महाराणा प्रताप : शौर्य और वीरता के बारे में 10 बातें जो सबको पता होना चाहिए

Maharana Pratap
Maharana Pratap
 
1. मेवाड़ की धरती को मुगलों के आतंक से बचाने वाले वीर सम्राट, साहसी, राष्ट्रभक्त
शूरवीर, राष्ट्रगौरव, पराक्रमी, की जयंती (History) प्रतिवर्ष ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष तृतीया को मनाई जाती है। महाराणा प्रताप का जन्म राजस्थान के कुंभलगढ़ में महाराजा उदयसिंह एवं माता राणी जीवत कंवर के घर 9 मई, 1540 में हुआ था।

2. उनको को बचपन में कीका के नाम से पुकारा जाता था। महाराणा प्रताप का राज्याभिषेक गोगुंदा में हुआ था। मेवाड़ की शौर्य-भूमि धन्य है जहां वीरता और दृढ प्रण वाले प्रताप का जन्म हुआ। जिन्होंने इतिहास में अपना नाम अजर-अमर कर दिया। उन्होंने धर्म एवं स्वाधीनता के लिए अपना बलिदान दिया।

3. महाराणा प्रताप राजनीतिज्ञ, कुटनीतिज्ञ, मानसिक व शारीरिक क्षमता में अद्वितीय थे। उनकी लंबाई 7 फीट और वजन 110 किलोग्राम था तथा वे 72 किलो के छाती कवच, 81 किलो के भाले, 208 किलो की दो वजनदार तलवारों को लेकर चलते थे।

4. सन् 1576 के हल्दीघाटी युद्ध में करीब बीस हजार राजपूतों को साथ लेकर महाराणा प्रताप ने मुगल सरदार राजा मानसिंह के अस्सी हजार की सेना का सामना किया। शत्रु सेना से घिर चुके महाराणा प्रताप को शक्ति सिंह ने बचाया। यह युद्ध केवल एक दिन चला परंतु इसमें सत्रह हजार लोग मारे गए।

5. महाराणा प्रताप के पास एक सबसे प्रिय घोड़ा था, जिसका नाम 'चेतक' था। इस युद्ध में अश्व चेतक की भी मृत्यु हुई। जिसने अंतिम समय में जब महाराणा प्रताप के पीछे मुगल सेना पड़ी थी तब अपनी पीठ पर लांघकर 26 फीट ऊंची छलांग लगाकर नाला पार कराया और वीरगति को प्राप्त हुआ। जबकि इस नाले को मुगल घुड़सवार पार नहीं कर सकें।

6. पिता उदयसिंह द्वारा अपनी मृत्यु से पहले ही जब अपनी सबसे छोटी पत्नी के पुत्र जगमाल को अपना उत्तराधिकारी घोषित करना चाहा तब मेवाड़ की जनता ने असहमत होकर इसका विरोध किया तथा तब महाराणा प्रताप ने मेवाड़ छोड़ने का निर्णय किया था किंतु जनता के निवेदन पर वे रुक गए और 1 मार्च, 1573 को उन्होंने सिंहासन की कमान संभाली। उस समय दिल्ली में मुगल शासक अकबर का राज था और उसकी अधीनता कई हिन्दू राजा स्वीकार करने के लिए संधि-समझौता कर रहे थे, तो कई मुगल औरतों से अपने वैवाहिक संबंध स्थापित करने में लगे थे। लेकिन इनसे अलग महाराणा प्रताप को अकबर की दासता मंजूर नहीं थी। इससे आहत होकर अकबर ने मानसिंह और जहांगीर के अध्यक्षता में मेवाड़ आक्रमण को लेकर अपनी सेना भेजी।

7. 18 जून, 1576 को आमेर के राजा मानसिंह और आसफ खां के नेतृत्व में मुगल सेना और महाराणा प्रताप के बीच हल्दीघाटी का युद्ध हुआ। माना जाता है कि इस युद्ध में न तो अकबर की जीत हो सकी और न ही महाराणा प्रताप की हार हो सकी। मेवाड़ को जीतने के लिए अकबर ने भी सभी प्रयास किए। महाराणा प्रताप ने भी अकबर की अधीनता को स्वीकार नहीं किया था। उन्होंने कई वर्षों तक मुगल सम्राट अकबर के साथ संघर्ष किया।

8. हल्दीघाटी के ऐतिहासिक युद्ध के बाद महाराणा प्रताप परिवार सहित जंगलों में विचरण करते हुए अपनी सेना को संगठित करते रहे। एक दिन जब उन्होंने अपने बेटे अमरसिंह की भूख शांत करने के लिए घास की रोटी बनाई तो उसे भी जंगली बिल्ली ले भागी। इससे विचलित होकर महाराणा प्रताप का स्वाभिमान डगमगाने लगा। उनके हौसले कमजोर पड़ने लगे। ऐसी अफवाह फैल गई कि महाराणा प्रताप की विवशता ने अकबर की अधीनता स्वीकार कर ली। तभी बीकानेर के कवि पृथ्वीराज राठौड़ ने महाराणा को पत्र लिखकर उनके सुप्त स्वाभिमान को पुन: जगा दिया। फिर महाराणा प्रताप (Bharat Ka Veer Putra Maharana Pratap) को मरते दम तक अकबर अधीन करने में असफल ही रहा।

9. महाराणा प्रताप की मृत्यु अपनी राजधानी चावंड में धनुष की डोर खींचने से उनकी आंत में लगने के कारण इलाज के बाद 57 वर्ष की उम्र में 19 जनवरी, 1597 (Maharana Pratap Death Anniversary) को हो गई। महाराणा प्रताप की मृत्यु का समाचार सुनकर अकबर की आंखों में भी आंसू छलक आए थे।

10. एक बार अमेरिका के भूतपूर्व राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन जब भारत के दौरे पर आ रहे थे, तो उन्होंने अपनी माता से पूछा… 'मैं आपके लिए भारत से क्या लेकर आऊं, तो उनकी मां ने कहा था भारत से तुम हल्दीघाटी की मिट्टी लेकर आना जिसे हजारों वीरों ने अपने रक्त से सींचा है।' महाराणा प्रताप ने धन-दौलत सबकुछ छोड़ दिया लेकिन कभी अपना सिर नहीं झुकाया और हिन्द के सभी राजकुमारों में अकेले ही उन्होंने अपना सम्मान कायम रखा।' महाराणा प्रताप की वीरता और सच्चे राष्ट्रनायक के बलिदान पर आज उनकी पुण्‍यतिथि (Maharana Pratap Punyatithi 2022) पर हम सभी कृतज्ञ है।
Maharana Pratap



और भी पढ़ें :