जानिए विवेकानंद से जुड़ें प्रमुख प्रश्नों के उत्तर

Swami Vivekananda
- अथर्व पंवार
स्वामी क्यों प्रसिद्ध है?
वे आधुनिक के युवा थे जिन्होंने अध्यात्म और मानव जीवन का सहसम्बन्ध बताया। हिन्दू धर्म को उन्होंने पूरे विश्व से परिचय करवाया। उन्होंने शिकागो में विश्व सर्व धर्म सम्मेलन में भारत और हिन्दू धर्म का प्रतिनिधित्व किया उनके अपने ऐतिहासिक भाषण का आरम्भ "अमेरिका के भाइयों और बहनो" के सम्बोधन से किया जिसने सबको मोहित कर दिया था। जिसके लिए वह प्रसिद्ध हो गए।

स्वामी विवेकानंद पढ़ाई कैसे करते थे?
विवेकानंद ध्यान साधना करते थे जिसके कारण उनकी एकाग्रता बहुत तीव्र थी। वह बहुत बुद्धिमान भी थे। इसी कारण वे एक ही दिन में 10-10 किताबें पढ़ लेते थे और उन्हें किस लाइन में क्या लिखा है और किस पृष्ठ पर क्या लिखा है यह सभी याद रहता था।

स्वामी विवेकानंद ने शादी क्यों नहीं की?
उन्हें विलासिता पूर्ण और सांसारिक मोहमाया का जीवन न जीकर ज्ञान की खोज में अपना जीवन समर्पित कर दिया था इसीलिए उन्होंने शादी नहीं की।
विवेकानंद ने देश के लिए क्या किया?
उन्होंने विदेशों में भारत के दर्शन (philosophy) का प्रचार-प्रसार किया। अनेक स्थानों पर रामकृष्ण मिशन के माध्यम से जनकल्याण किया। इसी के साथ अपने संदेशों से वह युवाओं की चेतना को जागृत करते थे, उनका मानना था कि युवा ही भारत का भविष्य हैं।
स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन
उठो, जागो और तब तक मत रुको जबतक लक्ष्य की प्राप्ति न हो जाए।

स्वामी विवेकानंद का साहित्य और दर्शन
उन्होंने वेदांत, बुद्ध और गीता के दर्शन का अध्ययन किया। इनका उनपर गहरा प्रभाव पड़ा। उन्होंने अपने दर्शन को 4 योग - भक्ति योग, ज्ञान योग, कर्म योग और राज योग में विभाजित किया। जिन्हें आज पुस्तकों के माध्यम से पढ़ा जा सकता है। इसी के साथ उन्होंने हिन्दू धर्म नाम की भी एक पुस्तक लिखी जिसमें धर्म की आध्यात्मिक अवधारणा को प्रस्तुत किया।



और भी पढ़ें :