रंगपंचमी के दिन गोवा में मनाते हैं शिमिगो उत्सव, जानिए 10 रोचक बातें

Last Updated: शनिवार, 19 मार्च 2022 (13:17 IST)
हमें फॉलो करें
सांकेतिक चित्र 2022: 22 मार्च 2022 को पूरे देश में रंगपंचमी का त्योहार मनाया जाएगा। हालांकि इस त्योहार के स्थानीय स्तर पर भिन्न भिन्न रूप देखने को मिलेंगे। इसी तरह गोपराष्ट्र अर्थात गोवा में भी इस उत्सव को वहां की स्थानीय संस्कृति के अनुसार मनाया जाता है। रंगपंचमी के दिन वहां पर शिमिगो उत्सव की धूम रहती है। आओ जानते हैं कि इस उत्सव की 10 रोचक बातें।


1. शिमिगो उत्सव : गोवा में होली का उत्सव होलिका दहन के 5 दिन बाद मनाया जाता है यानी रंगपंचमी के दिन वहां रंग उत्सव मनाया जाता है जिसे स्थानीय भाषा में शिमिगो कहते हैं। इसे शिमगो, शिमगा, के भी नाम से भी जाना जाता है। हालांकि उत्सव की शुरुआत तो होलिका दहन से ही हो जाती है। पहले दिन ग्राम देवता को नहलाया जाता है और केसरिया रंग के कपड़े पहनाए जाते हैं। 5वें दिन को 'रंग पंचमी' कहा जाता है।
2. कोकणस्थ एवं मछुआरों के लिए खास है यह उत्सव : यह त्योहार यहां के मछुआरों के बीच खासा लोकप्रिय है। इस त्योहार में रंगों के अलावा लोग जमकर नाच-गाना, खाना-पीना और आमोद-प्रमोद करते हैं।
गोवा में कोंकण भाषा बोली जाती है। यह कोकणस्थ लोगों का त्योहार है। ग्रामीण लोग भी यह त्योहार मनाते हैं।

3. गोवा के बाहर भी है इस उत्सव की धूम : छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, तेलंगाना और महाराष्ट्र के कुछ हिस्से में गोंड़ी भाषी लोग होली को शिमगा सगगुम पाबुन कहते हैं। यहां के स्थानीय भाषा में शिवजी को शंभू शेक कहा जाता है।
4. दो पर्व है महत्वपूर्ण : गोवा में माघ मास की पूर्णिमा और फाल्गुन की पूर्णिमा तक अनेक त्योहार मनाए जाते हैं। इनमें शंभू शेक नरका (महाशिवरात्रि) और शिमगा प्रमुख हैं।


5. ननवर्ष के आगमन की खुशी में मनाते हैं त्योहार : यह त्योहार के आगमन की खुशी में भी मनाते हैं। वर्ष के अंतिम माह फाल्गुन की पूर्णिमा और नए वर्ष के प्रथम दिन चैत्र माह के परेवा का संगम होता है और इसके बाद उत्सव मनाते हैं।
6. सात्विक भोजन : इस त्योहार के दौरान, लोग मांसाहारी भोजन और शराब के सेवन से दूर हो जाते हैं।

7. योद्धाओं कर उत्सव : शिगमोत्सव का त्यौहार रंग, वेशभूषा, नृत्य, संगीन और परेड के साथ मनाया जाता है। परेड के माध्यम से पारंपरिक लोक नृत्य और पौराणिक दृश्यों का चित्रण किया जाता है।

8. रंग बिरंगी ड्रेस : उत्सव के दौरान लोग रंग-बिरंगी पोशाक पहनते हैं, रंगीन झंडे लहराते हैं और ढोल ताशा, बांसुरी जैसे संगीत वाद्ययंत्र बजाते हैं।ढोल पीटते हैं और बांसुरी बजाते हुए गाँव के मंदिरों में एकत्रित होते हैं।
9. झांकियां : गोवा में विभिन्न दिनों में विभिन्न स्थानों पर ये झांकियां निकाली जाती हैं।

10. हिन्दू कार्निवाल : इसे गोवा के हिन्दू लोग कार्निवल के नाम से भी जानते हैं। शिग्मो महोत्सव गोवा में रहने वाले हिन्दुओं के लिए सबसे बड़े समारोह में से एक है।



और भी पढ़ें :