गलती से मारे गए थे अमेरिकी सैनिक

वॉशिंगटन| पुनः संशोधित शुक्रवार, 5 सितम्बर 2014 (12:48 IST)
हमें फॉलो करें
वॉशिंगटन। अमेरिकी सेना की एक जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि में गत जून में बमबारी में पांच अमेरिकी सैनिकों और एक अफगान सैनिक के मारे जाने की घटना हवाई और जमीनी बलों के बीच गलत संचार की वजह से हुई थी।

अफगानिस्तान में अभियानों को देखने वाली अमेरिकी मध्य कमान की रिपोर्ट में कहा गया है कि घटना सैनिकों, कमांडरों और हवाई दल की सामूहिक गलती का नतीजा थी। परिणामस्वरूप दुश्मन समझकर दागे गए दो लेजर गाइडेड बमों से पांच अमेरिकी सैनिकों और एक अफगान सैनिक की मौत हो गई। घटना 9 जून को चलाए गए एक अभियान के दौरान अफगानिस्तान के जाबुल प्रांत में हुई थी।

एयरफोर्स बी-1 बमवर्षक का चालक दल अधिकृत आदेश का पालन कर रहा था, लेकिन जांच के अनुसार उनसे यह सुनिश्चित करने में गलती हुई कि मित्र बल कहां मौजूद हैं।
रिपोर्ट के अनुसार जमीनी बलों के कुछ अज्ञात सदस्यों ने, जिसमें सेना की विशेष बल इकाई शामिल थी, सैनिकों के ठिकाने के बारे में गलत जानकारी दी।

सेना ने कहा कि वह ऐसी नीति पर विचार कर रही है जिससे गलतियों की संभावना को कम किया जा सके। इसने यह तय करने के लिए रिपोर्ट सेना की विशेष अभियान कमान को भेज दी कि मामले में क्या कोई दंडात्मक कार्रवाई की जानी चाहिए।
वायुसेना ने कहा कि वह किसी दंडात्मक कार्रवाई पर फैसला करने से पहले रिपोर्ट का अध्ययन करेगी। (भाषा)




और भी पढ़ें :