श्री जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा : कथा, मंत्र, इतिहास और मंदिर के रहस्य एक साथ

Jagannath Rath Yatra Puri
2022 : 1 जुलाई से ओड़ीसा के पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा का प्रारंभ होता है। श्रीकृष्ण, बलराम और सुभद्राजी के रथ को खींचकर 4 किलोमीटर दूर गुंडीचा मंदिर ले जाया जाता है जहां पर भगवान 7 दिनों तक विश्राम करते हैं और उसके बाद दशमी के दिन लौट आते हैं। फिर एकादशी के दिन भगवान को पुन: मंदिर में विराजमान किया जाता है। आओ जानते हैं इस संबंध में कथा, मंत्र, इतिहास और मंदिर के रहस्य सभी कुछ एक साथ।
ALSO READ:
श्री जगन्नाथ पुरी और भगवान का क्या है कनेक्शन, जानिए कथा


ALSO READ:
1 जुलाई : जगन्नाथ यात्रा में नहीं जा रहे हैं तो राशि मंत्र के साथ जपें विशेष मंत्र


ALSO READ:जगन्नाथ रथयात्रा : पुरी को क्यों कहते हैं पुरुषोत्तम क्षेत्र?

ALSO READ:
आप भी जानिए जगन्नाथ मंदिर, पुरी के आश्चर्यजनक तथ्य


ALSO READ:

जगन्नाथ रथयात्रा की 14 रोचक बातें, जानकर दंग रह जाएंगे


ALSO READ:जगन्नाथ रथयात्रा : पुरी मंदिर के 25 चमत्कार और रहस्य

ALSO READ:

क्या वाकई भगवान जगन्नाथ की मूर्ति में ब्रह्मा का वास है? क्या भगवान कृष्ण का दिल रखा हुआ है आज भी?


ALSO READ:
श्रीकृष्ण, बलभद्र और सुभद्रा रथ पर बैठकर जाएंगे गुंडीचा मंदिर, जानिए इस बार की जगन्नाथ रथयात्रा के बारे में






और भी पढ़ें :