2008 में कोलकाता के लिए 73 गेंद में 158 रनों की पारी खेलने वाले मैक्कुलम ने बतौर कोच भी टीम को किया पुनर्जीवित

Last Updated: गुरुवार, 14 अक्टूबर 2021 (21:53 IST)
दुबई:जब मई में कोविड-19 के चलते आईपीएल के पहले चरण को रोका गया था तो (केकेआर) सात मैच में से दो जीतकर सातवें स्थान पर था। सितंबर में यूएई चरण के आते-आते ऐसा लगा कि टीम की क़िस्मत पलट गई। एक के बाद एक जीत का सिलसिला बनाते हुए इस टीम ने ना सिर्फ़ प्ले ऑफ़ में प्रवेश पाया बल्कि सात साल के बाद पहली बार फ़ाइनल में भी दिखेगी।

दूसरे क्वालिफ़ायर में को हराने के बाद टीम मेंटॉर डेविड हसी ने इस परिवर्तन का श्रेय कप्तान इयोन मोर्गन, सलामी बल्लेबाज़ वेंकटेश अय्यर और प्रमुख कोच ब्रेंडन मैक्कलम को दिया।

हसी ने मैच के बाद कहा, "आईपीएल में आयी रुकावट से ज़रूर हमें मदद मिली। लेकिन मोर्गन की कप्तानी भी बेहद अच्छी रही है। उन्होंने चतुराई से बोलिंग में परिवर्तन किए और हमारे जीत का यह काफ़ी बड़ा कारण रहा है। वेंकटेश तो एक शानदार खिलाड़ी हैं। वह लंबे हैं और मुझे तो लगता है कि वह पूर्व न्यूज़ीलैंड बल्लेबाज़ और चेन्नई सुपर किंग्स के वर्तमान कोच स्टीवन फ़्लेमिंग के क्लोन हैं। मैकुलम ने जो हासिल किया है वो अविश्वसनीय है। हम सातवें स्थान पर थे लेकिन उन्होंने सब कुछ बदल दिया।उन्होंने टीम को पुनर्जीवित कर दिया है। सब में एक नई ऊर्जा आ गई है। सब ख़ुश हैं और चेहरों पर मुस्कान है। वह एक नम्र व्यक्ति हैं और इसका श्रेय नहीं लेंगे पर सच्चाई यही है।"

इन तीनों में अय्यर का योगदान सबसे आसानी से आंकड़ों में उतरता है और बुधवार को वह फिर से टीम के नायक रहे। एक कठिन पिच पर उन्होंने सिर्फ़ 41 गेंदों पर 55 रन बनाए और एक स्थिर शुभमन गिल के साथ टीम को एक पेचीदा चेज़ में आगे बनाए रखा। लेकिन हसी ने कहा कि पहली गेंद पर कवर ड्राइव मार कर गिल ने डगआउट में आत्मविश्वास का संचार किया।

हसी ने कहा, "सबको मालूम है कि गिल तीनों प्रारूप में भारत के लिए 10 और साल खेलेंगे। सवाल बस इतना है कि वह कब तक अपनी जगह पक्की कर लेते हैं। वह अपने अंदाज़ से ही बाक़ी बल्लेबाज़ों को विश्वास दिला देते हैं। पहली गेंद को ही कवर बाउंड्री पर भेजकर उन्होंने ड्रेसिंग रूम और डगआउट दोनों में सबको आश्वस्त कर दिया था। वह एक कुशल और बुद्धिमान खिलाड़ी हैं। वह यहां से बतौर खिलाड़ी और बतौर इंसान कहां तक जाएंगे इस में मेरी काफ़ी रुचि रहेगी।"

फ़ाइनल दुबई में होगा और उस मैदान पर ओस के चलते टॉस जीतने वाली टीमों का दबदबा रहा है और इस पर हसी ने कहा, "मुझे उम्मीद है कि ग्राउंड कर्मचारी पहले से पानी स्प्रे करके मुक़ाबला बराबरी का बना देंगे। लेकिन फिर भी हम हर परिस्थिति में तैयार रहेंगे।" केकेआर के लिए एक और चिंता है उनके मध्यक्रम का फ़ॉर्म।

मोर्गन 15 पारियों में 10 बार दोहरे अंक पहुंचने से पहले आउट हुए हैं और यह एक सीज़न में किसी भी बल्लेबाज़ के लिए सर्वाधिक हैं। यूएई में दिनेश कार्तिक के बल्ले से 18.20 के औसत और 122.97 के स्ट्राइक रेट से कुल 91 रन ही निकले हैं।

हसी ने कहा, "यह बड़े खिलाड़ी हैं और यह बस इत्तेफ़ाक़ की बात है कि मुश्किल पिचों पर मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाज़ों के लिए रन बनाना कठिन होता है। ऐसे में 200 का स्ट्राइक रेट तो आसान नहीं है लेकिन शायद संघर्ष करके आप 110 या 120 के स्ट्राइक रेट से फिर भी रन बना सकते हैं। मोर्गन, कार्तिक और शाकिब जैसे खिलाड़ियों पर हमे पूरा भरोसा है क्योंकि वह कई सालों से अच्छी बल्लेबाज़ी करते आए हैं।"

दुबई में शाकिब अल हसन की जगह आंद्रे रसेल को खिलाने का मौक़ा बन सकता है बशर्ते रसेल अपने हैमस्ट्रिंग चोट से ठीक हो गए हों। हसी ने कहा, "आज उन्होंने मैच से पहले बोलिंग की थी। मुझे लगता है वह फ़ाइनल में चयन के लिए चर्चा में ज़रूर होंगे। हमारा मेडिकल स्टाफ़ बहुत बेहतरीन है और मुझे उन पर पूरा भरोसा है। आंद्रे ख़ुद खेलने के लिए व्याकुल हैं और अगर ऐसा हो पाया तो मज़ा आने वाला है।"

आईपीएल के सबसे पहले मैच में मैक्कलम ने कोलकाता के लिए खेली थी तूफानी पारी

न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ब्रेंडन मैक्कलम ने कहा कि 12 साल पहले आईपीएल के शुरुआती मुकाबले में 73 गेंद में 158 की पारी ने उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल दी।आईपीएल का पहला मुकाबला 18 अप्रैल 2008 को खेला गया था जिसमें कोलकाता नाइट राइडर्स के इस खिलाड़ी ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के खिलाफ शतक ठोका था।

मैक्कलम ने
कहा, ‘उस रात को तीन घंटे में के खेल में या मैं कहूंगा कि सिर्फ डेढ़ घंटे में मेरी जिंदगी पूरी तरह से बदल गई।मैकुलम अप्रैल 2020 में एक बार फिर केकेआर कोच के तौर पर जुड़े।



और भी पढ़ें :