पाक PM इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव खारिज-संसद भंग, विपक्ष का नेशनल असेंबली पर कब्जा, जानिए पूरा घटनाक्रम

पुनः संशोधित रविवार, 3 अप्रैल 2022 (17:14 IST)
हमें फॉलो करें
इस्लामाबाद। में बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव खारिज हो चुका और संसद को भी भंग किया जा चुका है। विपक्ष अब भी नेशनल असेंबली में मौजूद है और खुद ही को नया प्रधानमंत्री चुन लिया है।
विपक्ष लगातार आरोप लगा रहा है कि इमरान खान ने संविधान का उल्लंघन किया है। पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री फारूख हबीब ने कहा कि चुनाव 90 दिनों के अंदर जाएंगे। इन 90 दिनों तक इमरान खान केयर टेकर प्रधानमंत्री रहेंगे। पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने प्रधानमंत्री इमरान खान की सलाह पर रविवार को नेशनल असेंबली भंग कर दी। जानिए तारीखवार घटनाक्रम-


Koo App
The #SupremeCourt of #took suo motu notice of dissolution of the National Assembly by the Pak President, media reports said. - IANS (@IANS) 3 Apr 2022

1996 : इमरान खान ने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) का गठन किया, जिसका अर्थ है न्याय के लिए आंदोलन।

2002 : इमरान खान चुनाव जीतकर नेशनल असेंबली के सदस्य बने।

2013 : इमरान खान दोबारा चुनाव जीतकर नेशनल असेंबली पहुंचे।

2018 : आम चुनाव में अपनी पार्टी को जीत दिलाने के बाद इमरान खान पहली बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने।
3 मार्च, 2021 : विपक्ष के नेता और पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने सीनेट के चुनावों में पाकिस्तान के वित्त मंत्री अब्दुल हफीज शेख को हराया।

6 मार्च, 2021: इमरान खान ने अपने वित्त मंत्री की हार के बाद नेशनल असेंबली में विश्वास मत जीता।

8 मार्च, 2022 : पाकिस्तान के विपक्षी नेताओं ने प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश कर मौजूदा सरकार पर देश में अनियंत्रित होती महंगाई को कम करने में विफल रहने का आरोप लगाया।
19 मार्च : इमरान खान की पार्टी ने असंतुष्ट पीटीआई सांसदों को कारण बताओ नोटिस जारी किया।

20 मार्च : नेशनल असेंबली के अध्यक्ष ने इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए 25 मार्च को नेशनल असेंबली का सत्र बुलाया।

23 मार्च : प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि वह इस्तीफा नहीं देंगे क्योंकि तीन सहयोगी उनकी सरकार के खिलाफ वोट करने का संकेत दे रहे हैं।
25 मार्च : पाकिस्तान की नेशनल असेंबली का सत्र इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किए बिना ही स्थगित कर दिया गया।

27 मार्च : एक विशाल रैली में इमरान खान ने अपनी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए कथित तौर पर हो रही ‘साजिश’ के पीछे विदेशी ताकतों के होने का दावा किया।

28 मार्च : पीएमएल-एन के अध्यक्ष शहबाज़ शरीफ ने नेशनल असेंबली में इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया।
30 मार्च : अविश्वास मत से पहले इमरान खान की सरकार के प्रमुख सहयोगी दलों के विपक्ष के साथ चले जाने से उन्होंने बहुमत खो दिया।

31 मार्च : इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के लिए संसद की बैठक।

1 अप्रैल : इमरान खान ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में दावा किया कि उनकी जान को खतरा है। खान ने कहा कि वह डरते नहीं हैं और एक स्वतंत्र और लोकतांत्रिक पाकिस्तान के लिए अपनी लड़ाई जारी रखेंगे।
3 अप्रैल : नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर कासिम सूरी ने इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को रोका।

3 अप्रैल : इमरान खान ने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी को नेशनल असेंबली भंग करने की सलाह दी।

3 अप्रैल : राष्ट्रपति अल्वी ने इमरान खान की सलाह पर नेशनल असेंबली भंग की।



और भी पढ़ें :