विविध लग्न और वर्ष 2010

कैसा रहेगा साल आपके लग्नानुसार

कन्या लग्न : 2010
ND
कन्या लग्न :
कन्या लग्न वालों को शनि का गोचरीय भ्रमण लग्न से मित्र राशि में होने की वजह से व शनि की साढ़ेसाती चलने से पूरे वर्ष परिश्रम का समय रहेगा। वैसे आपके कार्य बनते रहेगें, सन्तान पक्ष के कार्य में सहयोग देना होगा, विद्यार्थी वर्ग अतिरिक्त मेहनत करें तो उत्तम परिणाम की आशा कर सकते हैं। इस लग्न का स्वामी बुध ग्रहण से ग्रस्त होने के कारण महत्वपूर्ण कार्य कुछ दिनों के लिए टाल दें व ग्रहण के बाद शुभ मुहूर्त में ही कार्य करें।

बुध जब-जब कन्या, मिथुन, सिंह, मकर, कुंभ, मेष या वृश्चिक में आएगा तब-तब लाभ व सहयोग मिलता रहेगा। गुरु का गोचरीय भ्रमण षष्ट व सप्तम भाव से पूरे वर्ष में होगा जो वैवाहिक जीवन व अविवाहितों के लिए शुभ परिणाम देगा। राहु का गोचरीय भ्रमण चतुर्थ भाव से होने के कारण माता के स्वास्थ्य में कमी, स्थानीय राजनीति में बाधक बनेगा व मकान-भूमि की समस्या खड़ी कर सकता है। जमीन-जायजाद के मामलों में वाद-विवाद का कारण भी बन सकता है। ऐसी स्थिति में राहु की शांति करना शुभ फलदायक होगा। यथा भूरा कम्बल एक दिन ओढ़ कर दूसरे दिन दान करें।

तुला लग्न :  2010
ND
तुला लग्न : 2010
तुला लग्न वालों का स्वामी शुक्र है जो वर्षारम्भ में तृतीय भाव से गुरु की राशि धनु से भ्रमण करने से पराक्रम के साथ सफलतादायक होगा। बहनों का सहयोग मिलेगा, संचार माध्यम से शुभ समाचार भी सुनेंगे। सोच-विचार कर कोई कार्य आरंभ करें क्योंकि लग्न का स्वामी शुक्र ग्रहण से पीड़‍ित है जो वर्षारम्भ में है। शुक्र जब-जब तुला, वृषभ, मकर, कुंभ, मीन से गोचर भ्रमण करेगा तब-तब लाभ के मामलों में सफलता मिलेगी।

इस लग्न में शनि का गोचरीय भ्रमण द्वादश भाव से हो रहा है जो उच्चाभिलाषी होने के कारण महत्वाकांक्षा को बढ़ाएगा। बाहरी संबंधों में सुधार होगा। वैसे शनि की लगती साढ़ेसाती व मध्य की साढ़ेसाती लाभदायक रहेगी। शनि जब उच्च का होगा तब जीवनसाथी को कष्ट देगा। गुरु का इस लग्न में पंचम व षष्ट भाव से भ्रमण पूरे वर्ष भर रहेगा। जो सन्तान, विद्या नाना, मामा, चौपायों व कृषि-कार्य में लाभदायक होगा। राहु का तृतीय भाव से भ्रमण छोटे भाई के मामलों में व साझेदारी के मामलों में कष्ट देगा। ऐसी स्थिति में सात प्रकार का अनाज दान करने से कष्टों में कमी आएगी।

वृश्चिक लग्न : 2010
ND
वृश्चिक लग्न : 2010
वृश्चिक लग्न का स्वामी मंगल है जो वर्षारम्भ में नीच का होकर नवम (भाग्य भाव) से ग्रहण काल में है ऐसी स्थिति होने से भाग्य में रूकावटों का सामना करना पडता है स्वास्थ्य में भी गड़बड़ी रहती है। अधिक परिश्रम करने पर भी उत्तम सफलता नहीं मिलती। मंगल की नीच स्थिति 2 मई तक रहेगी इस समयावधि में महत्वपूर्ण कार्य करने से बचें। मकान आदि के मामलों में ना पड़े। इसके पश्चात सिंह का मंगल 20 जुलाई तक रहेगा यह समय उम्मीदों भरा रहेगा। आपके कार्य बनेंगे व महत्वपूर्ण कार्य करनें का उत्तम अवसर है। 21 जुलाई से कन्या में शनि के साथ होने से बनते कार्य में बाधा, दुर्घटना के योग भी बनेगें। अतः संभल कर चलना होगा। वाद-विवाद से बचें। व्यापार आदि में सावधानी रखें।

आर्थिक सावधानी भी बरतना होगी। द्वादश से तुला में भ्रमण करने से बाहरी ममलों में सभलकर चलें। मंगल की उत्तम स्थिति वृश्चिक तथा मीन में आने पर बनेगी। अत: कामकाज में व धन के मामलों में अनुकूलता रहेगी। शनि का गोचरीय भ्रमण एकादश से होने के कारण आर्थिक लाभ भी मिलेगा। गुरु का भ्रमण चतुर्थ व पंचम भाव से पूरे वर्ष में होगा जो आपके लिए सुखद भी रहेगा। राहु नीचस्थ होकर द्वितीय भाव में होने के कारण वाणी में संयम रखे।

धनु :  2010
ND
धनु लग्न : 2010
धनु लग्न का स्वामी गुरु है जो इस वर्षारम्भ में तृतीय भाव से गोचर-भ्रमण कर रहा है। शनि की राशि में होने के कारण परिश्रम अधिक कराएगा। महत्वपूर्ण कार्य में भी बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। गुरु जब मीन में आएगा तब परिवारिक मामलों व मकान संबंधी समस्याओं का समाधान होगा। मातृपक्ष का सहयोग भी मिलेगा स्थानीय राजनीति में भी सफलता के योग बनेंगे।

जनता से संबंधी कार्य भी बनेंगे। स्वास्थ्य ठीक रहेगा। सोचे कार्य में प्रगति होगी। शनि का गोचर भ्रमण दशम (कर्म भाव) में होने से व्यापार-व्यवसाय में या नौकरी में, पिता के सहयोग से लाभ होगा। इस लग्न वालों को राहु लग्न से गोचर भ्रमण करने के कारण मानसिक चिन्ता का कारण भी रहेगा। स्थानातंरण के योग भी बन सकते है। वर्षारम्भ के कुछ मास चिन्ता के रह सकते हैं। गुरु के मीन में आने से राहु का नीच भंग होगा इस वजह से शुभ परिणाम मिलेगें। पूरे वर्ष पुखराज पहनना शुभ रहेगा।

मकर लग्न : 2010
ND
मकर लग्न : 2010
मकर लग्न का स्वामी शनि है जो वर्षारम्भ में नवम भाव से बुध की मित्र राशि कन्या पर भ्रमण करने से उत्साह बढ़ाएगा, मान सम्मान में भी वृद्धि होगी। प्रयत्नपूर्वक किए गए कार्य में सफलता मिलेगी, भाग्योन्नति में वृद्धि पाएँगे। स्वास्थ्य ठीक रहेगा, इष्ट मित्रों का सहयोग मिलेगा। धन-कुटुम्ब का सहयोग मिलेगा, कामकाज में प्रगति होगी। गुरु का गोचर भ्रमण द्वितीय (धन-कुटुम्ब भाव) व तृतीय भाव (पराक्रम) से पूरे वर्ष में रहने से कार्यों में मित्र-परिवार वालों के सहयोग से लाभ मिलेगा।

अविवाहितों के लिए समय ठीक रहेगा। मकर लग्न वालों के लिए राहु का द्वादश से भ्रमण बाहरी मामलों में सावधानी रखने का संकेत देता है। यात्रा में सावधानी रखना होगी। गुप्त शत्रुओं से परेशानी का होगी। हिम्मत व धैर्य से कार्य करने पर आप ही विजय होंगे। राहु के अशुभ प्रभाव को दूर करनें के लिए रात्रि में सौंफ सिरहाने रख कर सोएँ। इस प्रकार राहु के अशुभ प्रभाव में कमी आती है व कष्टों को सहने की हिम्मत बढ़ती है।

कुंभ लग्न :  2010
ND
कुंभ लग्न : 2010
कुंभ लग्न का स्वामी शनि वर्षारम्भ में अष्टम भाव से गोचर भ्रमण करने के कारण आयु में वृद्धि करता है। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। परिश्रम अधिक करने पर सफलता मिलेगी। बाहरी मामलों में अड़चनों का सामना करना पड़ सकता है। यात्रादि के मामलों में सावधानी रखकर चलना होगा। लेन-देन के मामलों में सावधानी रखना होगी। गुरु का इस लग्न वालों के लिए गोचर भ्रमण लग्न व द्वितीय भाव से पूरे वर्ष में होगा। इसके फलस्वरूप राज्य, व्यापार-व्यवसाय के मामलों में या नौकरी में अनुकूल स्थिति का वातावरण रहेगा।

पिता का, कुटुम्ब-जन का सहयोग मिलेगा। वाणी का प्रभाव बढ़ेगा, बचत के योग बनेंगे। इस लग्न में राहु का गोचर भ्रमण एकादश भाव में होने के कारण जोखिम के कार्य में धन न लगाएँ। अकस्मात खर्च की स्थिति बनेगी। अपव्यय से बचें। बड़े भाईयों के कार्य में धन खर्च होनें की संभावना रहेगी। राहु का बुरा फल मिलता हो तो भूरे कम्बल का दान करें।

मीन लग्न :  2010
ND
मीन लग्न : 2010
मीन लग्न का स्वामी गुरु है, जो वर्षारम्भ में द्वादश व लग्न से भ्रमण करने के कारण प्रारम्भ में भागदौड कराएगा। लेकिन अन्ततः कार्य में सफलता पाएँगे। गुरु का मीन से गोचर भ्रमण आपके लिए सुखदायक रहेगा। महत्वपूर्ण कार्य बनेंगे। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। अविवाहितों के लिए भी समय अनुकूल रहेगा। मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। बड़े व्यक्तियों से सम्पर्क होगा जो लाभदायक रहेगा।

Author पं. अशोक पँवार 'मयंक'|
शनि का गोचर भ्रमण इस लग्न वालों के लिए सप्तम भाव से हो रहा है। इस वजह से जीवनसाथी से लाभ मिलेगा। इस समयावधि में जीवनसाथी को पेट से संबंधित तकलीफ हो सकती है। राहु का गोचर भ्रमण दशम भाव से होने के कारण पिता के व्यवसाय में फेरबदल होने की संभावना है। स्वास्थ्य पर भी असर पड़ सकता है। गुरु जब मीन में रहेगा तब राहु के दुष्परिणाम नहीं मिलेंगे। राहु के अशुभ फल के निवारण के लिए शहद से पूरी भरी शीशी शनिवार को अपने ऊपर से उतार कर सुनसान जमीन में गाड़ दें।



और भी पढ़ें :