0

सुंदर कांड आपकी शुभ ऊर्जा को बढ़ाता है, मन को शांति देता है.... जानिए क्यों सुनना और पढ़ना चाहिए सुंदर कांड

रविवार,जुलाई 3, 2022
0
1
इस बार हरिशयनी (देवशयनी) एकादशी 10 जुलाई 2022, दिन रविवार को मनाई जा रही है। धार्मिक महत्व के अनसार देवशयनी एकादशी के साथ ही 4 महीने के लिए भगवान श्री विष्णु शयनगार में चले जाते हैं
1
2
shravan or savan maas- सावन 2022 कब से है, सावन में कौन सी 3 राशियों पर होते हैं भोलेनाथ प्रसन्न, जानिए इस आलेख में....
2
3
यहां प्रस्तुत है 15 शिव शंभु के ऐसे मंत्र जिनका जप जीवन में हर तरह की शुभता, अनुकूलता और प्रगति लाता है।
3
4
Difference between Shiva Purana and Vishnu Purana : हिन्दू धर्म के अनुसार दो तरह के ग्रंथ है श्रुति और स्मृति। श्रुति के अंतर्गत वेद आते हैं और स्मृति के अंतर्गत पुराण। पुराणों की संख्या कुल 18 है जिनमें से अधिकतर वेदव्यासजी ने लिखे हैं। उन्हीं में ...
4
4
5
"ॐ जय शिव ओंकारा" की आरती आप शिव जी मानते आए हैं लेकिन सच तो है कि यह केवल शिवजी की आरती नहीं है बल्कि ब्रह्मा विष्णु महेश तीनों की आरती है ...
5
6
माता पार्वती ने भगवान शिव से पूछा, गंगा में डुबकी लगाने से क्या सच में धुलते हैं पाप? गंगा स्नान से पापों का नाश होना बतलाया गया है, परंतु नित्य गंगा स्नान करने वाले लोग भी पाप में प्रवृत्त होते देखे जाते हैं।
6
7
श्रावण माह में जिसकी जैसी मनोकामना होती है वह वैसे शिवलिंग की पूजा करता है। आओ जानते हैं कि श्रावण माह में प्रमुख रूप से किस शिवलिंग की पूजा सबसे ज्यादा प्रभावकारी होती है।
7
8
Hinduo ka kaunsa war he : शिव के मंदिर में सोमवार, विष्णु के मंदिर में रविवार, हनुमान के मंदिर में मंगलवार, शनि के मंदिर में शनिवार और दुर्गा के मंदिर में बुधवार और काली व लक्ष्मी के मंदिर में शुक्रवार को जाने का उल्लेख मिलता है। लेकिन सवाल उठता है ...
8
8
9
Kamakhya Devi Mandir : कामाख्या देवी मंदिर देश के 52 शक्तिपीठों में सबसे प्रसिद्ध है। कामाख्या देवी शक्तिपीठ असम की राजधानी दिसपुर के पास गुवाहाटी से 8 किलोमीटर दूर कामाख्या में है। यह शक्तिपीठ तंत्र साधना के लिए प्रसिद्ध है। कामाख्या से 10 किलोमीटर ...
9
10
पौराणिक मान्यतानुसार आषाढ़ माह में वर्षा के कारण जल में जीव-जंतुओं की उत्पत्ति अधिक बढ़ जाती है, अत: इस माह स्वच्छ जल ही पीना चाहिए तथा इसकी स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना चाहिए,
10
11
Gupta Navaratri ki katha 30 जून से आषाढ़ महीने की गुप्त नवरात्रि आरंभ हो गई है। गुप्त नवरात्रि से जुड़ी पौराणिक कथा के अनुसार एक समय ऋषि श्रृंगी भक्तजनों को दर्शन दे रहे थे। अचानक भीड़ से एक स्त्री निकलकर आई और करबद्ध होकर ऋषि श्रृंगी से बोली कि ...
11
12
Gupt Navratri 2022 30 जून से 8 जुलाई तक गुप्त नवरात्रि पर्व मनाया जा रहा है। साधारण व्यक्ति भी गुप्त नवरात्रि में मां दुर्गा की आराधना करते हैं। माना जाता है कि इस दौरान मां की पूजा करने से जीवन के सभी संकटों का नाश होता है। तथा घर में सुख-समृद्धि ...
12
13
Jagannath puri rath yatra : 1 जुलाई 202 शुक्रवार से ओड़ीसा के समुद्री तट पर बसे पुरी शहर में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जाएगी। यह यात्रा कई रस्मों के साथ करीब 9 दिनों तक जारी रहती है। आओ जानते हैं कि आखिर इसके पिछे का क्या है पौराणिक कारण या ...
13
14
पुरी का श्री जगन्नाथ मंदिर (Puri Jagannath Temple) एक हिन्दू मंदिर है, जो भगवान जगन्नाथ यानी श्री कृष्ण को समर्पित है। यह भक्तों की आस्था के केंद्र के रूप में विश्वभर में प्रसिद्ध है।
14
15
अमरनाथ की यात्रा आषाढ़ माह के मध्य में प्रारंभ होती है जो सावन माह के मध्य तक चलती है। यह तो सभी जानते हैं कि यहां पर बर्फ का शिवलिंग निर्मित होता है, लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि यह शिवलिंग कैसे बनता है? और वह भी ठोस बर्फ का शिवलिंग।
15
16
Mysteries of Jagannath Temple : भारतीय राज्य ओड़ीसा में हिन्दुओं की प्राचीन और पवित्र 7 नगरियों में से एक पुरी में स्थित जगन्नाथ मंदिर को बहुत ही प्राचीन माना जाता है। यहां पर प्रतिवर्ष आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की दूज से 9 रथयात्रा प्रारंभ होती है ...
16
17
Jagannath Puri Rath Yatra 2022 : ओड़ीसा के पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा का आयोजन प्रतिवर्ष आषाढ़ माह की शुक्ल द्वितीया को होता है और इसका समापन एकादशी के दिन होता है। रथयात्रा जगन्नाथ मंदिर से निकलकर 3 किलोमीटर दूर गुंडीजा मंदिर पहुंचती है। ...
17
18
Jagannath Rath yatra 2022: ओड़ीसा के पुरी में निकलने वाली विश्‍व प्रसिद्ध जगन्नाथ यात्रा इस बार 1 जुलाई दिन शुक्रवार से शुरू हो रही है। यह हिन्दू कैलेंडर के अनुसार प्रतिवर्ष आषाढ़ माह की द्वितीया तिथि को निकलती है। इस यात्रा में शामिल होने के लिए ...
18
19
पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर भारत के चार पवित्र धामों में से एक है। यह मंदिर करीब 800 वर्ष से भी अधिक समय से विद्यमान है। प्रतिवर्ष आषाढ़ माह में ओडीसा के समुद्र के किनारे बसे पुरी शहर में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा का आयोजन होता है। इस विश्‍व प्रसिद्ध ...
19