क्‍या आपको पता है भारत के अलावा इन देशों में भी मनाई जाती है ‘दि‍वाली’

diwali, deepawali
Last Updated: मंगलवार, 2 नवंबर 2021 (17:00 IST)
दीपावली भारत का सबसे बड़ा त्यौहार है। यह रौशनी और खुशी का पर्व है। भारत में यह लगभग एक हफ्ते तक अलग अलग मान्‍यताओं के साथ सेलिब्रेंट किया जाता है। इस दौरान धन की देवी लक्ष्‍मी की पूजा की जाती है, गोवर्धन पूजा होती है और दिवाली के दिन रौशनी और आतिशबाजी के साथ बेहद ही खूबसूरत तरीके से यह पर्व मनाया जाता है।

लेकिन आपको शायद पता नहीं होगा कि दीपावली सिर्फ भारत ही नहीं, दुनिया के कुछ और देशों में भी मनाई जाती है। हालांकि इसका नाम और मान्‍यताएं अलग-अलग हो सकती हैं।

भारत के पास के कुछ देशों के साथ ही यूरोपियन देशों में भी दीपावली की ही तरह रोशनी और आतिशबाज़ी का यह पर्व मनाया जाता है।

कनाडा
कनाडा में हर साल 5 नवंबर को दीपावली मनाई जाती है। यहां भी भारत की तरह दीपक की रोशनी और आतिशबाज़ी से दि‍वाली मनाई जाती है। यह न्यूफाउंड लैंड में मनाया जाता है।

थाइलैंड
थाइलैंड में दिवाली से मिलता जुलता जो पर्व होता है, उसे क्रियोंघ कहते हैं। इस दिन केले की पत्तियों से दीपक बनाए जाते हैं। रात में दीपक में धूप रखकर जलाया जाता है और इसे कुछ पैसों के साथ नदी में बहा दिया जाता है।

फ्रांस
फ्रांस में हर साल 8 दिसंबर को रोशनी का त्यौहार मनाया जाता है। ये त्यौहार जीसस क्राइस्ट की मां मेरी का आभार प्रकट करने के लिए होता है। दीपावली की ही तरह लोग 4 दिन तक अपने घरों के सामने मोमबत्तियां जलाते हैं।

मलेशिया
मलेशिया में दीपावली को हरि दिवाली के तौर पर जाना जाता है। इस दिन लोग तेल और पानी से स्नान करते हैं और फिर देवी-देवताओं की पूजा करते हैं। इतना ही नहीं भारत की ही तरह मलेशिया में भी दीपावली के मेले लगाए जाते हैं।

श्रीलंका
श्रीलंका में दीपावली का त्यौहार भारत की ही तरह घर में मिट्टी के दीये जलाकर मनाया जाता है। दीये जलाकर रोशनी की जाती है।

चीन और ताइवान
चीन और ताइवान में दीपावली की ही तरह लैंटर्न फेस्टिवल मनाया जाता है। ये त्यौहार हवा में उड़ती हुई लैंटर्न्स का होता है। आसमान में लैंटर्न उड़ाना सुरक्षा का संकेत माना जाता है।

जेविश लोगों में मनाया जाने वाला हनुक्काह भी कुछ ऐसा ही प्रकाश का त्यौहार है। 8 दिनों तक कैंडल जलाई जाती हैं। 8 मोमबत्तियों के साथ त्यौहार शुरू होता है और दिन के साथ मोमबत्तियों की भी संख्या बढ़ती जाती है।



और भी पढ़ें :