किंग्स इलेवन का सामना रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु से

इंदौर| Last Updated: रविवार, 9 अप्रैल 2017 (13:00 IST)
हमें फॉलो करें
इंदौर। युवा कप्तान की अगुवाई में आईपीएल के पिछले सत्रों की कमजोर टीमों में रही किंग्स इलेवन पंजाब ने इस बार धमाकेदार शुरुआत की है और अब सोमवार को वह अपने अगले मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी की रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की चुनौती का सामना करने उतरेगी, जो जीत की पटरी पर लौटने के बाद आत्मविश्वास से लबरेज दिखाई दे रही है।

बेंगलुरु ने अपना पहला मुकाबला हारने के बाद पिछले मैच में दिल्ली डेयरडेविल्स को 15 रन से हराया और फिर से वापसी कर ली। नियमित कप्तान और टीम के श्रेष्ठ स्कोरर विराट कोहली तथा धाकड़ बल्लेबाज एबी डीविलियर्स जैसे खिलाड़ियों की अनुपस्थिति के बावजूद ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर वॉटसन की कप्तानी में बेंगलुरु ने जीत का जज्बा दिखाते हुए अपनी गलतियों में तुरंत सुधार किया और दिल्ली के खिलाफ गेंद और बल्ले से संतोषजनक प्रदर्शन कर जीत की पटरी पर लौट आई।
वहीं अपने नए कप्तान मैक्सवेल के नेतृत्व और पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग के मार्गदर्शन में पंजाब ने भी 10वें संस्करण में अच्छी शुरुआत से अपने हौसले जता दिए हैं। आईपीएल के पिछले संस्करणों में फिसड्डी ही साबित हुई पंजाब की टीम ने राइजिंग पुणे सुपरजाएंट्स को 6 गेंदें शेष रहते 6 विकेट से हराया और टूर्नामेंट में विजयी आगाज किया है।

महेंद्र सिंह धोनी, स्टीवन स्मिथ, अजिंक्य रहाणे और बेन स्टोक्स जैसे दिग्गजों से सजी पुणे के सामने पंजाब ने हर विभाग में कमाल का प्रदर्शन किया और उसे जीत की पटरी से उतार दिया। इस जीत ने निश्चित ही पंजाब के हौसले बढ़ाए हैं और उम्मीद की जा सकती है कि जब अपने अपने पिछले मुकाबले जीतने के बाद ये दोनों टीमें होलकर स्टेडियम में उतरेंगी तो मुकाबला बराबरी का होगा।
पंजाब की टीम के पास अन्य टीमों की तुलना में बहुत भारी-भरकम सितारों से भरा लाइनअप नहीं है लेकिन उसके पास ओपनिंग में हाशिम अमला, मनन वोहरा, अच्छी फॉर्म में खेल रहे भारतीय विकेटकीपर रिद्धिमान साहा और मध्यक्रम में कप्तान मैक्सवेल और डेविड मिलर जैसे प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं।

मैक्सवेल और मिलर ने 79 रन की अविजित साझेदारी कर टीम को जीत दिलाई थी। ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने मात्र 20 गेंदों में 4 छक्के उड़ाए और अपनी नाबाद 44 रन की मैच विजेता पारी से 'मैन ऑफ द मैच' भी बने जिसने उनकी काबिलियत और टीम के लिए अहमियत को साबित किया।

गेंदबाजों में टीम के पास मध्यम तेज गेंदबाज मोहित शर्मा, संदीप शर्मा, तमिलनाडु प्रीमियर लीग में धमाल मचाने वाले टी. नटराजन, मार्कस स्टोइनिस और युवा भारतीय स्पिनर अक्षर पटेल हैं। पुणे के खिलाफ टीम के लगभग सभी गेंदबाज सफल रहे थे और उन्होंने पुणे को 170 से नीचे के स्कोर पर रोका और मोहित को छोड़ हर गेंदबाज ने कम रन लुटाते हुए विकेट भी हासिल किए, जो उसकी गेंदबाजी क्रम की ताकत को दिखाता है।
वहीं बेंगलुरु की टीम ने आईपीएल 10 के उद्घाटन मैच में सनराइजर्स हैदराबाद से मिली 35 रन की हार से उबरते हुए दिल्ली के खिलाफ वापसी कर ली। दोनों टीमों के बीच इस रोमांचक मुकाबले में बेंगलुरु के गेंदबाजों का प्रदर्शन भी लाजवाब रहा जिन्होंने विपक्षी टीम के मात्र 4 बल्लेबाजों को ही दहाई के आंकड़े तक पहुंचने दिया।

बेंगलुरु के लिए बिली स्टैनलेक, युजवेंद्र चहल, इकबाल अब्दुल्ला, टाइमल मिल्स, वॉटसन और पवन नेगी सभी ने विकेट हासिल किए और कप्तान वॉटसन को पिछले मैच की तुलना में इस बार टीम में बदलाव करने का काफी फायदा मिला। उम्मीद है कि कप्तान अगले मैच में भी इसी संयोजन के साथ उतरें।

हालांकि बल्लेबाजों में क्रिस गेल कुछ खास नहीं कर सके लेकिन कैरेबियाई बल्लेबाज कभी भी अपने प्रदर्शन में बदलाव कर लेते हैं। साथ ही वॉटसन और केदार जाधव लगातार दूसरे मैच में बल्ले से कारगर साबित हुए। हालांकि स्टुअर्ट बिन्नी 7वें से 5वें स्थान पर आकर भी कुछ खास स्कोर नहीं कर सके। ऐसे में टीम में बदलावों की उम्मीद की जा सकती है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :