0

चाणक्य की बातें : युवाओं को 5 गलतियां कभी नहीं करना चाहिए

मंगलवार,जुलाई 5, 2022
0
1
सावन (श्रावण, Shravan Maas) भगवान शिव जी की आराधना का महीना हैं। यह भोलेनाथ का प्रिय त्योहार है, इस पूरे माह भगवान शिव प्रसन्न रहते हैं और अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं...। शिव प्रसन्न होकर सफलता, प्रसन्नता और संपन्नता का शुभ आशीष देते ...
1
2
भगवान विष्णु की पूजा और प्रार्थना तथा विष्णुसहस्रनाम का पाठ करने वाले व्यक्ति को यश, सुख-ऐश्वर्य, संपन्नता, सफलता, आरोग्य एवं सौभाग्य प्राप्त होता हैं तथा सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। वैसे तो श्रीविष्णु के नामों का पाठ प्रतिदिन किया जा सकता ...
2
3
Vaivaswat Saptami 2022 हर साल आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को वैवस्वत सप्तमी मनाई जाती है। मत्स्य पुराण के अनुसार सत्यव्रत नाम के राजा एक दिन कृतमाला नदी में जल से तर्पण कर रहे थे।
3
4
आषाढ़ शुक्ल सप्तमी को भगवान सूर्य के वरूण रूप की पूजा करने की भी पंरपरा है। इसे सूर्य सप्तमी व्रत भी कहा जाता है। सप्तमी तिथि पर सूर्योदय से पहले उठकर भगवान सूर्य को जल चढ़ाकर विशेष पूजा करनी चाहिए।
4
4
5
स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी सन्‌ 1863 को कोलकाता में हुआ। मात्र 39 वर्ष की उम्र में 4 जुलाई 1902 को उनका निधन हो गया। आओ जानते हैं कि स्वामी विवेकानंद क्यों प्रसिद्ध है?
5
6
Why did Swami Vivekananda not marry: भातीय संत और प्रसिद्ध दार्शनिक स्वामी विवेकानंद ने 39 की उम्र में ही देह का त्याग कर दिया था। आखिर उन्होंने विवाह क्यों नहीं किया था?
6
7
स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी सन्‌ 1863 को कोलकाता में हुआ। मात्र 39 वर्ष की उम्र में 4 जुलाई 1902 को उनका निधन हो गया। आओ संक्षिप्त में जानें स्वामी विवेकानंद का साहित्य और दर्शन।
7
8
कैसे अवतरित हुई थी मां ताप्ती, जानिए ताप्ती नदी की कथा इस वर्ष ताप्ती जयंती 6 जुलाई, बुधवार को मनाई जा रही है। प्रतिवर्ष ताप्ती जन्मोत्सव आषाढ़ शुक्ल सप्तमी को मनाया जाता है। यह देश की प्रमुख नदियों में से एक है। आइए पढ़ें पुराणों में ताप्तीजी की ...
8
8
9
Swami Vivekananda Jayanti : स्वामी विवेकानंद की आज पुण्यतिथि है। मात्र 39 वर्ष की उम्र में 4 जुलाई 1902 को उनका निधन हो गया था। आओ जानते हैं उनकी पुण्‍यतिथि पर उनका संक्षिप्त जीवन परिचय।
9
10
सुंदर कांड (sundar kand) का पाठ मन को शांति देने तथा शुभ ऊर्जा बढ़ाने का काम करता है। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार सुंदर कांड का पाठ हम सभी को सुनना और पढ़ना चाहिए क्योंकि यह पाठ सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाला तथा किसी भी प्रकार की परेशानी या संकट ...
10
11
इस बार हरिशयनी (देवशयनी) एकादशी 10 जुलाई 2022, दिन रविवार को मनाई जा रही है। धार्मिक महत्व के अनसार देवशयनी एकादशी के साथ ही 4 महीने के लिए भगवान श्री विष्णु शयनगार में चले जाते हैं
11
12
shravan or savan maas- सावन 2022 कब से है, सावन में कौन सी 3 राशियों पर होते हैं भोलेनाथ प्रसन्न, जानिए इस आलेख में....
12
13
यहां प्रस्तुत है 15 शिव शंभु के ऐसे मंत्र जिनका जप जीवन में हर तरह की शुभता, अनुकूलता और प्रगति लाता है।
13
14
Difference between Shiva Purana and Vishnu Purana : हिन्दू धर्म के अनुसार दो तरह के ग्रंथ है श्रुति और स्मृति। श्रुति के अंतर्गत वेद आते हैं और स्मृति के अंतर्गत पुराण। पुराणों की संख्या कुल 18 है जिनमें से अधिकतर वेदव्यासजी ने लिखे हैं। उन्हीं में ...
14
15
"ॐ जय शिव ओंकारा" की आरती आप शिव जी मानते आए हैं लेकिन सच तो है कि यह केवल शिवजी की आरती नहीं है बल्कि ब्रह्मा विष्णु महेश तीनों की आरती है ...
15
16
माता पार्वती ने भगवान शिव से पूछा, गंगा में डुबकी लगाने से क्या सच में धुलते हैं पाप? गंगा स्नान से पापों का नाश होना बतलाया गया है, परंतु नित्य गंगा स्नान करने वाले लोग भी पाप में प्रवृत्त होते देखे जाते हैं।
16
17
श्रावण माह में जिसकी जैसी मनोकामना होती है वह वैसे शिवलिंग की पूजा करता है। आओ जानते हैं कि श्रावण माह में प्रमुख रूप से किस शिवलिंग की पूजा सबसे ज्यादा प्रभावकारी होती है।
17
18
Hinduo ka kaunsa war he : शिव के मंदिर में सोमवार, विष्णु के मंदिर में रविवार, हनुमान के मंदिर में मंगलवार, शनि के मंदिर में शनिवार और दुर्गा के मंदिर में बुधवार और काली व लक्ष्मी के मंदिर में शुक्रवार को जाने का उल्लेख मिलता है। लेकिन सवाल उठता है ...
18
19
Kamakhya Devi Mandir : कामाख्या देवी मंदिर देश के 52 शक्तिपीठों में सबसे प्रसिद्ध है। कामाख्या देवी शक्तिपीठ असम की राजधानी दिसपुर के पास गुवाहाटी से 8 किलोमीटर दूर कामाख्या में है। यह शक्तिपीठ तंत्र साधना के लिए प्रसिद्ध है। कामाख्या से 10 किलोमीटर ...
19