0

रविवार, 26 जून का दैनिक राशिफल, आज क्या कहती है आपकी राशि, जानिए 12 राशियां

शनिवार,जून 25, 2022
0
1

26 जून 2022 : आपका जन्मदिन

शनिवार,जून 25, 2022
26 June Janmdin दिनांक 26 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 8 होगा। यह ग्रह सूर्यपुत्र शनि से संचालित होता है। आप धीर गंभीर, परोपकारी, कर्मठ होते हैं। आप भौतिकतावादी, अद्भुत शक्तियों के मालिक हैं।
1
2
शुभ विक्रम संवत्-2079, शक संवत्-1944, हिजरी सन्-1443, इस्वी सन्-2022 संवत्सर नाम-राक्षस अयन-उत्तरायण मास-आषाढ़ पक्ष-कृष्ण ऋतु-वर्षा वार-रविवार तिथि (सूर्योदयकालीन)-त्रयोदशी नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)-कृत्तिका योग (सूर्योदयकालीन)-धृति करण ...
2
3
Devshayani Ekadashi 2022 : आषाढ़ माह में शुक्ल पक्ष की एकादशी को आषाढ़ी एकादशी कहते हैं। इसे देवशयनी एकादशी, हरिशयनी और पद्मनाभा एकादशी आदि नाम से भी जाना जाता है। अंग्रेजी माह के अनुसार इस साल देवशयनी एकादशी 10 जुलाई 2022 को आ रही है। कहते हैं कि ...
3
4
july mah 2022 ka rashifal : जुलाई 2022 में 5 ग्रहों परिवर्तन होगा और शनि एवं गुरु वक्री चाल चलेंगे। आओ जाने हैं कि इस माह में मेष से लेकर मीन तक कैसा रहेगा राशियों का भविष्‍यफल।
4
4
5
July 2022 planetary change: जुलाई माह में कुल 5 ग्रहों का गोचर और एक महत्वपूर्ण ग्रह की वक्री चाल होगी। आओ जानते हैं जुलाई माह 2022 के ग्रह परिवर्तन। उल्लेखनीय है कि इस वक्त अप्रैल माह से ही शनि कुंभ में, गुरु मीन में, राहु मेष में और केतु तुला में ...
5
6
Fasts and festivals of July 2022: जून और जुलाई माह के मध्य में आषाढ़ माह चल रहा होता है। आषाढ़ माह में ही जहां देव सो जाते हैं वहीं चातुर्मास भी प्रारंभ हो जाते हैं। आओ जानते हैं जुलाई माह 2022 के महत्वपूर्ण व्रत और त्योहार की एक लिस्ट।
6
7
Jagannath puri rath yatra : 1 जुलाई 202 शुक्रवार से ओड़ीसा के समुद्री तट पर बसे पुरी शहर में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जाएगी। यह यात्रा कई रस्मों के साथ करीब 9 दिनों तक जारी रहती है। आओ जानते हैं कि आखिर इसके पिछे का क्या है पौराणिक कारण या ...
7
8
किसी भी व्यक्ति की जन्मकुंडली में मंगल लग्न, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम और द्वादश भाव में से किसी भी एक भाव में है तो यह 'मांगलिक दोष' कहलाता है। कुछ विद्वान इस दोष को तीनों लग्न अर्थात लग्न के अतिरिक्त चंद्र लग्न, सूर्य लग्न और शुक्र से भी देखते हैं। ...
8
8
9
Vastu benefits of rain water: बारिश के पानी के कई सारे फायदे होते हैं। वास्तु के अनुसार भी बारिश के पानी लाभ है। जी हां, बारिश के पानी की मदद से आप जीवन में बढ़ रहे कर्ज को कम कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं कैसे करें-
9
10
अगर आप भी सोते समय कुछ ऐसी चीजें अपने सिरहाने रखकर सोते हैं, जो जीवन में नकारात्मकता और अशुभता को बढ़ाती है। आइए जानें वो ऐसी चीजें जिन्हें सोते समय अपने पास रखना आपकी परेशानी को बढ़ा सकता हैं। जानिए 5 खास बातें-
10
11
केले का पेड़ काफी पवित्र माना जाता है और कई धार्मिक कार्यों में इसका प्रयोग किया जाता है। दक्षिण भारत में केले बहुतायत में उत्पन्न होते हैं। कहते हैं कि केले में साक्षात विष्णु और लक्ष्मी का वास होता है।
11
12
Halharini Amavasya: आषाढ़ माह की अमावस्या यानी हलहारिणी अमावस्या कब है? 28 या 29 जून 2022 को। साथ ही जानिए अमावस्या के शुभ मुहूर्त और इस अमावस्या का महत्व।
12
13
25 जून 2022 शनिवार को आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की द्वादशी तिथि है। इस तिथि के देवता भगवान विष्णु है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से मनुष्य सदा विजयी होकर समस्त लोक में पूज्य हो जाता है। यह यशप्रदा तिथि है। आषाढ़ माह के देवता वामन है। आओ जानते हैं ...
13
14
Mangal rahu yuti 2022 : 27 जून 2022 को मंगल ग्रह मेष राशि में प्रवेश करेगा जहां पहले से ही राहु विराजमान है। मंगल और राहु की युति मिलकर अंगारक योग बनाती है। यानी मंगल ग्रह राहु के साथ विराजमान होगर और क्रूर हो जाता है, जिसके चलते देश और दुनिया में ...
14
15
Masik Shivratri 2022: शिवरात्रि और महाशिवरात्रि के अलावा हर माह मासिक शिवरात्रि आती है। प्रति माह कृष्‍ण पक्ष की जो चतुर्दशी होती है उसे मासिक शिवरात्रि कहते हैं। इस दिन व्रत रखकर भगवान शिव की विधिवत पूजा करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है। इस बार ...
15
16
Aashadh gupt navratri 2022: वर्ष में चार नवरात्रि आती है:- माघ, चैत्र, आषाढ और अश्विन। चैत्र माह की नवरात्रि को बड़ी या बसंत नवरात्रि और अश्विन माह की नवरात्रि को छोटी या शारदीय नवरात्रि कहते हैं। दोनों के बीच 6 माह की दूरी है। बाकी बची दो आषाढ़ और ...
16
17
Puja ghar vastu : घर का पूजाघर या मंदिर बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इसमें नियम अनुसार ही मूर्तियां, पूजा सामग्री या अन्य वस्तुएं रखना चाहिए। घर के मंदिर या पूजाघर में से तुरंत हटाएं ये 5 वस्तुएं और रखें 7 पवित्र वस्तुएं।
17
18
Ravi Pradosh: प्रत्येक माह में दो प्रदोष होते हैं। त्रयोदशी तिथि को प्रदोष कहते हैं। इस दिन भगवान शिव के साथ ही माता पार्वती की पूजा अर्चना की जाती है। जो प्रदोष जिस वार को आता है उसे उस वार के नाम से जाना जाता है। हर प्रदोष का अलग ही महत्व होता है। ...
18
19
Pradosh vrat june 2022 : हर माह में दो प्रदोष व्रत रखे जाते हैं। शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष का प्रदोष। त्रयोदशी तिथि के दिन यह व्रत रखा जाता है। आओ जानते हैं अगला प्रदोष व्रत कब है, पूजा के मुहूर्त और विधि के साथ ही मंत्र और महत्व भी जानें।
19