श्रेयस ने कहा था लय में आ गए तो कोलकाता को रोकना मुश्किल, क्या 2021 की तरह होगी वापसी?

Last Updated: मंगलवार, 3 मई 2022 (18:07 IST)
हमें फॉलो करें
की टीम इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2022 में अभी खराब दौर से गुजर रही थी, लेकिन कप्तान ने पिछले मंगलवार को कहा था कि एक बार लय में आने के बाद इस पूर्व चैंपियन टीम को रोकना मुश्किल होगा।

तब तक लगातार 5 मैच हारकर खुद को मुश्किल में डाल लिया था। यह टीम अब तक कुल 6 मैच हार चुकी है।लेकिन पिछले मंगलवार को जो ने अपनी टीम में विश्वास दिखाया था वो इस हफ्ते की शुरुआत में सच होता दिख रहा है।

अय्यर ने केकेआर की साइट पर कहा था, 'हमने वास्तव में बहुत अच्छी शुरुआत की थी और पहले चार में से तीन मैच जीते थे। इसके बाद चीजें हमारे अनुकूल नहीं रही, लेकिन मुझे अब भी टीम पर भरोसा है।' उन्होंने कहा, 'हम मैदान पर उतरने के बाद सभी डिपार्टमेंट में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं, केवल हम रणनीति पर पूरी तरह से अमल नहीं कर पा रहे हैं। यह केवल समय की बात है। एक बार जब हम लय पकड़ लेंगे तो फिर टीम के रूप में हमें रोकना मुश्किल होगा।'

केकेआर 2021 की तरह वापसी की उम्मीद लगाए हुए थी। तब टीम पहले सात मैचों में केवल दो में जीत दर्ज कर पाई थी, लेकिन उसने इसके बाद आखिरी सात मैचों में पांच मैच जीते थे। उसकी टीम ने तब क्वालीफायर्स में जगह बनाई थी।

अय्यर ने कहा था, 'हमें अभी पता चला है कि क्वालीफायर्स ईडन गार्डन्स में होंगे, इसलिए हम मैच जीतने के लिए अपनी तरफ से 100 फीसदी कोशिश करेंगे ताकि हम वहां जाकर अपने फैन्स का मनोरंजन कर सकें।' उन्होंने कहा, 'टीम का माहौल शुरू से शानदार रहा है। हार या जीत खेल का हिस्सा है। हम एक टीम के रूप में जिस तरह से तैयारी कर रहे हैं वह शानदार है। मैच जीतने के लिए हमारे खिलाड़ी कड़ी मेहनत कर रहे हैं।'

कल राजस्थान के खिलाफ मैच जीतकर टीम को एक संजीवनी मिली है। अभी भी टीम की राह उतनी आसान नहीं है लेकिन कल की जीत के बाद टीम को एक फॉर्मूला मिला है और शायद पिछले सत्र का कमाल टीम इस सत्र में भी दिखा सके।
बेखौफ क्रिकेट से कोलकाता ने किया था IPL 2021 के फाइनल तक का सफर तय

केकेआर ने पहले चरण में सात में से पांच मैच गंवाये थे लेकिन यूएई में दूसरे चरण में उसने बेहतरीन प्रदर्शन किया और फाइनल में जगह बनायी थी।टीम के कई सदस्य काफी युवा हैं जैसे कि शुभमन गिल, राहुल त्रिपाठी, शिवम मावी इस कारण टीम ने निडर होकर क्रिकेट खेला था। पहले भाग में हुए लचर प्रदर्शन के कारण टीम के पास खोने के लिए कुछ नहीं था।



और भी पढ़ें :