बांग्लादेश में चुनाव पश्चात हिंसा में तीन मरे

ढाका (भाषा) | भाषा| पुनः संशोधित शनिवार, 24 जनवरी 2009 (17:51 IST)
में के बाद हिंसा की विभिन्न घटनाओं में कम से कम तीन लोगों की मौत हो गई जबकि 150 अन्य घायल हो गए।


पुलिस और अखबारों की खबरों में आज कहा गया कि चुनाव के बाद देशव्यापी हिंसा में मध्य ब्राह्मणबारिया, पश्चिमी जेसोर और दक्षिण-पश्चिमी फरीदपुर जिलों में कम से कम तीन लोगों की मौत हो गई जबकि 150 लोग घायल हो गए।

ने सत्ताधारी सांसदों के खिलाफ एक याचिका दायर की है और चुनावों में कथित गड़बड़ी के लिए एक सांसद और कई अन्य के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की माँग की है।

अवामी लीग के सूत्रों ने कहा कि गुरुवार को हुए उपजिला चुनावों में गड़बड़ी के चलते सरकार की छवि को नुकसान पहुँचाने को लेकर हसीना एक मंत्री और कुछ सांसदों से नाराज थीं। पार्टी इन मामलों में लिप्त नेताओं और कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई करने पर विचार कर रही है।


न्यू एज ने कृषिमंत्री मातिया चौधरी के हवाले से कहा कि उन्होंने (आरोपी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने) जो कुछ किया उससे सरकार को शर्मिंदगी उठानी पड़ी है। चुनाव आयोग को पूरा अधिकार है कि वह चुनावी प्रक्रिया को प्रभावित करने की हद तक जाने वाले लोगों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई करे।
उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि प्रधानमंत्री जिम्मेदार लोगों के खिलाफ आयोग की कार्रवाई में हस्तक्षेप नहीं करेगा। उपजिला चुनाव में गड़बड़ी और हिंसा की खबरों के बाद विवाद पैदा हो गया था।

चुनाव आयोग ने अवामी लीग पर आरोप लगाया कि उसने अपने पद का दुरुपयोग किया जिसके कारण हिंसा की घटनाएँ हुईं जिसमें 200 लोग घायल हो गए और अधिकारियों को 480 में से छह स्थानीय सरकार सीटों पर चुनाव को रद्द करना पड़ा और अनेक चुनाव केन्द्रों पर होने वाले चुनाव को टालना पड़ा।



और भी पढ़ें :