इंदौर की प्रसिद्ध सेंव, जानिए स्वाद और प्रकार

What are the types of Sev
Last Updated: शनिवार, 19 फ़रवरी 2022 (17:02 IST)
हमें फॉलो करें
What are the types of Sev
इंदौर। रतलाम की तरह इंदौर की सेव भी बहुत प्रसिद्ध है। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से शनिवार को एशिया के सबसे बड़े CNG प्लांट का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि इंदौर का नाम आते ही सामने आता है नागरिक कर्तव्य। जितने अच्छे यहां के लोग होते है उतना अच्छा उन्होंने शहर बना दिया। यहां के लोग सेंव के ही शौकिन नहीं है। उन्हें अपने शहर की सेवा करना भी आता है। आओ इसी संदर्भ में जानते हैं इन्दौर शहर की सेव ( indori sev) के प्रकार और स्वाद के बारे में।


सेंव का स्वाद (Sev Taste)
:
साधारण सेंव का स्वाद नमकीन, चरका और तीखा होता है, परंतु आजकल कई तरह के स्वाद के लिए इसमें कई तरह के फ्लेवर का उपयोग किया जाता है। जैसे, पुदिना, टमाटर, लहसुन, प्याज आदि। आमतौर पर सेंव बेसन की बनती है जिसमें मिर्च, लौंग आदि मसाले मिलाकर इसे बनाया जाता है। आओ जानते हैं अब इसके प्रमुख प्रकार।

1. लौंग की सेव ( long sev ): लौंग की सेव बहुत प्रसिद्ध है जिसमें बेसन के साथलौंग के पावडर के साथ काली मिर्च और अन्य मसाले मिलाते हैं। इसका तीखा और स्पाइसी होता है। इसे खाने में बड़ा मजा आता है। अक्सर इसे चाय के साथ खाया जाता है। इस तरह की सेव को इंदौरी के साथ ही रतलामी भी कहा जाता है।
2. मसाला सेव ( masala sev) : यह सेव थोड़ी तिखी होती है। आमतौर पर इसे पोहे, उपमा, खिचड़ी आदि में ऊपर से डालकर खाया जाता है। इस सेव में लौंग के साथ ही काली मिर्च, अजवाइन, लाल मिर्च और अन्य मसालों का उपयोग होता है।
Poha
3. आलू भुजिया सेव (Aloo Bhujia Sev) : बेसन में आलू मैश करके मिलाकर यह सेंव बनाई जाती है। इसे भी पोहा में उपर से डालकर पोहे का स्वाद बढ़ाया जाता है। इसे पूरा भारत बड़े चाव से खाता है।

4. बेसन भुजिया (besan Bhujia Sev) : इसमें बेसन के स्पाइजी टुकड़े डालकर लौंग और काली मिर्च से बनाया जाता है। यह भी दिखने में आलू भुजिया की तरह ही नजर आती है।

5. नायलॉन सेव (Nylon Sev): इसे बारीक पतली और फीकी सेव भी कहते हैं, जिसे बेसन से बनाया जाता है। इसका उपयोग अक्सर पानी पुरी और पोहा में होता है। चाट क्रंची टेस्ट लाने के लिए इसको उपर से डाला जाता है।

6. राजगीरा सेव ( Rajgira Sev): सेव सिर्फ बेसन से ही नहीं राजगीरे के आटे से भी बनाई जाती है। इसे उपवास के दौरान खाया जाता है। इसका स्वाद भी मजेदार होता है।



और भी पढ़ें :