगा। संतान से भी सुखद समाचार मिलेंगे। जनवरी, अप्रैल, मई, जुलाई, सितंबर व नवंबर शुभ है। शेष माह सामान्य रहेंगे।

देवी की आराधना व दान करें

वृश्चिक : उत्साह व आत्मविश्वास बना रहेगा। कार्य की प्रशंसा होगी, नए अवसर मिलेंगे। आमदनी बढ़ेगी। घमंड से बचें। वैचारिक संतोष रहेगा। क्रोध से बचना चाहिए। पत्नी के स्वास्थ्‍य में परेशानी होगी। संतान पक्ष व आर्थिक योग उत्तम है। फरवरी, मार्च, अप्रैल, जुलाई, अक्टूबर में सावधानी रखें। शेष समय ठीक है।

हनुमान जी व विष्णु जी की आराधना करें, वस्त्र दान करें।

धनु : उत्साह- आत्मविश्वास बढ़ेगा। योग्यता अनुभव से रास्ता मिलेगा, परिवार में प्रसन्नता रहेगी। संतान की शिक्षा से संबंधित शुभ समाचार मिलेंगे। भागीदारी व नई योजना में यश मिलेगा। नौकरी में परिवर्तन के आसार, सावधानी रखें। पदोन्नति के योग आएँगे। आर्थिक स्थिति व स्वास्थ्‍य में सुधार। नियमितता बनाए रखें। वाद-विवाद टालें, अति विश्वास से बचें, धोखा हो सकता है। तनाव को टालें, विवादों से बचें। मार्च, अप्रैल, मई, अगस्त, सितंबर, ‍नवंबर उत्तम है। शेष समय सावधानी रखें।।

इष्ट की पूजा, गुरु का मागदर्शन प्राप्त करें। पक्षियों व जानवरों की सेवा करें, मंदिर जाएँ

मकर : वर्ष का उत्तरार्ध अधिक अनुकूल, पारिवारिक दृष्टि से मध्यम, अनबन, कटुता रहेगी। पर संयम रखें, तनाव व चिड़चिड़ाहट से बचें। सहनशील व समझौतावादी बनें। परीक्षा प्रतियोगिता में यश मिलेगा, बचत होगी, आय बढ़ेगी। वाद-विवाद टालें। बड़ों का सम्मान करें। मेहनत का उचित फल प्राप्त होगा। मई, जून, अगस्त, सितंबर, अक्टूबर, दिसंबर उत्तम है। शेष माह साधारण हैं।

सूर्य की आराधना, गायत्री जाप व शिवपूजन करें। राहु का दान करें।

कुंभ : प्रगतिकारक समय, सतर्कता, लगन व परिश्रम से कार्य करें। शांति संतोष रखें, विवाद टालें। अनचाहे कार्य भी होंगे। पारिवारिक समस्याएँ उभरेंगी। करियर में उन्नति, सफलता रचनात्मक कार्य होंगे। आर्थिक योग उत्तम, वाहन सुख, विवाह आदि मांगलिक कार्य होंगे। प्रलोभन से बचें, शत्रु से सावधान रहें। जून से दिसंबर अच्छा समय है। पूर्वार्द्ध में सावधानी अपेक्षित।

हनुमान जी व शिव की आराधना करें।

मीन : स्थिति में सुधार, आशातीत सफलता मिलेगी। हिम्मत, साहस रहेगा। महत्वपूर्ण कार्य होंगे। असंतोष रहेगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। कार्य की प्रशंसा होगी, प्रभाव रहेगा। समस्या को तूल न दें, निर्णय सावधानी से लें। स्वयं को तत्पर व अपडेट रखें। परिश्रम का लाभ मिलेगा। आर्थिक स्तर सुधरेगा। जनवरी, फरवरी, जून, सितंबर, नवंबर, दिसंबर अनुकूल व शेष माह सामान्य है।

भारती पंडित|
नया वर्ष : बारह राशियों का फलादेश
शिव-विष्णु-गणेश की आराधना करें, दान-धर्म करें।



और भी पढ़ें :