0

Pitru Paksha 2021 : श्राद्ध पक्ष शुरू, जानिए पूजा विधि, मंत्र, कथा और तिथियां

रविवार,सितम्बर 19, 2021
0
1
पारिवारिक सुख-शांति बनी रहेगी। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से सहयोग प्राप्त होगा। पूजा-पाठ में मन लगेगा। तीर्थदर्शन हो सकते हैं। विवेक का प्रयोग करें,
1
2

20 सितंबर 2021 : आपका जन्मदिन

रविवार,सितम्बर 19, 2021
दिनांक 20 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 2 होगा। आप अत्यधिक भावुक होते हैं। आप स्वभाव से शंकालु भी होते हैं। दूसरों के दु:ख-दर्द से आप परेशान हो जाना आपकी कमजोरी है।
2
3
शुभ विक्रम संवत्-2078, शक संवत्-1943, हिजरी सन्-1442, ईस्वी सन्-2021 अयन-दक्षिणायण मास-भाद्रपद पक्ष-शुक्ल संवत्सर नाम-आनन्द ऋतु-शरद वार-सोमवार तिथि (सूर्योदयकालीन)-पूर्णिमा नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)-पूर्वाभाद्रपद योग (सूर्योदयकालीन)-शूल करण ...
3
4
हर साल भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष में भाद्रपद पूर्णिमा व्रत किया जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार इस दिन भगवान सत्यनारायण का पूजन किया जाता है। इस व्रत
4
4
5
श्राद्ध पक्ष की लोककथा के अनुसार जोगे तथा भोगे दो भाई थे। दोनों अलग-अलग रहते थे। जोगे धनी था और भोगे निर्धन। दोनों में परस्पर बड़ा प्रेम था।
5
6
आपके द्वारा किए गए श्राद्ध ( Shraddha Pitri Paksha ) से क्या आपके पितृ सचमुच तृप्त होते हैं और यदि होते हैं तो कैसे होते हैं। यह सवाल आपके मन में जरूर होगा। आओ जानते हैं कि इसका उत्तर क्या हो सकता है।
6
7
इस बार 20 सितंबर 2021, दिन सोमवार, भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा को सोमवती पूर्णिमा मनाई जाएगी। यह पूर्णिमा पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र, शूल योग और विष्टी करण में आ रही है।
7
8
20 सितंबर 2021, दिन सोमवार, तिथि भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से पितृ पक्ष आरंभ हो रहा है। इस पक्ष में अगले सोलह दिनों तक पूर्वजों का तर्पण किया जाएगा।
8
8
9
इस बार पितृ पक्ष (Pitru Paksha 2021 Start Date) 20 सितंबर 2021, सोमवार से प्रारंभ होकर 6 अक्टूबर 2021, बुधवार को समापन होगा। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार श्राद्ध पक्ष भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण अमावस्या तक कुल 16 दिनों तक चलता है। उक्त 16 ...
9
10
भाद्रपद की पूर्णिमा से आश्विन माह की कृष्ण अमावस्या अर्थात सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या तक 16 दिन तक श्राद्ध पक्ष रहता है। इस बार 20 सितंबर 2021 से श्राद्ध प्रारंभ हो रहे हैं। सभी जाने और अनजाने पितरों हेतु इस दिन निश्चित ही श्राद्ध किया जाना चाहिए। इस ...
10
11
इस बार पंचांग के अनुसार पितृ पक्ष (Pitru Paksha 2021 Start Date) 20 सितंबर 2021, सोमवार को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से आरंभ होंगे। पितृ पक्ष का समापन 6 अक्टूबर 2021, बुधवार को आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को होगा। ...
11
12
हिन्दू कैलेंडर के अनुसार श्राद्ध पक्ष भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण अमावस्या तक कुल 16 दिनों तक चलता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 20 सितंबर 2021, सोमवार (Pitru Paksha 2021 Start Date) को आरंभ होंगे जिसका समापन 6 अक्टूबर 2021, बुधवार को ...
12
13
इस बार पितृ पक्ष 20 सितंबर 2021 से प्रारंभ हो रहे हैं। प्रतिवर्ष भाद्रपद की पूर्णिमा से श्राद्ध पक्ष शुरू होते हैं जो 16 दिनों तक चलते हैं। यदि आपकी कुंडली में पितृदोष है, हर तरह से प्रगति रुकी हुई है या आप जीवन में मृत्यु तुल्य कष्ट झेल रहे हैं तो ...
13
14
हिन्दू कैलेंडर के अनुसार श्राद्ध पक्ष भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण अमावस्या तक कुल 16 दिनों तक चलता है। इस बार पंचांग के अनुसार पितृ पक्ष (Pitru Paksha 2021 Start Date) 20 सितंबर 2021, सोमवार को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि ...
14
15
अच्छी समझ और आपसी सम्मान के चलते नवविवाहित जोड़े एक-दूसरे के साथ संबंधों को मजबूत करने में सफल होंगे। यात्राओं पर जाने के योग बन रहे हैं। किसी खूबसूरत जगह ड्राइव पर जाना एक अच्छा ब्रेक साबित होगा।
15
16
इस बार पंचांग के अनुसार पितृ पक्ष ( Pitru Paksha 2021 Start Date) 20 सितंबर 2021, सोमवार को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से आरंभ होंगे। पितृ पक्ष का समापन 6 अक्टूबर 2021, बुधवार को आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को होगा। ...
16
17
यह आरती करने से श्री हरि विष्णु प्रसन्न होकर खुशहाल जीवन का आशीर्वाद देते हैं। यहां पढ़ें ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे...
17
18
पितरों की मुक्ति हेतु किए जाने वाले कर्म तर्पण, भोज और पिंडदान को उचित रीति से नदी के किनारे किया जाता है। इसके लिए देश में कुछ खास स्थान नियुक्त हैं। देश में श्राद्ध पक्ष के लिए लगभग 55 स्थानों को महत्वपूर्ण माना गया है जिनमें से 12 स्थान सबसे खास ...
18
19
भगवान विष्णु स्वयं भी चौदह रूपों में प्रकट हुए थे, जिससे वे अनंत प्रतीत होने लगे। इसलिए अनंत चतुर्दशी का व्रत भगवान विष्णु को प्रसन्न करने और अनंत फल देने वाला माना गया है।
19